एडवांस्ड सर्च

चुनाव बाद महंगाई का दौर: पेट्रोल के बाद अमूल ने 2 रुपये बढ़ाए दूध के दाम

गाय और भैंस के अलावा अमूल ऊंटनी का दूध भी बेचता है. इस साल जनवरी में अमूल डेयरी का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड ने ऊंटनी का दूध लांच किया. अमूल कैमल मिल्क ब्रांड वाला यह दूध अहमदाबाद, गांधीनगर और कच्छ में मिलता है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 20 May 2019
चुनाव बाद महंगाई का दौर: पेट्रोल के बाद अमूल ने 2 रुपये बढ़ाए दूध के दाम प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो-टि्वटर)

गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन अमूल ने दूध के दामों में प्रति लीटर 2 रुपये की बढ़ोतरी कर दी है. नई कीमतें 21 मई दिन मंगलवार से लागू होंगी. अमूल गोल्ड, अमूल शक्ति, अमूल टी स्पेशल की कीमतों में प्रति लीटर दो रुपये की बढ़ोतरी की गई है. दूध के बढ़े दाम का असर छोटे शहरों से लेकर मुंबई, दिल्ली और कोलकाता जैसे बड़े राज्यों में भी देखने को मिलेगा.

गौरतलब है कि अमूल डेयरी ने एक हफ्ते पहले ही दूध का खरीद मूल्य बढ़ाया था. अमूल ने भैंस के दूध के एक किलो फैट का दाम 10 रुपये बढ़ाया, जबकि गाय के दूध में एक किलो फैट का मूल्य 4.5 रुपये बढ़ा दिया गया था. कंपनी ने कहा कि दूध के खरीद मूल्य में इस बढ़ोत्तरी से सात लाख पशुपालकों को फायदा मिलेगा. अमूल डेयरी को सर्दियों में रोजाना 30 लाख लीटर दूध की आमद होती थी जो अब घटकर 25 लाख लीटर रह गई है. उनको अब भैंस के दूध के एक किलो फैट के लिए 640 रुपये और गाय के दूध के एक किलो फैट के लिए 290 रुपये मिलेंगे. कंपनी ने कहा कि अमूल डेयरी से जुड़े 1,200 दूध एसोसिएशन के सात लाख पशुपालकों को इसका लाभ मिलेगा.

गाय और भैंस के अलावा अमूल ऊंटनी का दूध भी बेचता है. इस साल जनवरी में अमूल डेयरी का मालिकाना हक रखने वाली कंपनी गुजरात कोऑपरेटिव मिल्क मार्केटिंग फेडरेशन लिमिटेड ने ऊंटनी का दूध लांच किया. अमूल कैमल मिल्क ब्रांड वाला यह दूध अहमदाबाद, गांधीनगर और कच्छ में मिलता है. कंपनी का कहना है कि ऊंटनी का दूध आसानी से पच जाता है और स्वास्थ्य के लिहाज से इसके कई फायदे हैं. सबसे ज्यादा यह डायबिटिज के रोगियों के लिए गुणकारी है. यह दूध उन लोगों के लिए भी गुणकारी है, जिन्हें डेयरी एलर्जी है, क्योंकि इसमें कोई एलर्जी नहीं है.

दूध के दामों में वृद्धि चुनाव का असर कहा जा रहा है. चुनाव बीतते ही जिस तरह तेल के दाम बढ़ाए गए, उससे दूध की कीमतें बढ़ने को भी जोड़ कर देखा जा रहा है. लोकसभा चुनाव 2019 के आखिरी चरण का मतदान संपन्न होने के एक दिन बाद सरकारी तेल विपणन कंपनियों ने सोमवार को पेट्रोल और डीजल के दाम में वृद्धि करके इस बात का संकेत दिया कि चुनाव के दौरान पेट्रोलियम पदार्थों के दाम में राहत मिलने की गुंजाइश अब समाप्त हो चुकी है. कुछ यही हाल दूध का भी नजर आ रहा है. दूध की कंपनियों में अमूल और मदर डेयर एक दूसरे की प्रतिस्पर्धी कंपनी हैं. इसलिए मान कर चलें कि अमूल के दाम बढ़ने के साथ ही मदर डेयरी भी अपने उत्पाद की कीमतें बढ़ा सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay