एडवांस्ड सर्च

महाराष्ट्र: वर्धा में सेना के हथियार डिपो में धमाका, 6 की मौत, कई लोग घायल

पूरे इलाके को चारों ओर से घेर लिया गया है. किसी को अंदर जाने की इजाजत नहीं है. आसपास के गांवों को खाली करा लिया गया है और घायलों को अस्पताल पुहंचाने के लिए सेना के हेलीकॉप्टर का सहारा लिया जा रहा है.

Advertisement
aajtak.in
रविकांत सिंह/ पंकज खेलकर 20 November 2018
महाराष्ट्र: वर्धा में सेना के हथियार डिपो में धमाका, 6 की मौत, कई लोग घायल धमाका स्थल (ANI फोटो)

महाराष्ट्र के वर्धा में सेना के हथियार डिपो में जबरदस्त धमाके की खबर है. इस घटना में 6 लोगों की मौत हो गई है और कई लोग घायल हैं. विस्तृत जानकारी का इंतजार है.

धमाका मंगलवार सुबह सेंट्रल एम्युनिशन डिपो (सीएडी) में हुआ जो वर्धा के सोनेगांव अंबाजी गांव में स्थित है. अंबाजी गांव वर्धा शहर से 18 किलोमीटर दूर है. यहां के जिलाधिकारी ने बताया कि इस घटना में 6 लोगों की मौत हो गई और कई लोग जख्मी हैं जिनका इलाज नजदीकी अस्पताल में चल रहा है. सेंट्रल एम्युनिशन डिपो सैन्य क्षेत्र है और हथियार डिपो में इसे सबसे बड़ा माना जाता है. 

धमाके वाली जगह पर लोगों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई है. हथियार डिपो में धमाका होने के कारण जानमाल की भारी क्षति की आशंका है, इसलिए आसपास के इलाकों में दहशत का माहौल बन गया है. पूरे इलाके को चारों ओर से घेर लिया गया है. किसी को अंदर जाने की इजाजत नहीं है. सूत्रों ने बताया कि आसपास के गांवों को खाली करा लिया गया है और घायलों को अस्पताल पुहंचाने के लिए सेना के हेलीकॉप्टर का सहारा लिया जा रहा है.

शुरुआती रिपोर्टों के मुताबिक वर्धा जिले के पुलगांव डिपो में खमरिया हथियार डिपो के स्टाफ पुराने और बेकार विस्फोटकों को हटा रहे थे. इसी दौरान धमाका हो गया. वर्धा के जिलाधिकारी ने इंडिया टुडे को बताया कि धमाका सीएडी के बाहर हुआ है इसलिए आग ज्यादा फैलने की आशंका नहीं है. आपदा प्रबंधन टीम को काम पर लगा दिया गया है और जख्मी लोगों का इलाज शुरू कर दिया गया है.

जानकारी के मुताबिक वर्धा फायरिंग रेंज में यह घटना हुई. जबलपुर खमरिया हथियार डिपो के स्टाफ बेकार विस्फोटकों को नष्ट करने के लिए बम डिस्पोजल रेंज में बुलाए गए थे. उनके काम के दौरान सुबह 8 बजे धमाका हो गया. अब तक 6 लोगों की मौत के अलावा आसपास के कई गांवों में अफरा-तफरी का माहौल है.

धमाके की घटना पर रक्षा मंत्रालय का भी बयान आया है. मंत्रालय के पीआरओ ने बताया कि मृतकों में कुछ प्रशिक्षित अधिकारी और कुछ अनियमित मजदूर हैं. मजदूरों को उस जगह पर बेकार विस्फोटक नष्ट होने के बाद उसे रेत की बोरी से ढकने के काम में लगाया गया था. हथियार डिपो के आला अधिकारियों को घटनास्थल पर रवाना कर दिया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay