एडवांस्ड सर्च

सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35A मामले पर आज नहीं हुई सुनवाई

आपको बता दें कि पिछली सुनवाई में जस्टिस चंद्रचूड़ के उपस्थित ना होने के कारण इस पर फैसला नहीं हो पाया था.

Advertisement
aajtak.in
मोहित ग्रोवर/ संजय शर्मा / अशरफ वानी नई दिल्ली/अनंतनाग, 27 August 2018
सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35A मामले पर आज नहीं हुई सुनवाई घाटी में बढ़ी सुरक्षा (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट में अनुच्छेद 35A को चुनौती देने वाली याचिका पर होने वाली अहम सुनवाई आज नहीं हो पाई. चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अगुवाई में तीन जजों की पीठ को आज की सुनवाई में तय करना था कि क्या इस मामले को संविधान पीठ के पास भेजा जाए या नहीं. आज इस मामले की सुनवाई होनी थी और ये मामला लिस्ट में भी था, लेकिन कोर्ट ने इस मसले को नहीं उठाया. बता दें कि 6 अगस्त को हुई पिछली सुनवाई में जजों की कमेटी ने इस पर कई तरह के सवाल पूछे थे. 

मामले की सुनवाई से पहले ही घाटी में इस मुद्दे पर बवाल हुआ. जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में कुछ जगह झड़प और पत्थरबाजी की घटनाएं सामने आईं. 35A का मुद्दा हमेशा से ही संवेदनशील रहा है, यही कारण है कि पिछली सुनवाई के दौरान अलगाववादियों ने घाटी में बंद बुलाया था.

पुलिस की ओर से बयान दिया गया है कि इस प्रकार की खबरें फैली थीं कि 35ए हटा दी गई है. जिसके कारण इस तरह की स्थिति पैदा हुई. हम लोगों से आग्रह करते हैं कि वह किसी तरह की अफवाह पर ध्यान ना दें.

क्या संविधान पीठ को भेजें मामला?

6 अगस्त को हुई सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने याचिकाकर्ता से पूछा था कि क्या ये मामला संविधान पीठ में जाना चाहिए या नहीं. उन्होंने कहा कि हमें ये तय करना होगा कि क्या ये मामला 5 जजों की बेंच के पास भेजें या नहीं. इसे दो हफ्ते बाद तय कर सकते हैं जिसके बाद तीन जजों की कमेटी इस तय करेगी.

क्या है अनुच्छेद 35A?

अनुच्छेद 35A, जम्मू-कश्मीर को राज्य के रूप में विशेष अधिकार देता है. इसके तहत दिए गए अधिकार 'स्थाई निवासियों' से जुड़े हुए हैं. इसका मतलब है कि राज्य सरकार को ये अधिकार है कि वो आजादी के वक्त दूसरी जगहों से आए शरणार्थियों और अन्य भारतीय नागरिकों को जम्मू-कश्मीर में किस तरह की सहूलियतें दें अथवा नहीं दें.

अनुच्छेद 35A, को लेकर 14 मई 1954 को तत्कालीन राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने एक आदेश पारित किया था. इस आदेश के जरिए भारत के संविधान में एक नया अनुच्छेद 35A जोड़ दिया गया.

अनुच्छेद 35A, धारा 370 का ही हिस्सा है. इस धारा के कारण दूसरे राज्यों का कोई भी नागरिक जम्मू-कश्मीर में ना तो संपत्ति खरीद सकता है और ना ही वहां का स्थायी नागरिक बनकर रह सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay