एडवांस्ड सर्च

Chandrayaan-2 को लगेंगे 48 दिन, महज 8 घंटे में पहुंची थी NASA की ये सैटेलाइट

ISRO का दूसरा मून मिशन Chandrayaan-2 आज यानी 22 जुलाई की दोपहर 2.43 बजे देश के सबसे ताकतवर रॉकेट GSLV-MK3 से सफलतापूर्वक लॉन्च किया गया. 16.23 मिनट के अंदर ही चंद्रयान-2 पृथ्वी से करीब 182 किमी की ऊंचाई पर जीएसएलवी-एमके3 रॉकेट से अलग होकर पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगाना शुरू कर चुका है.

Advertisement
ऋचीक मिश्रानई दिल्ली, 22 July 2019
Chandrayaan-2 को लगेंगे 48 दिन, महज 8 घंटे में पहुंची थी NASA की ये सैटेलाइट अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी का अपोलो-11 मिशन 51 घंटे में पहुंचा था चांद की कक्षा में.(फोटोःनासा)

  • ISRO के चंद्रयान-2 को चांद पर पहुंचने में लगेंगे 48 दिन
  • NASA का मिशन चांद पर पहुंचा था सिर्फ 8.30 घंटे में
  • ESA के मिशन ने सबसे ज्यादा 1 साल का समय लिया था

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का दूसरा मून मिशन Chandrayaan-2 आज यानी 22 जुलाई की दोपहर 2.43 बजे देश के सबसे ताकतवर बाहुबली रॉकेट GSLV-MK3 से लॉन्च किया गया. 16.23 मिनट में चंद्रयान-2 पृथ्वी से182 किमी की ऊंचाई पर जीएसएलवी-एमके3 रॉकेट से अलग होकर पृथ्वी की कक्षा में चक्कर लगाना शुरू कर चुका है. फिर उसे चांद के दक्षिणी ध्रुव पर उतरने के लिए 48 दिन की यात्रा करनी पड़ेगी. लेकिन अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA ने एक ऐसा मिशन भेजा था जो सिर्फ 8.30 घंटे में चांद पहुंच गया था.

चंद्रयान-2 के 48 दिन की यात्रा के विभिन्न पड़ाव

चंद्रयान-2 अंतरिक्ष यान 22 जुलाई से लेकर 13 अगस्त तक पृथ्वी के चारों तरफ चक्कर लगाएगा. इसके बाद 13 अगस्त से 19 अगस्त तक चांद की तरफ जाने वाली लंबी कक्षा में यात्रा करेगा. 19 अगस्त को ही यह चांद की कक्षा में पहुंचेगा. इसके बाद 13 दिन यानी 31 अगस्त तक वह चांद के चारों तरफ चक्कर लगाएगा. फिर 1 सितंबर को विक्रम लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा और चांद के दक्षिणी ध्रुव की तरफ यात्रा शुरू करेगा. 5 दिन की यात्रा के बाद 6 सितंबर को विक्रम लैंडर चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा. लैंडिंग के करीब 4 घंटे बाद रोवर प्रज्ञान लैंडर से निकलकर चांद की सतह पर विभिन्न प्रयोग करने के लिए उतरेगा.

पढ़ें, आजतक ने सबसे पहले बताई थी Chandrayaan-2 की लॉन्चिंग डेट

आइए...जानते हैं दुनियाभर के उन अभियानों के बारे में, जो चांद पर तेजी से और देरी से पहुंचे

सबसे लंबी यात्रा वाला मानवरहित मून मिशन

यूरोपियन स्पेस एजेंसी ESA के SMART-1 लूनर प्रोब को 27 सितंबर 2003 में लॉन्च किया था. यह 1 साल, 1 महीना और 2 हफ्ते के बाद 11 नवंबर 2004 को चांद की कक्षा में पहुंचा था. यह चांद पर भेजा जाने वाला सबसे लंबा मून मिशन है.

सबसे कम समय वाला मानवरहित मून मिशन

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA ने 2006 में प्लूटो के लिए न्यू होराइजन नाम का एक सैटेलाइट लॉन्च किया था. इसे एटलस-5 रॉकेट से छोड़ा गया. न्यू होराइजन 16.26 किमी प्रति घंटा की गति से अंतरिक्ष में चल रहा था. यह चांद की कक्षा में सिर्फ 8 घंटे 35 मिनट में ही पहुंच गया था. लेकिन इसे चांद पर नहीं जाना था. इसलिए ये वहां से होकर गुजर गया.

Chandrayaan-2: 31 साल बाद 22 जुलाई को ISRO की लॉन्चिंग, जानें...कितना LUCKY है जुलाई

सबसे कम समय में चांद पर पहुंचने वाला मानवयुक्त मून मिशन

अमरेकी अंतरिक्ष एजेंसी NASA ने 16 जुलाई 1969 को चांद के लिए पहला मानव मिशन भेजा. इस मिशन में गए एस्ट्रोनॉट नील आर्मस्ट्रांग और बज एल्ड्रिन मात्र 51 घंटे 49 मिनट बाद चांद की कक्षा में पहुंच गए थे. लेकिन चांद की सतह पर 109 घंटे 42 मिनट बाद उतरे थे.

इन देशों के मून मिशन भी कम समय में पहुंच चांद पर

चीन के मिशन भी कुछ ही दिनों में पहुंच चुके हैं चांद तक

चीन का चांग-1 मून मिशन 24 अक्टूबर 2007 को छोड़ा गया था. 31 अक्टूबर तक यह पृथ्वी की कक्षा में रहा लेकिन उसके बाद वहां से चांद पर पहुंचने में इसे सिर्फ 5 दिन लगे. चीन के ही चांग-2 ऑर्बिटर ने चांद की दूरी 4 दिन 16 घंटे में पूरी कर ली थी. चांग-3 मून मिशन 1 दिसंबर 2013 को छोड़ा गया. यह चांद पर 4 दिन 12 घंटे और 23 मिनट में पहुंच गया था.

चांद की ओर अब और तेजी से जाएगा Chandrayaan-2, किए गए ये 4 जरूरी बदलाव

सोवियत रूस का लूना-1 सबसे पहले चांद पर सबसे कम समय में पहुंचा था

सोवियत रूस ने सबसे पहले अपना मून मिशन लूना-1 सबसे कम समय में पहुंचाया था. 2 जनवरी 1959 में लॉन्च किया गया लूना-1 सिर्फ 36 घंटे में चांद की कक्षा में पहुंच गया था. यह करीब 3 किमी प्रति सेकंड की गति से उड़ रहा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay