एडवांस्ड सर्च

चिंतामणि बोले, आपत्तिजनक जिग्नेश की भाषा है, मेरी नहीं

विवादित फेसबुक पोस्ट के बाद जब सांसद चिंतामणि मालवीय से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जिस गंदी भाषा में जिग्नेश मेवाणी ने पीएम मोदी के लिए बयान दिया है, लोगों को उसपर आपत्ति होनी चाहिए ना कि उनके फेसबुक पोस्ट पर.

Advertisement
aajtak.in
रवीश पाल सिंह / सुरभि गुप्ता नई दिल्ली, 22 December 2017
चिंतामणि बोले, आपत्तिजनक जिग्नेश की भाषा है, मेरी नहीं उज्जैन से बीजेपी सांसद चिंतामणि मालवीय

उज्जैन से बीजेपी सांसद चिंतामणि मालवीय ने एक बार फिर विवादित फेसबुक पोस्ट किया है. इस बार उन्होंने पीएम मोदी के लिए इस्तेमाल की गई आपत्तिजनक भाषा के लिए जिग्नेश मेवाणी को आड़े हाथों लेते हुए उन्हें गंदगी फैलाने वाला जानवर बताया है.

मेवाणी पर दिए बयान को व्यक्तिगत बताया

इस फेसबुक पोस्ट के बाद जब सांसद चिंतामणि मालवीय से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जिस गंदी भाषा में जिग्नेश मेवाणी ने पीएम मोदी के लिए बयान दिया है, लोगों को उसपर आपत्ति होनी चाहिए ना कि उनके फेसबुक पोस्ट पर. संसद सत्र के लिए दिल्ली आए चिंतामणि मालवीय ने बताया कि उनके इस बयान को व्यक्तिगत समझा जाए क्योंकि पीएम मोदी के लिए जिस भाषा का इस्तेमाल जिग्नेश ने किया, उसका जवाब देने से वो खुद को रोक नहीं पाए.

अपने बयान पर चिंतामणि को खेद नहीं

चिंतामणि मालवीय ने साफ कहा कि उन्हें अपने बयान पर कोई खेद नहीं है और ना ही जिग्नेश मेवाणी पर दिए अपने बयान से वो पलटने वाले हैं. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी को जवाब देना चाहिए कि क्या वो जिग्नेश मेवाणी के उस बयान से सहमत हैं, जो उन्होंने पीएम मोदी के लिए दिया है?

पहले भी दे चुके हैं विवादों को जन्म

मध्यप्रदेश के उज्जैन से बीजेपी सांसद चिंतामणि मालवीय अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं. ये कोई पहली बार नहीं है जब वो अपने बयानों से चर्चा में आए हैं. इससे पहले उन्होंने पद्मावती फिल्म के निर्देशक संजय लीला भंसाली पर भी विवादित बयान दिया था और कहा था, 'भंसाली जैसे लोगों को सिर्फ जूतों की भाषा ही समझ में आती है' और 'जिन फिल्मकारों की स्त्रियां रोज अपने शौहर बदलती हैं, वो क्या जानें जौहर क्या होता है?'

गुजरात चुनाव के दौरान राहुल गांधी पर कटाक्ष

इसके बाद उन्होंने गुजरात विधानसभा चुनाव में राहुल गांधी के मंदिर दौरों पर भी कटाक्ष करते हुए उसकी तुलना नगरवधू से की थी. हालांकि बाद में उन्होंने कहा था कि उनका मकसद राहुल गांधी से नहीं बल्कि उनकी सोच से था जिसे किसी से कोई मतलब नहीं रहता.

ये है मेवाणी पर चिंतामणि का पोस्ट

चिंतामणि ने अपने फेसबुक और ट्विटर पर लिखा है, 'पैसे देकर राहुल ने 3 गंदगी खाने और फैलाने वाले जानवर खरीद लिए पर इनमें संस्कार कहां से लाएंगे.' (माना जा रहा है कि चिंतामणि ने ये बात जिग्नेश के साथ-साथ हार्दिक और अल्पेश के बारे में कही हैं) जिग्नेश तुम खुद नीरस हो गए हो अपने आप से और आपकी गंदी राजनीति से आप खुद बोर हो गए हो इसलिए आपको दुनिया बोरिंग लग रही है. तुम जैसे लोगों ने देश के लिए किया ही क्या है केवल तुच्छ जातिवादी राजनीति? क्या किया तुमने दलितों के लिए? कुछ नहीं केवल खुद की रोटी सेंकने के लिए तुमने उन्हें हथियार बनाया.'

उन्होंने आगे लिखा है कि जिग्नेश तुम अनुसूचित जाति के नाम पर समाज को बांटने की कम्युनिस्टों के कुत्सित काम में मदद कर रहे हो. अगर तुम सही में अनुजाति के हो तो तुम पर कम्युनिस्टों का नहीं, भारत रत्न डॉ बाबा साहेब अंबेडकर का प्रभाव होता. मोदी जी से तो तुम लोगों की तुलना भी नहीं की जा सकती है क्योंकि सूर्य से कॉकरोचों की तुलना नहीं की जा सकती.

चिंतामणि ने कहा कि, भारत के गौरव को आप हिमालय पर हड्डी गलाने की राय दे रहे हैं? क्या यही राय आपने अपने माता पिता को भी दी होगी? कहीं तुमने उनकी हड्डियां गला तो नहीं दीं? क्या यही राय तुमने राहुल गांधी को तो नहीं दे दी? वो सोनिया गांधी और मनमोहन सिंह को हड्डी गलने के लिए हिमालय तो नहीं छोड़ आये? लगता है राहुल गांधी के इशारे पर यह बयान दिया गया है. फिर उनके कहने से माफी मांग कर नया नाटक किया जाएगा.

चिंतामणि आगे लिखते हैं,' क्या आप जवान उसे ही मानते हैं जिसकी आप जैसे नेताओं की तरह सीडी लॉन्च हो? दुनिया भर में भारत की गौरव पताका फहराने वाले मोदी जी के अनेकों उदाहरण हैं जो देश का जनमानस जानता है, पर तुम जैसे मंदबुद्धि गैंग के व्यक्ति को कोई बात समझ नहीं आ सकती?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay