एडवांस्ड सर्च

सिखों की सर्वोच्च संस्था ने RSS को बताया देश विरोधी संस्था, कार्रवाई की मांग

सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) को देश विरोधी संस्था बताया. उन्होंने कहा है कि आरएसएस देश को तोड़ने वाला काम कर रही है.

Advertisement
aajtak.in
मनजीत सहगल/ सतेंदर चौहान चंडीगढ़, 15 October 2019
सिखों की सर्वोच्च संस्था ने RSS को बताया देश विरोधी संस्था, कार्रवाई की मांग सांकेतिक तस्वीर

  • आरएसएस देश विरोधी संस्था: ज्ञानी हरप्रीत
  • RSS तोड़ रही है देश: ज्ञानी हरप्रीत

सिखों की सर्वोच्च संस्था श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) को देश विरोधी संस्था बताया. उन्होंने कहा है कि आरएसएस देश को तोड़ने वाला काम कर रही है.

ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने कहा कि आरएसएस जो काम कर रही है वो देश को जोड़ने वाला नहीं बल्कि तोड़ने वाला काम है और सरकार को इस पर ध्यान देना चाहिए. जब ज्ञानी हरप्रीत सिंह से पूछा गया कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी किसी वक्त आरएसएस से जुड़े थे तो उन्होंने कहा कि जो भी हो, आरएसएस एक देश विरोधी संगठन है जो देश के हित में नहीं है.

बता दें कि हाल ही में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा कि आरएसएस का लक्ष्य सिर्फ हिंदू समुदाय को बदलना नहीं हैं, बल्कि देश में पूरे समाज को संगठित करना है. साथ ही हिंदुस्तान को बेहतर भविष्य की ओर ले जाना है.

शनिवार को उन्होंने कहा कि सबसे सही तरीका यह है कि अच्छा व्यक्ति तैयार किया जाए, जो समाज और देश को बदलने में अहम भूमिका निभा सके. इससे पहले उन्होंने कहा कि हमारी उन्नति अंग्रेजों के वजह से हुई, ये कहना गलत है. हम क्लासलेस सोसायटी की स्थापना वेदों के आधार पर सकते है. हिंदू कोई भाषा या प्रांत नहीं है, ये एक संस्कृति है जो भारत के लोगों की सांस्कृतिक विरासत है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay