एडवांस्ड सर्च

भोजपुरी में शपथ लेना चाहते थे बिहार के सांसद, इस वजह से नहीं मिली इजाजत

बिहार के सांसदों ने भी मैथली और हिन्दी में शपथ ली. लेकिन जब महाराजगंज से बीजेपी सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल ने भोजपुरी में शपथ लेने की इच्छा जताई तो उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी गई, जिसके बाद उन्हें हिन्दी में शपथ लेनी पड़ी.

Advertisement
aajtak.in
अनुग्रह मिश्र नई दिल्ली, 17 June 2019
भोजपुरी में शपथ लेना चाहते थे बिहार के सांसद, इस वजह से नहीं मिली इजाजत बीजेपी सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल

17वीं लोकसभा के पहले सत्र की शुरुआत हो चुकी है और सत्र के पहले दिन नवनिर्वाचित सांसदों को शपथ दिलाई गई. इस दौरान कई सांसदों ने हिन्दी के अलावा अन्य भाषाओं में शपथ ग्रहण की. सबसे पहले लोकसभा में नेता सदन और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरी बार सांसद के तौर पर शपथ ग्रहण की. पीएम मोदी के अलावा पहली बार लोकसभा चुनाव जीते गृहमंत्री अमित शाह, राजनाथ सिंह समेत बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने शपथ ली. असम के ज्यादातर सांसदों ने असमिया तो बंगाल से चुने गए सांसदों बांग्ला में शपथ ग्रहण की.

बिहार के सांसदों ने भी मैथली और हिन्दी में शपथ ली. लेकिन जब महाराजगंज से बीजेपी सांसद जर्नादन सिंह सिग्रीवाल ने भोजपुरी में शपथ लेने की इच्छा जताई तो उन्हें इसकी इजाजत नहीं दी गई, जिसके बाद उन्हें हिन्दी में शपथ लेनी पड़ी. सिग्रीवाल के अलावा बीजेपी के ही राजीव प्रताप रूडी भी भोजपुरी में शपथ लेना चाहते थे लेकिन उन्हें भी हिन्दी में शपथ लेनी पड़ी. इस पर रूडी ने प्रोटेम स्पीकर को संबोधित करते हुए कहा कि अध्यक्ष जी बड़ी चिंता का विषय है, भोजपुरी में शपथ लेने की व्यवस्था नहीं है.

क्यों नहीं मिली इजाजत

दरअसल, भोजपुरी में सांसदों के शपथ लेने की मांग को लोकसभा महासचिव ने खारिज कर दिया. उन्होंने बताया कि भोजपुरी भाषा संविधान की 8वीं अनुसूची में शामिल नहीं है, ऐसे में कोई सांसद भोजपुरी में शपथ नहीं ले सकता. बिहार के कुछ सांसद ने मैथिली में शपथ ली क्योंकि यह भाषा 8वीं अनुसूचि का हिस्सा है. इसके अलावा खगड़िया से चुने गए लोजपा के महबूब अली कैसर ने अंग्रेजी में शपथ ली.

इससे पहले पश्चिम बंगाल से चुने गए बाबुल सुप्रियो ने अंग्रेजी और राजगंज से चुनी गईं बीजेपी सांसद देबाश्री चौधरी ने बांग्ला में शपथ ग्रहण की. जब-जब सदन में बंगाल से चुने बीजेपी सांसदों ने शपथ ली तब सदन में जय श्री राम के नारे गूंज पड़े. पश्चिम बंगाल में जय श्री राम के नारों के लिए सियासी घमासना छिड़ा हुआ है और इन नारों की वजह से कथित तौर पर कुछ लोगों को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की फटकार तक झेलनी पड़ी है. यही वजह है कि बीजेपी इन नारों की सियासत को बंगाल से दिल्ली तक ले जाना चाहती है. बंगाल में इस बार बीजेपी ने 42 में 18 सीटों पर जीत दर्ज की है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay