एडवांस्ड सर्च

इंजीनियर राहुल को न्याय के लिए जंतर-मंतर पर कैंडिल मार्च

जंतर-मंतर पर राहुल सिंह के लिए न्याय मांगने आए मुकेश बताते हैं कि 24 अगस्त को राहुल चंबल एक्सप्रेस में सफर कर रहे थे कि तभी कुछ पुलिस वाले यात्रियों से अवैध वसूली करने लगे. इस पर राहुल ने उनका वीडियो बनाया और ये पता चलने पर पुलिस वालों ने राहुल को बुरी तरह पीटा और पर्स, मोबाइल छीनने के बाद रेल से फेंक दिया.

Advertisement
aajtak.in
सुरभि गुप्ता/ मणिदीप शर्मा नई दिल्ली, 11 September 2017
इंजीनियर राहुल को न्याय के लिए जंतर-मंतर पर कैंडिल मार्च इंजीनियर राहुल के लिए न्याय की मांग

इंजीनियर राहुल सिंह की हत्या के विरोध में दिल्ली के जंतर-मंतर पर हजारों लोग इकट्ठा हुए और सभी हजारों लोगों ने राहुल सिंह की निर्मम हत्या के विरोध में सीबीआई जांच की मांग की. ज्ञात हो कि कुछ दिनों पहले इंजीनियर राहुल सिंह की चलती हुई रेल से फेंक कर हत्या कर दी गई थी. मामले में आरोप ये है कि राहुल सिंह घूस लेते हुए पुलिस वालों का वीडियो बना रहे थे, अचानक तभी पुलिस वालों की नजर राहुल पर पड़ी और उन्होंने राहुल को बुरी तरह से पीटा, फिर पीटने के बाद राहुल को चलती हुई ट्रेन से फेंक दिया.

सुरेश प्रभु के निर्देश पर दर्ज की गई FIR

जंतर-मंतर पर राहुल सिंह के लिए न्याय मांगने आए मुकेश बताते हैं कि 24 अगस्त को राहुल चंबल एक्सप्रेस में सफर कर रहे थे कि तभी कुछ पुलिस वाले यात्रियों से अवैध वसूली करने लगे. इस पर राहुल ने उनका वीडियो बनाया और ये पता चलने पर पुलिस वालों ने राहुल को बुरी तरह पीटा और पर्स, मोबाइल छीनने के बाद रेल से फेंक दिया. रेल में ही सफर कर रहे कुलदीप शर्मा ने राहुल को बचाने की कोशिश की, मगर कुलदीप को धमका दिया गया. बाद में कुलदीप ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट किया और सुरेश प्रभु के निर्देश पर इस मामले में FIR दर्ज की गई. मगर FIR दर्ज होने के इतने दिन बाद भी अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है और ना ही किसी पुलिसकर्मी को सस्पेंड किया गया है.

न्याय के लिए ऑनलाइन पेटिशन मुहिम

राहुल सिंह को न्याय दिलाने के लिए ऑनलाइन पेटिशन मुहिम भी चलाई जा रही है. https://www.change.org/p/prime-minister-narendra-modi-stand-against-brutal-killing-of-rahul-singh-by-railway-officials इस मुहिम से जुड़कर अबतक 75 हजार से ज्यादा लोग पेटिशन पर दस्तखत कर चुके हैं. राहुल सिंह के परिजनों की मांग है कि दोषी कर्मियों को गिरफ्तार कर फौरन उन्हें सस्पेंड किया जाए. इस बाबत रेल राज्यमंत्री मनोज सिन्हा से मिलकर गुजारिश भी की गई है. मनोज सिन्हा ने निष्पक्ष जांच का भरोसा दिया, मगर अब तक कुछ नहीं हुआ है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay