एडवांस्ड सर्च

IGI एयरपोर्ट पर CISF का सर्वाधिक 788 करोड़ बकाया

भारत के बड़े हवाई अड्डों को सुरक्षा सेवा देने वाले अर्धसैनिक बल CISF का नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर 788 करोड़ रुपये बकाया है.

Advertisement
aajtak.in
जितेंद्र बहादुर सिंह/ विवेक पाठक नई दिल्ली, 08 October 2018
IGI एयरपोर्ट पर CISF का सर्वाधिक 788 करोड़ बकाया इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (फाइल फोटो: पीटीआई)

देश के हवाई अड्डों पर सुरक्षा सेवा दे रहे केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (CISF) का संचालन कर्ताओं पर 880 करोड़ रुपये से ज्यादा रुपया बकाया है, जिसमें सर्वाधिक 788 करोड़ रुपये का बकाया दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर है.

इस धनराशि की प्राप्ति के लिए CISF लगातार एयरपोर्ट संचालनकर्ताओं को पत्र लिखता रहा है, इसके बावजूद भी कोई सुनवाई नही हो रही. CISF भारत सरकार का अर्धसैनिक बल है. यह बल देश के 60 हवाई अड्डों को सुरक्षा सेवाएं दे रहा है. इन हवाई अड्डों पर उसके 880 करोड़ रुपये से ज्यादा बकाया है.

सीआईएसएफ के डीजी राजेश रंजन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में जानकारी दी कि इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर सुरक्षा देने के एवज में CISF का 788 करोड़ रुपये बकाया है. वहीं एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया से जुड़े हवाई अड्डों को सुरक्षा देने में CISF के 90 करोड़ रुपये बकाया है. डीजी राजेश रंजन ने यह भी जानकारी दी कि ज्वाइंट वेंचर से जुड़े हुए एयरपोर्ट जिन्होंने लगभग 880 करोड़ रुपये सीआईएसफ को देने हैं, वह भी अभी उन्होंने नहीं दिए हैं.

आपको बता दें कि सीआईएसएफ यह मामला नागरिक उड्डयन मंत्रालय और गृह मंत्रालय के सामने कई बार उठा चुका है. लेकिन इसमें अभी तक कुछ खास नहीं हुआ. इसलिए तालमेल बनाकर प्रयास किया जा रहा है, कि पूरी बकाया धनराशि की वसूली कैसे की जाए. हालांकि इसके लिए CISF के पास कोई तंत्र नहीं है, जिससे कि वो कड़ाई से अपनी बकाया राशि वसूल सके.

CISF की इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में जब उनसे सवाल पूछा गया कि कंधार जैसी घटना दोबारा ना हो पाए इसके लिए सीआईएसफ के किस तरीके के प्रयास हैं, तो इस पर सीआईएसएफ डीजी ने कहा कि कंधार की घटना के बाद ही CISF का डेप्लॉयमेंट एयरपोर्ट पर किया गया CISF के आने के बाद हमारे एयरपोर्ट पूरी तरह से सुरक्षित हैं और यात्री भी सुरक्षित हैं.

उन्होंने कहा कि किसी भी आतंकी खतरे की स्थिति से निपटने के लिए CISF एक SOP का पालन करती है, और उसके हिसाब से ही किसी खतरे के समय में एक्शन लिया जाता है. राजेश रंजन ने बताया कि जैसा कि देश-विदेश के एयरपोर्ट पर आतंकी हमले हो रहे हैं तो हम उसको अपनी फोर्स को वीडियो के जरिए दिखा कर एयरपोर्ट की सुरक्षा की SOP में बदलाव भी करते रहते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay