एडवांस्ड सर्च

महाराष्ट्र में सहयोगियों के बीच सत्ता संघर्ष, राज्यपाल से अलग-अलग मिले फडणवीस-शिवसेना नेता

सौरभ वक्तानिया अक्टूबर 28, 2019
अपडेटेड 21:49 IST

हरियाणा में सरकार के गठन के बाद अब रुख महाराष्ट्र की ओर है. जहां पर सरकार बनाने की कवायद तेज हो गई है. दिवाली के अगले दिन महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर संघर्ष तेज हुआ, सोमवार सुबह पहले शिवसेना और फिर भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रतिनिधिमंडल अलग-अलग राज्यपाल से मिलने पहुंचा. जिसने दोनों पार्टियों के बीच चल रही तनातनी को और भी हवा दे दी.

Check Latest Updates
Advertisement
कुर्सी की रेस, राज्यपाल से अलग-अलग मिले फडणवीस-शिवसेना नेतामहाराष्ट्र में शुरू हुआ सत्ता संघर्ष

हाइलाइट्स

  • महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद के लिए खींचतान तेज
  • शिवसेना-BJP ने अलग-अलग राज्यपाल से मुलाकात की
  • दोनों पार्टियों के गठबंधन को मिली हैं 161 सीटें
  • 17:05 ISTPosted by ravikant singh

    50-50 पावर शेयरिंग का मतलब है पदों का बराबर बंटवारा

    शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा, सरकार गठन में देरी के लिए हमलोग जिम्मेदार नहीं हैं. गठबंधन का एक धर्म होता है. हम सत्ता के भूखे नहीं हैं. लोकसभा चुनाव से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या फैसला हुआ था, इससे सभी लोग अवगत हैं. 50-50 पावर शेयरिंग का मतलब है पदों का बराबर बंटवारा.

  • 12:22 ISTPosted by Mohit Grover

    सीएम पद पर अड़ी शिवसेना, फिर बीजेपी की संकटमोचक बन सकती है एनसीपी

    महाराष्ट्र में बीजेपी-शिवसेना के बीच मुख्यमंत्री पद को लेकर खींचतान जारी है. महाराष्ट्र की सत्ता की चाबी फिलहाल एनसीपी के हाथों में नजर आ रही है. ऐसे में शरद पवार बीजेपी या शिवसेना में जिसके साथ खड़े हो जाएं, सत्ता का सिंहासन उसका है. इसके बावजूद शरद पवार से लेकर एनसीपी के तमाम नेता सरकार बनाने से ज्यादा विपक्ष में बैठने को लेकर सहमत हैं. एनसीपी अगर अपने स्टैंड पर कायम रहती है तो शिवसेना से पास बीजेपी के साथ सरकार बनाने के सिवा कोई और विकल्प नहीं बचेगा.

    इसे पढ़ें: सीएम पद पर अड़ी शिवसेना, फिर बीजेपी की संकटमोचक बन सकती है एनसीपी

  • 11:51 ISTPosted by Mohit Grover

    महाराष्ट्र के राज्यपाल से मिले देवेंद्र फडणवीस.

  • 11:36 ISTPosted by Mohit Grover

    50-50 फॉर्मूले पर अड़ी है शिवसेना

    आपको बता दें कि महाराष्ट्र में एक बार फिर शिवसेना-बीजेपी को बहुमत मिला है. महाराष्ट्र में 288 विधानसभा सीटों के लिए हुए चुनाव में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को 161 सीटें मिलीं जबकि कांग्रेस-एनसीपी और इसके दूसरे सहयोगियों ने 117 सीटें हासिल कीं. चुनाव नतीजों के बाद से ही शिवसेना 50-50 फॉर्मूले पर अड़ी हुई है.

  • 11:32 ISTPosted by Mohit Grover

    शिवसेना के बाद देवेंद्र फडणवीस भी मिलने पहुंचे

    शिवसेना नेता की मुलाकात के कुछ देर बाद ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी राजभवन पहुंचे. देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की. गौरतलब है कि महाराष्ट्र में शिवसेना और भाजपा के बीच मुख्यमंत्री के पद को लेकर दंगल चल रहा है. शिवसेना बीजेपी से 50-50 के फॉर्मूले के तहत मुख्यमंत्री का पद मांग रही है, लेकिन अभी भाजपा चुप्पी साधे हुए है. बीजेपी 30 अक्टूबर को अपने विधायक दल की बैठक करेगी.

  • 11:31 ISTPosted by Mohit Grover

    शिवसेना नेता ने की राज्यपाल से मुलाकात

    सोमवार सुबह शिवसेना नेता दिवाकर रोते महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात करने पहुंचे. शिवसेना नेता की इस मुलाकात को सरकार गठन से जोड़ा गया. मुलाकात के बाद उन्होंने बयान दिया कि वह राज्यपाल महोदय से सिर्फ दिवाली पर भेंट करने पहुंचे थे. वह 1993 से राज्यपाल से मिलने आ रहे हैं, इस मुलाकात में कोई राजनीतिक चर्चा नहीं हुई है.

  • 11:31 ISTPosted by Mohit Grover

    महाराष्ट्र में शुरू हुआ सत्ता का संघर्ष

    हरियाणा में सरकार के गठन के बाद अब रुख महाराष्ट्र की ओर है. जहां पर सरकार बनाने की कवायद तेज हो गई है. दिवाली के अगले दिन महाराष्ट्र में सत्ता को लेकर संघर्ष तेज हुआ, सोमवार सुबह पहले शिवसेना और फिर भारतीय जनता पार्टी की ओर से प्रतिनिधिमंडल अलग-अलग राज्यपाल से मिलने पहुंचा. जिसने दोनों पार्टियों के बीच चल रही तनातनी को और भी हवा दे दी.

     

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay