एडवांस्ड सर्च

PhD में प्रवेश लेना हुआ मुश्किल, UGC ने बदले नियम

यूजीसी ने पीएचडी में प्रवेश लेने के लिए अपनी वेबसाइट पर नियम डाले हैं, जिसके अनुसार पीएचडी में प्रवेश अब काफी मुश्किल होगा.

Advertisement
aajtak.in[Edited By: मोनिका गुप्ता]नई दिल्ली, 05 June 2017
PhD में प्रवेश लेना हुआ मुश्किल, UGC ने बदले नियम यूजीसी ने पीएचडी में प्रवेश के लिए वेबसाइट पर डाले नए नियम

यूजीसी ने पीएचडी में प्रवेश लेने के लिए अपनी वेबसाइट पर नियम डाले हैं, जिसके अनुसार पीएचडी में प्रवेश अब काफी मुश्किल होगा. इन नियमों के संशोधन के संबंध में, स्टैकहोल्डर 15 जून तक फीडबैक दे सकते हैं.

ड्राफ्ट रेगुलेशन ने सुझाव दिया है कि 'तृतीय श्रेणी संस्थान' के तहत आने वाली संस्थाएं उन उम्मीदवारों को भर्ती करेगी, जिन्होंने पीएचडी के लिए NET या SELT या SET परीक्षाए पास की हो.

यूनीवर्सिटी I क्या है?
यूजीसी के अनुसार, यूनीवर्सिटी I के लिए यदि 3.5 या उससे अधिक के स्कोर के साथ NAAC द्वारा मान्यता प्राप्त हो गई है. या फिर अगर उसने एनआईआरएफ के शीर्ष 50 संस्थानों में लगातार 2 साल तक रैंकिंग हासिल की हो.

यूनीवर्सिटी II क्या है?
यूनीवर्सिटी II के लिए NAAC द्वारा 3.01 और 3.4 9 के बीच के स्कोर के साथ मान्यता प्राप्त की हो. या फिर एनआईआरएफ 2 वर्षों के लिए 51 से 100 संस्थानों में रैंकिंग हासिल की गई हो.

यूनीवर्सिटी III क्या है?
यूनीवर्सिटी III है तो वह ना तो श्रेणी I या श्रेणी II के अंदर नही आयेगी. नए नियम केवल के अनुसार जिन्होंने पीएचडी के लिए NET या SELT या SET परीक्षाए पास की हो. उन्हीं को पीएचडी पाठ्यक्रम में प्रवेश के लिए श्रेणी 3 संस्थानों में प्रवेश मिलेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay