एडवांस्ड सर्च

MP: शादी के दिन ऐन वक्त पर नाबालिग लड़की ने बदला फैसला, लौटाई बारात

सोना ने बताया कि मैंने पहले शादी के लिए हां कर दी थी, क्योंकि तब मैं बाल विवाह के दुष्परिणामों से अनजान थी. मेरी मौसी ने मुझे अपनी परेशानियों के बारे में बताया कि किस तरह नाबालिग उम्र में शादी होने के बाद उन्हें अपनी पढ़ाई छोड़ने के लिए मजबूर किया गया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in सतना, 26 July 2019
MP: शादी के दिन ऐन वक्त पर नाबालिग लड़की ने बदला फैसला, लौटाई बारात प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटोः aajtak)

मध्य प्रदेश के सतना जिले की एक नाबालिग लड़की ने हिम्मत दिखाते हुए शादी से इंकार करते हुए बारात लौटा दी. सतना के मझगवां ब्लॉक के टगरपार गांव की 17 वर्षीय सोना ने दिलेरी दिखाते हुए शादी से इनकार करते हुए बारात लौटा दी. मेहंदी लगे हाथों के साथ वह बाहर आई और शादी न करने का ऐलान कर दिया.

एक गांव की लड़की का ऐसा करना उम्मीद से परे था. हालांकि सोना ने वह कर दिया, जिसकी उससे किसी को उम्मीद नहीं थी, लेकिन उसे मौसी का साथ मिला और सोना के निर्णय का अंत में माता-पिता ने भी समर्थन कर दिया.

आईएएनएस रिपोर्ट के अनुसार इस संबंध में सोना ने बताया कि मैंने पहले शादी के लिए हां कर दी थी, क्योंकि तब मैं बाल विवाह के दुष्परिणामों से अनजान थी. मेरी मौसी ने मुझे अपनी परेशानियों के बारे में बताया कि किस तरह नाबालिग उम्र में शादी होने के बाद उन्हें अपनी पढ़ाई छोड़ने के लिए मजबूर किया गया. वह 15 साल से क्रोनिक एनीमिया से पीड़ित हैं, क्योंकि शादी के दो साल बाद ही जब वह 16 साल की थी, तभी उनकी पहली संतान पैदा हो गई थी.

उन्होंने कहा कि मेरी मौसी बहुत ही कठिन परिस्थितियों में रह रही हैं, क्योंकि अब उनके छह बच्चे हैं, उनकी सबसे छोटी संतान सात महीने की है. उन्होंने मुझे शादी के लिए न कहने को प्रेरित किया और यह बताया कि कहीं मुझे भी कुछ ऐसी ही परिस्थितियों का सामना न करना पड़े.

सोना ने अपनी मौसी की दुर्दशा देख उनकी राय मानने और शादी न करने का निश्चय किया. सोना की मां मिंता बाई ने कहा कि वह खुश हैं कि उनकी बहन ने उनकी बेटी को समझाने का काम किया. उन्होंने बताया कि बहन रेखा को अपनी पढ़ाई छोड़ने का बहुत पछतावा है.  मेरी बेटी ने जो निर्णय लिया, वह उसके लिए बहुत ही साहस का काम था. मैंने और मेरे पति ने उस पर दबाव नहीं बनाने का फैसला किया.

मिंता ने कहा कि सोना की शादी रोकने के लिए परिवार के अन्य सदस्यों को को भी राजी करना था. यह आसान नहीं था, लेकिन हमने किया. एक स्थानीय कार्यकर्ता शिव कैलाश मवासी ने कहा कि वह पिछले हफ्ते सोना के यहां गए थे और सोना की उम्र का हवाला देते हुए उसके माता-पिता को शादी रोकने के लिए मनाने की कोशिश भी की थी. उन्होंने कहा, "मैं सोना और उसकी मौसी का साहस देख कर खुश हूं, जो उन्होंने पूरे परिवार को इस निर्णय के लिए मनाया और सोना को आगे पढ़ने दिया."

सोना के इस निर्णय की हर तरफ चर्चा की जा रही है. लोग सोना के साहस की दाद दे रहे, साथ ही परिवार के समर्थन की भी सराहना कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay