एडवांस्ड सर्च

अनुच्छेद 370 पर मोदी सरकार के फैसले को 'अवॉर्ड वापसी' के अगुआ साहित्यकार का समर्थन

अनुच्छेद 370 पर मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले को कभी अवॉर्ड वापसी की शुरुआत करने वाले जाने-माने साहित्यकार उदय प्रकाश का समर्थन मिला है. उदय प्रकाश ने एक तरह से सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 05 August 2019
अनुच्छेद 370 पर मोदी सरकार के फैसले को 'अवॉर्ड वापसी' के अगुआ साहित्यकार का समर्थन मोदी सरकार के फैसले का साहित्यकार उदय प्रकाश ने किया समर्थन

कश्मीर से अनुच्छेद 370 के कई प्रावधानों को हटाने के मोदी सरकार के ऐतिहासिक फैसले को कभी अवॉर्ड वापसी की शुरुआत करने वाले जाने-माने साहित्यकार उदय प्रकाश का समर्थन मिला है. उदय प्रकाश ने अपने एक फेसबुक पोस्ट में 5 अगस्त की तारीख को ऐतिहासिक बताते हुए एक तरह से सरकार के इस फैसले का स्वागत किया है.

उदय प्रकाश का मोदी सरकार को समर्थन मिलना इस लिहाज से बड़ी बात मानी जा रही है कि वह सरकार के कई कदमों के मुखर विरोधी रहे हैं और साल 2016 में उन्होंने ही देश के हालात के विरोध में अवॉर्ड वापसी की शुरुआत की थी.

कन्‍नड़ लेखक कलबुर्गी की हत्‍या के बाद लेखक उदय प्रकाश ने साहित्‍य अकादमी सम्‍मान लौटाकर सबसे पहले विरोध की शुरुआत की थी और उनके इस रास्‍ते पर देश के कई अन्‍य लेखक भी चल पड़े थे. लेखकों का कहना था कि वे देश में पनप रहे सांप्रदायिक वैमनस्‍व के विरोध में साहित्‍य अकादमी द्वारा दिया गया सम्‍मान लौटा रहे हैं.

तब सरकार और बीजेपी समर्थकों ने साहित्यकारों के इस कदम का तीखा विरोध भी किया था. सोशल मीडिया पर उदय प्रकाश को लेकर भी काफी तीखा विरोध और तीखी टिप्पड़ियां की गई थीं और उन्हें 'अवॉर्ड वापसी गैंग का मुखिया' तक कहा गया था.

उन्होंने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है, 'कई तरह की व्याख्याएं होंगी, भविष्य को लेकर कई तरह की अटकलें और बहसें होंगी, लेकिन आज की तारीख़ (5 अगस्त 2019) इतिहास में दर्ज तो हो ही गई. यह कागज के पन्नों पर नहीं, इस उपमहाद्वीप के भूगोल पर उकेरा गया वर्तमान है, जो अब आने वाले भविष्य के हर पल के साथ इतिहास बनता जा रहा है.'

उदय प्रकाश ने कहा- धरती का स्वर्ग बना अभिन्न हिस्सा

उन्होंने लिखा है, 'धरती का स्वर्ग कहा जाने वाला कश्मीर आज के दिन भारत का अभिन्न हिस्सा बन गया, अब उस स्वर्ग या जन्नत के फ़रिश्ते भी देश के सामान्य नागरिकों के अविभाज्य अंग बन कर उसमें घुलमिल जायं, इससे अधिक और क्या कामना हो सकती है? अब जम्मू-कश्मीर समेत समूचे देश की जनता के मूलभूत संवैधानिक नागरिक अधिकार समान और एक हो गये हैं. अब हमारे संघर्ष और उपलब्धियाँ, जय और पराजय भी एक ही होंगे.'  

हालांकि एक बार पहले भी उदय प्रकाश पीएम मोदी के भाषण को ऐतिहासिक बता चुके हैं, लेकिन तब उनके पोस्ट को कुछ लोग तंज मान रहे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay