एडवांस्ड सर्च

एजेंडा आज तक: 'सफाई से बदलेगी सूरत' सेशन की खास झलकियां...

'एजेंडा आज तक' में केंद्र सरकार की नीति और नीयत पर खुलकर चर्चा हुई. 'सफाई से बदलेगी सूरत' सेशन में योगगुरु रामदेव, कांग्रेस नेता जयराम रमेश और बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने अपनी राय रखी. पेश हैं इस सत्र की झलकियां...

Advertisement
aajtak.in
धीरेंद्र राय [Edited By: अमरेश सौरभ]नई दिल्ली, 13 December 2014
एजेंडा आज तक: 'सफाई से बदलेगी सूरत' सेशन की खास झलकियां... 'एजेंडा आज तक' में चर्चा करते दिग्गज

'एजेंडा आज तक' में केंद्र सरकार की नीति और नीयत पर खुलकर चर्चा हुई. 'सफाई से बदलेगी सूरत' सेशन में योगगुरु रामदेव, कांग्रेस नेता जयराम रमेश और बीजेपी सांसद मीनाक्षी लेखी ने अपनी राय रखी. पेश हैं इस सत्र की झलकियां...PM मोदी ने सफाई अभियान को जन आंदोलन बनायाः बाबा रामदेव

1. स्वामी रामदेव ने कहा कि योग के अच्छे दिन आ गए हैं, अलग से मंत्रालय बना दिया गया है. कालाधन के मामले में भी अच्छे दिन आएंगे, ये उम्मीद रखनी चाहिए. एक प्रधानमंत्री है, जो 18-18 घंटे काम कर रहे हैं.

2. जयराम रमेश ने याद किया कि दो साल पहले जब मैंने कहा था कि देश में शौचालयों की जरूरत है, तो कुछ संस्थाएं, जिसमें से एक स्वामी रामदेव के मित्र भी थे, मेरे घर आकर नारेबाजी कर रहे थे. अब प्रधानमंत्री खुद इसे मिशन के रूप में ला रहे हैं, इसकी मुझे खुशी है. लेकिन अब तक इसमें फोटो ही खिं‍चवाए जा रहे हैं.

3. मीनाक्षी लेखी ने कहा, 'ये स्वच्छता अभि‍यान की एक आलोचना है कि इसमें सिर्फ फोटोग्राफी हो रही है. दरअसल पहले लोग झाड़ू उठाने में झेंपते थे. अब वे गौरव की बात कर रहे हैं. इसी बहाने लोग अपनी फोटो प्रधानमंत्री तक पहुंचा रहे हैं.'

4. जयराम रमेश ने कहा, 'देश में बुलेट टेन की बात हो रही है, लेकिन यह नहीं देखा जा रहा कि टेनों में दो करोड़ यात्री सफर करते हैं. ट्रेनों में सबसे ज्यादा खुले शौचालय हैं, प्राथमिकता तो ट्रेनों में शौचालय बनाने की होनी चाहिए.

5. मीनाक्षी लेखी और जयराम रमेश के बीच जब गंगा सफाई को लेकर विवाद हुआ, तो बाबा रामदेव बोले ने कहा कि मैं बीच में बैठा हूं, इसलिए बीच-बचाव करना चाहता हूं. इस पर जयराम रमेश ने कहा कि आप तो पूरी तरह उनकी तरफ हो. इस पर रामदेव ने कहा कि आपके और मेरे, दोनों के नाम में 'राम' है.

6. रामदेव ने कहा, 'देखि‍ए ये सरकार जो कर रही है, मैं चाहता हूं कि जयराम जी उसे धैर्यपूर्वक देखें. ज्यादा चिंता न करें. अनुलोम-विलोम करें. अब तो योग भी सेक्युलर हो गया है. मैं जयराम जी से पूछना चाहता हूं कि मनमोहन सिंह को किसी ने रोका था सफाई करने से? या राजीव गांधी को या इंदिरा गांधी को? या जवाहरलाल नेहरू को?'

7. बार-बार जयराम रमेश शौचालयों की जरूरत पर जोर देते रहे, तो रामदेव बोल पड़े कि लगता है कि जयराम जी का पेट ज्यादा साफ होता है. इसके बाद उन्होंने कई बार जयराम की ओर देखा और सिर्फ हंसे. आख‍िरी में बात यहां खत्म की, 'चिंता मत कीजिए, आपके भी अच्छे दिन आएंगे'.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay