एडवांस्ड सर्च

कांग्रेस ने तोड़ लिए 6 विधायक तो मायावती ने बताया धोखेबाज पार्टी

राजस्थान में 6 बसपा विधायक सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गए. इस पर मायावती ने कहा कि यह धोखा है. बीएसपी मूवमेंट के साथ ऐसा विश्वासघात दोबारा तब किया गया है जब बीएसपी वहां कांग्रेस सरकार को बाहर से बिना शर्त समर्थन दे रही थी.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक / शरत कुमार लखनऊ/जयपुर, 17 September 2019
कांग्रेस ने तोड़ लिए 6 विधायक तो मायावती ने बताया धोखेबाज पार्टी बीएसपी प्रमुख मायावती की फाइल फोटो

  • मायावती ने कहा, बसपा राजस्थान में समर्थन दे रही थी तब भी विश्वासघात किया गया
  • मायावती का आरोप, कांग्रेस अनुसूचित जाति-जनजाति और पिछड़ा विरोधी पार्टी है

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कांग्रेस को गैर-भरोसेमंद और धोखेबाज पार्टी करार दिया है. दरअसल, राजस्थान में 6 बसपा विधायक सोमवार को कांग्रेस में शामिल हो गए. इस पर मायावती ने कहा कि यह धोखा है. उन्होंने कहा, बीएसपी मूवमेंट के साथ ऐसा विश्वासघात दोबारा तब किया गया है जब बीएसपी वहां कांग्रेस सरकार को बाहर से बिना शर्त समर्थन दे रही थी.

मायावती ने कहा कि कांग्रेस अपनी विरोधी पार्टियों और संगठनों से लड़ने की बजाए हर जगह उन पार्टियों को नुकसान पहुंचाने का काम करती है जो उन्हें सहयोग और समर्थन देती हैं. कांग्रेस अनुसूचित जाति-जनजाति और पिछड़ा विरोधी पार्टी है. कांग्रेस हमेशा ही बाबा साहेब डॉ. भीमराव अंबेडकर और उनकी मानवतावादी विचारधारा की विरोधी रही.

मायावती ने कहा, कांग्रेस की वजह से ही बाबा साहब को कानून मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था और कांग्रेस की वजह से ही बाबा साहब कभी लोकसभा में चुनकर नहीं आ सके, न ही कांग्रेस ने उन्हें भारत रत्न दिया.

बता दें, राजस्थान में बसपा प्रमुख मायावती को बड़ा झटका देते हुए उनके सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल हो गए हैं. इसके साथ ही विधानसभा में कांग्रेस के कुल विधायकों की संख्या 106 हो गई है.

सोमवार रात हुए इस विलय पर प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, "यह अशोक गहलोत के मन की असुरक्षा दिखाता है. उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने कानून व्यवस्था की स्थिति पर उन पर सवाल उठाया है."

राजस्थान विधानसभा में कुल 200 सीटें हैं. पिछले विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने 100 सीटों पर जीत दर्ज की थी. इससे पहले कांग्रेस राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के एक विधायक, बसपा के छह और 12 निर्दलीय विधायकों के समर्थन से सरकार चला रही थी.(इनपुट एजेंसी से)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay