एडवांस्ड सर्च

साहित्य आजतक Day 2: रूह को छू गई रूहानी सिस्टर्स की कव्वाली

नवंबर 2, 2019
अपडेटेड 22:31 IST

साहित्य आजतक 2019 (Sahitya Aajtak 2019): साहित्य का सबसे बड़ा महाकुंभ 'साहित्य आजतक 2019' की शुरुआत हो चुकी है. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र में लोगों का जमावड़ा उमड़ रहा है. साहित्य, कला, संगीत, संस्कृति का यह जलसा आज से 3 नवंबर तक चलेगा. शुक्रवार सुबह साहित्य आजतक का आगाज छायावादी युग के प्रसिद्ध कवि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला की वाणी वंदना से हुआ था. तीन दिन तक चलने वाले साहित्य के महाकुंभ साहित्य आजतक में कला, साहित्य, संगीत, संस्कृति और सिनेमा जगत की मशहूर हस्तियां शामिल हो रही हैं. 2016 में पहली बार 'साहित्य आजतक' की शुरुआत हुई थी. दूसरे दिन भी साहित्य, सिनेमा, राजनीति और कला जगत के कई दिग्गज शरीक होंगे.

Check Latest Updates
Advertisement
साहित्य आजतक Day 2: रूह को छू गई रूहानी सिस्टर्स की कव्वाली2019 Sahitya Aajtak

हाइलाइट्स

  • साहित्य आजतक 2019' का दूसरा दिन आज
  • कई दिग्गज हस्तियां कर रहीं शिरकत
  • देशभर से जुड़ रहे हैं साहित्य-कला प्रेमी
  • 21:33 ISTPosted by Mansi Mishra

    साहित्य आजतक इन वीडियो में देखें दूसरे दिन की खास झलकियां

    साहित्य आजतक 2019: प्रसून जोशी बोले- राष्ट्रवाद या देशप्रेम पर बहस ही क्यों?

    कैसे लिखे जाते हैं फिल्मों के गाने... दो दिग्गज गीतकारों से जानिए

    साहित्य आजतक 2019: 'गांजा-महुआ क्रॉनिकल्स' में है इस गोंड कलाकार का संघर्ष

    भालचंद्र जोशी बोले- लेखक मंडी में खड़ा, वहां विचार की कोई कद्र नहीं

    साहित्य आजतक 2019: मुस्लिम-इसाईयों के पूर्वज‍ भी हिंदू: RSS प्रचारक आंबेकर


    लेखक ने कहा- कविता पहला क्रश, नाटक से शादी और रंगमच मेरा ससुराल

    साहित्य आजतक 2019: डॉ. बर्णवाल से जानें- 'द लॉर्ड एंड रिकॉर्ड्स' में कौन है लॉर्ड


    VIDEO: गीतकार समीर की जुबानी, उनके फिल्मी सफर की कहानी


    बदलाव पर बोले शैलेश लोढ़ा, गालियां देने से नहीं सुधरेगा देश

  • 21:20 ISTPosted by Mansi Mishra

    भर दो झोली मेरी...कव्वाली ने बांधा समां

    साहित्य आजतक के दस्तक दरबार मंच में देर रात तक कव्वाली की महफिल सजी. रूहानी सिस्टर्स के नाम से मशहूर डॉ जागृति लूथरा प्रसन्ना और डॉ नीता पांडेय नेगी ने खूबसूरत और लयबद्ध कव्वालियों से तालियों का जमघट लगा दिया. शाहों में शाह, मर्दों में मर्द है, वलियों में वली है, उसका नाम वली है... के बाद नुसरत फतेह अली खां की कव्वाली आजा वे तेनु अंखिया... और भर दो झोली गाकर समां बांध दिया.

  • 20:28 ISTPosted by Mansi Mishra

    साहित्य आजतक 2019: आज के खास इवेंट के लिए यहां क्लिक करें

    'मोदी के चमचा' कहे जाने पर बोले प्रसून जोशी- विदेश में अपने देश की बुराई कैसे करता

    क्यों भारत एक हिंदू राष्ट्र नहीं... आशुतोष ने दिया बेबाक जवाब

    साहित्य आजतक 2019: रागों की सजी महफिल, फिल्मी गानों में शास्त्रीय संगीत का जोड़ है 'रागगीरी'

    गोंड कलाकार वेंकट के संघर्ष की कहानी है 'गांजा-महुआ क्रॉनिकल्स'

    कैसे जन्मी कहावतें, किसने किया होगा ऊंट से मजाक...सुनें कवि की जुबानी


  • 19:06 ISTPosted by Mansi Mishra

    कवियों ने बयां किया शब्दों का शोर

    शब्दों का शोर सेशन में चार जर्नलिस्ट व कवियों प्रताप सोमवंशी, कुंदन, निधीश त्यागी व कवि आलोक यादव ने हिस्सा लिया. 'इतवार छोटा पड़ गया' शीर्षक से कविता संग्रह लिखने वाले प्रताप सोमवंशी ने कहा कि हर शोर के पीछे सन्नाटा छुपा हुआ होता है, कवि मन उसी सन्नाटे को शोर बनाते हैं. फिर कविता उस शोर को सुर बनाती है.

  • 18:32 ISTPosted by Mansi Mishra

    शाम, कविता और सुरों में ढली महफिल

    इरशाद कामिल के इंक बैंड ने अपना परफार्मेंस दिया. यहां इरशाद कामिल ने अपने खूबसूरत अंदाज में अपने शेर सुनाए तो उनका साथ दे रही गायिका ने उन्हें संगीतबद्ध लय में प्रस्तुत किया. इरशाद कामिल ने सुनाया कि मैं पुराने जमाने का दस्तूर हूं, तुम तरक्कीपसंद इसलिए दूर हूं, तुम मुझे भूल जाने को मजबूर हो, मैं तुम्हें याद आने को मजबूर हूं.

  • 17:59 ISTPosted by Mansi Mishra

    बच्चों की दुनिया सेशन में बोले आप नेता दिलीप पांडेय

    आप नेता व लेखक दिलीप पांडेय ने कहा कि मेरी पहली किताब दहलीज पे दिल है, जिसमें मैंने अन्ना मूवमेंट का जिक्र किया है. इस किताब को लिखने के दौरान मैंने 25-30 बच्चों से बातचीत की. किताबें लिखने के दौरान याद रखना चाहिए कि उसे नई पीढ़ी पढ़ेगी. आजकल बच्चों की किताबें बच्चे नहीं बड़े लिखते हैं. सेशन में लेखिका जॉन्हवी प्रसाद ने कहा कि आज हम लोग आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस की तरफ बढ़ रहे हैं, लेकिन जब तक साहित्य आजतक जैसे मंच रहेंगे, किताबें कहीं नहीं जाएंगी. 

  • 17:40 ISTPosted by Mansi Mishra

    किताब 'बागी बलिया' का विमोचन

    साहित्य आजतक के साहित्य के यंगिस्तान सेशन में लेखिका विजयश्री तनवीर, लेखक दिव्य प्रकाश दुबे और लेखक सत्या व्यास ने हिस्सा लिया. यहां सत्या व्यास की हिन्द युग्म से प्रकाशित किताब 'बागी बलिया' का विमोचन किया गया.

  • 16:29 ISTPosted by Mansi Mishra

    प्रसून जोशी ने कहा कि देशप्रेम है तो देश है

    हमने प्रेम को डंडे मारना शुरू कर दिया है. देशप्रेम नहीं होता तो देश आजाद नहीं होता. मैं आध्यात्मिक पुरुष हूं. मैं तो चाहता हूं कि पूरा विश्व एक होना चाहिए. जब हम आज व्यवस्था को मानते हैं तो उसे शक्तिशाली बनाना चाहिए. उन्होंने सरकार की निंदा पर अपना पक्ष रखा. उन्होंने कहा कि विचार अचानक नहीं बनते, वो धीरे धीरे बनते हैं.

  • 15:51 ISTPosted by Mansi Mishra

    बेटा जित्ती तुमाइ उमर, उत्ती हमाइ कमर: आशुतोष राणा

    फिल्म अभिनेता आशुतोष राणा ने अपनी पहली किताब 'मौन मुस्कान की मार' के कई अंश पढ़कर सुनाए. उन्होंने बुंदेलखंडी भाषा में कही जाने वाली लोकोक्तियां जादुई वाक्यों के तौर पर सुनाई तो लोग हंस पड़े. इनमें से कुछ वाक्य इस प्रकार थे- बेटा जित्ती तुमाइ उमर है, उत्ती हमाइ कमर है....हमे चीन्ह ल्यो, हमें मारहें कम खचोरहें ज्यादा....कान खोल के सुन लो, महीनों परिवार गिनिहे. उनके हास्य व्यंग्य और सात सूत्र सुनकर लोग हंसते-हंसते लोट पोट हो गए.

  • 15:35 ISTPosted by Mansi Mishra

    छा गई शैलेष की कविता 'बेटियां तो अहसास होती हैं'

    टीवी की दुनिया के सितारे, कवि और कलाकार शैलेष लोढ़ा ने अपनी कविता सुनाकर सभी को भावुक कर दिया. खासकर उन्होंने जिस अंदाज से अपनी कविता 'बेटियां तो अहसास होती हैं' सुनाई, हर कोई भावुक हो गया. उन्होंने सोशल मीडिया पर अपनी राय से सबको झकझोर दिया.

  • 15:34 ISTPosted by Mansi Mishra

    अनारकली डिस्को चली पर हो गया था केस: गीतकार समीर

    बॉलीवुड के मशहूर गीतकार व कवि समीर ने मंच पर अपने अनसुने गीत और कविताएं सुनाईं. उनका नाम सबसे ज्यादा हिट गीत लिखने का वर्ल्ड रिकॉर्ड है. इनमें से एक कविता 'धूप और छांव की लड़ाई है, जिंदगी अब समझ में आई है' सुनाई. उन्होंने नये गीतों के बारे में भी चर्चा की. जब उन्होंने अपना गीत होश न खबर है... गाया तो सभागार तालियों से गूंज उठा.  उन्होंने बताया कि अनारकली डिस्को गीत पर उन पर मुकदमा हो गया था.

  • 14:25 ISTPosted by Mansi Mishra

    साहित्य आजतक के मंच पर हैं उपन्यासकार सुरेंद्र मोहन पाठक

    साहित्य आजतक के मंच से जाने माने उपन्यासकार सुरेंद्र मोहन पाठक ने उपन्यास लिखने के शौक के बारे में चर्चा की. उन्होंने बताया कि उन्हें नॉवल लिखने का शौक बचपन से था. पहले शॉर्ट स्टोरी लिखना अच्छा लगता था. फिर लिखते समय सबसे बड़ा सवाल था कि हीरो किसे बनाऊं. जब मैंने एक बार सुनील को हीरो बनाया. इसका इतना मजाक बनाया गया कि डेढ़ साल तक लिखने की हिम्मत नहीं हुई.

  • 13:53 ISTPosted by Mansi Mishra

    वरुण ने खोले अनुराग कश्यप की क्रिएटिविटी के राज

    जाने माने स्टैंड अप कॉमेडियन वरुण ग्रोवर ने साहित्य आजतक के मंच से बेरोजगारी, वर्तमान राजनीति, युवाओं की सोच और बनारस के हाल पर व्यंग्य किए. इसके अलावा मुंबई में अनुराग कश्यप से मुलाकात और गैंग्स ऑफ वासेपुर के गीत लिखने के अनुभव साझा किए. बताया कि उन्होंने स्क्रिप्ट पढ़कर 'वुमनिया' सॉन्ग शादी के लिए लिखा था लेकिन वो फिल्म में दूसरी जगह फिट हुआ.

  • 12:02 ISTPosted by Mansi Mishra

    राम कनेक्शन की तलाश में मनोज तिवारी ने छेड़े सुरों के 'तीर'

    राम कनेक्शन लेकर मंच पर उतरे भोजपुरी स्टार और दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने साहित्य आजतक के मंच से समां बांध दिया. उन्होंने बताया कि कैसे रामचरित मानस की चौपाई 'प्रातकाल उठके रघुनाथा, मात पिता गुरु नावहिं माथा' और 'रघुकुल रीत सदा चल आई...प्राण जाए पर वचन न जाई' से बच्चों को संस्कार मिलते आ रहे हैं. इसके बाद जब 'जिया हो बिहार के लाला और रिंकिया के पापा गाया तो लोग कुर्सियों से खड़े होकर झूमने लगे. मंच से उनका फोकस प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ, राम मंदिर फैसला और दिल्ली प्रदेश सरकार की आलोचना जैसे बिंदुओं पर ही रहा.

  • 09:13 ISTPosted by Abhishek Shukla

    वरुण ग्रोवर का कटाक्ष

    पटकथा, लेखक और मशहूर गीतकार वरुण ग्रोवर का कार्यक्रम भी आज है. इस बार साहित्य आजतक के मंच से वे सबको हंसाएंगे. इसके साथ ही विचारधारा का साहित्य कार्यक्रम में सुधीश पचौरी, सच्चिदानंद जोशी और अनंत विजय शामिल हो रहे हैं.

  • 09:13 ISTPosted by Abhishek Shukla

    आशुतोष राणा की मौन मुस्कान की मार

    दिग्गज फिल्म अभिनेता और सामाजिक मुद्दों के प्रखर लेखक आशुतोष राणा भी साहित्य आजतक के दूसरे दिन मौजूद रहेंगे. इस कार्यक्रम में कवि आशुतोष राणा अपनी कविता पढ़ेंगे. सुर और सितार कार्यक्रम में संगीतकार और सितार वादक शुजात हुसैन खान शामिल होने वाले हैं.  वहीं गीत गाता हूं मैं कार्यक्रम में कविता किरण, पंकज शर्मा, चेतन आनंद और अंकुर मिश्रा वक्ता होंगे.

  • 09:12 ISTPosted by Abhishek Shukla

    आज दिखेगा भोजपुरिया स्टारों का जलवा

    साहित्य आजतक में आज भोजपुरी स्टारों का जलवा दिखेगा. भोजपुरिया स्टार सेशन में सांसद और सुपरस्टार अभिनेता रवि किशन, सांसद गायक औऱ अभिनेता मनोज तिवारी भी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे.

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay