एडवांस्ड सर्च

राफेल डील पर सीक्रेट ईमेल की कॉपी दिखाकर राहुल ने PM मोदी पर दागे ये 5 सवाल

राफेल डील को लेकर राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर कई सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि राफेल डील में एक ईमेल सामने आया है, जिसके तहत विदेश सचिव और एचएएल से पहले राफेल डील के बारे में अनिल अंबानी को पता था और वो फ्रांस के रक्षा मंत्री से क्या डील कर रहे थे?

Advertisement
कुबूल अहमदनई दिल्ली, 12 February 2019
राफेल डील पर सीक्रेट ईमेल की कॉपी दिखाकर राहुल ने PM मोदी पर दागे ये 5 सवाल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी

राफेल डील को लेकर मोदी सराकर मंगलवार को सीएजी रिपोर्ट संसद में पेश करने जा रही है. वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इससे पहले ही मोदी सरकार पर कई सवाल खड़े किए हैं. उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कहा कि राफेल डील में एक ईमेल सामने आया है, जिसके तहत विदेश सचिव और एचएएल से पहले राफेल डील के बारे में अनिल अंबानी को पता था और वो फ्रांस के रक्षा मंत्री से क्या डील कर रहे थे? राहुल ने इस तरह से पांच सवाल खड़े किए हैं.

राफेल पर राहुल के पांच सवा-

1. राहुल गांधी ने कहा कि राफेल डील के एमओयू साइन होने से 10 दिन पहले अनिल अंबानी को कैसे पता चला कि कोई डील हो रही है. जबकि न तो डिफेंस मिनिस्टर को मालूम था, न ही एचएएल को और न ही विदेश मंत्री को.

2. राहुल ने कहा कि फ्रांस के रक्षा मंत्री के ऑफिस में अनिल अंबानी गए थे. मीटिंग में अंबानी ने कहा था कि जब पीएम आएंगे तो एक एमओयू साइन होगा, जिसमें अनिल अंबानी का नाम होगा.

3. राहुल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अनिल अंबानी के मिडिलमैन की तरह काम कर रहे थे.

4. राहुल गांधी ने कहा कि पीएम मोदी ने गोपनियता कानून का उल्लंघन किया है. पीएम ने राष्ट्रीय सुरक्षा से खिलवाड़ किया है. प्रधानमंत्री के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई होनी चाहिए.

5. राहुल गांधी ने सवाल किया कि मोदी राफेल मामले को क्यों दबाना और किसे बचाना चाहते हैं. इसीलिए राफेल मामले पर जेपीसी से बच रहे हैं. राहुल ने कहा कि CAG का मतलब 'चौकीदार ऑडिटर जनरल' रिपोर्ट है. हमारा काम सरकार पर दबाव बनाना है और कांग्रेस पार्टी अपना काम पूरे दम से कम कर रही है.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज प्रेस कान्फ्रेंस में राफेल मामले पर कई आरोप लगाए. मेल की कॉपी लहराते हुए राहुल गांधी ने कहा कि अब ये मामला सिर्फ भ्रष्टाचार का ही नहीं है बल्कि गोपनियता कानून के उल्लंघन का भी बनता है. ऐसे में कोई इस मामले में बच नहीं सकता है, जो लोग भी इस मामले में शामिल हैं. उन सभी को जेल जाना होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay