एडवांस्ड सर्च

कांग्रेस ने पीएम मोदी के अमेरिका दौरे से जोड़ी कॉरपोरेट टैक्स कटौती

कांग्रेस ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से कॉरपोरेट टैक्स में कटौती के ऐलान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की आगामी अमेरिकी दौरे से जोड़ा है. पार्टी का कहना है कि ये कटौती पीएम के दौरे को देखते हुए की गई है.

Advertisement
aajtak.in
आनंद पटेल नई दिल्ली, 20 September 2019
कांग्रेस ने पीएम मोदी के अमेरिका दौरे से जोड़ी कॉरपोरेट टैक्स कटौती प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो - GETTY)

  • कांग्रेस ने कहा- ये कटौती पीएम मोदी के दौरे को देखते हुए की गई
  • कांग्रेस का आरोप- कॉरपोरेट सेक्टर को खुश कर रही मोदी सरकार

कांग्रेस ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से कॉरपोरेट टैक्स में कटौती के ऐलान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगामी अमेरिकी दौरे से जोड़ा है. पार्टी ने आरोप लगाया कि यह कटौती पीएम के दौरे को देखते हुए की गई है.

लोकसभा में पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने इंडिया टुडे टीवी को बताया कि वित्त मंत्री का ऐलान पीएम नरेंद्र मोदी के ह्यूस्टन दौरे से ठीक पहले आया है और ह्यूस्टन को अमेरिका की ऊर्जा-राजधानी माना जाता है. चौधरी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार कॉरपोरेट सेक्टर को खुश कर रही है और दूसरी ओर आम आदमी के लिए कोई राहत नहीं है, वो भी ऐसे वक्त जब अर्थव्यवस्था संकट में है.

विदेशी कैसे करेंगे निवेश?

कांग्रेस नेता चौधरी ने आरोप लगाया कि कॉरपोरेट सेक्टर को जो कथित राहत दी गई है वो ये संदेश देने के लिए है कि देश की अर्थव्यवस्था जिस खस्ताहाल में जा चुकी है, वो स्थिति सरकार के नियंत्रण में हैं. चौधरी ने कहा, ‘अगर अमेरिका से ताजा निवेश आता है और पीएम इसे मजबूत कर पाते हैं तो हम इसका स्वागत करेंगे. लेकिन अभी की चिंता फंड का देश से बाहर जाना है.’ चौधरी के मुताबिक अगर घरेलू निवेशक ही अर्थव्यवस्था में विश्वास खो चुके हैं तो विदेशी कैसे निवेश करेंगे.

पश्चिम बंगाल के बेरहामपुर से कांग्रेस सांसद चौधरी ने कॉरपोरेट टैक्स में कटौती को लेकर सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा, 'ये बिना सोचे समझे लिया गया फैसला है. अर्थव्यवस्था की बदहाली से निपटने के लिए सरकार के पास कोई सतत नीति नहीं है. कॉरपोरेट सेक्टर को जो राहत दी गई है उसका फायदा आम आदमी तक नहीं पहुंचेगा.'

सांसद अधीर रंजन चौधरी के मुताबिक मोदी सरकार को सार्वजनिक निवेश पर फोकस करना चाहिए क्योंकि देश में बेरोजगारी से विकट स्थिति है और युवा भारी परेशानी में है. चौधरी ने कहा, 'यहां तक कि डॉ. मनमोहन सिंह भी सुझाव दे चुके हैं कि सरकार को विपक्ष से मंत्रणा करनी चाहिए, लेकिन सरकार को कोई परवाह नहीं है.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay