एडवांस्ड सर्च

सेना प्रमुख बिपिन रावत बोले- हमें जमीन का लालच नहीं, सुरक्षा हमारा मकसद

सेना प्रमुख बिपिन रावत ने कहा, हमारी सुरक्षा नीति की दो मूलभूत बुनियाद हैं. हमारे पास कोई अतिरिक्त क्षेत्रीय लालसा नहीं है, और हम दूसरों पर हमारी विचारधाराओं को थोपने की कोई इच्छा नहीं रखते हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: सना जैदी]नई दिल्ली, 02 November 2018
सेना प्रमुख बिपिन रावत बोले- हमें जमीन का लालच नहीं, सुरक्षा हमारा मकसद सेना प्रमुख बिपिन रावत (फोटो- रॉयटर्स)

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने गुरुवार को कहा कि भारत को अतिरिक्त क्षेत्र की लालसा नहीं है, लेकिन इसका लक्ष्य आर्थिक प्रगति और सामाजिक-राजनीतिक विकास के लिए एक अनुकूल बाहरी और आंतरिक सुरक्षा का वातावरण सुनिश्चित करना है.

'इवोल्विंग जियो पोलिटिक्स ऑफ द इंडो पेसिफिक रीजन चैलेंजेज एंड प्रोसपेक्ट' पर आयोजित सेमिनार को संबोधित करते हुए जनरल रावत ने कहा कि समुद्री क्षेत्रों की प्रतिस्पर्धी संप्रभुता पूर्व एशिया और दक्षिण चीन सागर में एक बड़ी चुनौती पैदा करती है. ये विवादित समुद्री सीमाएं अंतरराष्ट्रीय जल के लिए खतरा है.

भारत में ऑस्ट्रेलिया की उच्चायुक्त हरिंदर सिद्धू ने भी इस सेमिनार को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि अगर न्योता मिलता है तो मालाबार अभ्यास में ऑस्ट्रेलिया हिस्सा लेने की इच्छुक है. सिद्धू ने कहा कि मालाबार त्रिपक्षीय अभ्यास है जिसमें भारत के अलावा अमेरिका और जापान शामिल है.

रावत ने कहा , हमारी सुरक्षा नीति की दो मूलभूत बुनियाद हैं. हमारे पास कोई अतिरिक्त क्षेत्रीय लालसा नहीं है, और हम दूसरों पर हमारी विचारधाराओं को थोपने की कोई इच्छा नहीं रखते हैं.

हमारा लक्ष्य निर्बाध आर्थिक प्रगति और सामाजिक-राजनीतिक विकास के लिए एक अनुकूल बाहरी और आंतरिक सुरक्षा का वातावरण सुनिश्चित करना है. इसलिए हिंद प्रशांत क्षेत्र में स्थिरता जरूरी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay