एडवांस्ड सर्च

BJP ने नोटबंदी को बताया अहम फैसला, लेकिन विकास के नाम पर लड़ेगी चुनाव

बीजेपी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्रा का कहना है कि पांच राज्यों के चुनाव में हम विकास के मुद्दे को ही आगे लेकर चलेंगे. वही हमारा बड़ा मुद्दा होगा. नोट बंदी तो सरकार की ओर से भ्रष्टाचार के खिलाफ उठाया गया एक अहम कदम है.

Advertisement
aajtak.in
अशोक सिंघल नई दिल्ली, 07 January 2017
BJP ने नोटबंदी को बताया अहम फैसला, लेकिन विकास के नाम पर लड़ेगी चुनाव रैली में बीजेपी समर्थक

भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि पांच राज्यों के चुनाव में विकास के मुद्दे सबसे अहम रहेगा और पार्टी इसी को लकर चुनाव लड़ेगी. पार्टी को लगता है कि चुनाव में विकास के मुद्दे को लेकर चलने से ज्यादा फायदा होगा. इसके बाद नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक मुद्दे होंगे. बीजेपी के कुछ नेताओं से बातचीत में ये बात साफ हुई कि चुनाव विकास के मुद्दे पर ही लड़ा जाएगा हालांकि नेताओं ने नोटबंदी को कालेधन और भ्रष्टाचार के खिलाफ सरकार का एक ऐतिहासिक कदम बताया है.

केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता कलराज मिश्रा का कहना है कि पांच राज्यों के चुनाव में हम विकास के मुद्दे को ही आगे लेकर चलेंगे. वही हमारा बड़ा मुद्दा होगा. नोट बंदी तो सरकार की ओर से भ्रष्टाचार के खिलाफ उठाया गया एक अहम कदम है.

वहीं केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा कि नोटबंदी मुद्दा नहीं है, विकास ही मुद्दा होगा. पार्टी प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन का भी यही कहना है कि विकास के मुद्दे पर ही चुनाव में हम आगे बढ़ेंगे. उन्होंने कहा कि नोटबंदी मुद्दा नहीं है अगर विपक्ष इसे मुद्दा बनाएगा तब यह जरूर मुद्दा बन जाएगा.

बीजेपी सांसद और उत्तराखंड के नेता सतपाल महाराज का भी यही कहना है कि विकास हमारा प्राथमिक मुद्दा होगा और उत्तराखंड में कांग्रेस की जो नाकामियां है हम उनको उजागर करेंगे. साथ-साथ उत्तराखंड के विकास को हम लोग आगे लेकर चलेंगे. केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि विकास हमारा मुद्दा होगा और उस पर ही हम पांच राज्यों में चुनाव जीतेंगे. बार-बार नोटबंदी के बारे में पूछने पर तोमर ने कहा कि नोटबंदी भी मुद्दा हो सकता है लेकिन विकास ही मुद्दा होगा.

पार्टी के नेताओं से बात करने के बाद एक बात साफ है कि नोट बंदी के फैसले को लेकर लोगों की जो परेशानी रहीं है उसे देखते हुए पार्टी ने पांच राज्यों के लिए विकास को मुद्दा चुना है. क्योंकि 2014 के चुनाव में भी विकास के मुद्दे पर ही नरेंद्र मोदी की सरकार बनी थी. उसके बाद महाराष्ट्र,हरियाणा, असम में भी बीजेपी विकास के नाम पर चुनाव लड़ी और जीती थी.

हालांकि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने अपने राष्ट्रीय कार्यकारिणी में दिए भाषण में नोटबंदी और सर्जिकल स्ट्राइक का भी जिक्र किया और सरकार कि इन कदमों को लेकर की सराहना की गई है. तो साफ़ है कि चुनाव में विकास के साथ-साथ सर्जिकल स्ट्राइक और नोटबंदी भी मुद्दा बनेंगे लेकिन विकास का मुद्दा ही आगे रहेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay