एडवांस्ड सर्च

न्यूयॉर्क पहुंचे पीएम का जबरदस्त स्वागत, लोगों ने लगाए नरेंद्र मोदी के नाम के नारे

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न्यूयॉर्क पहुंच गए हैं. न्यूयॉर्क के JFK एयरपोर्ट पर मोदी का विमान उतरा और उनका भव्य स्वागत किया गया. मोदी पांच दिवसीय अमेरिकी दौरे पर हैं. कड़ी सुरक्षा के बीच पीएम मोदी का काफिला एयरपोर्ट से रवाना हुआ.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited By: नमिता शुक्ला]न्यूयॉर्क, 27 September 2014
न्यूयॉर्क पहुंचे पीएम का जबरदस्त स्वागत, लोगों ने लगाए नरेंद्र मोदी के नाम के नारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न्यूयॉर्क पहुंच गए हैं. न्यूयॉर्क के JFK एयरपोर्ट पर मोदी का विमान उतरा और उनका भव्य स्वागत किया गया. मोदी पांच दिवसीय अमेरिकी दौरे पर हैं. कड़ी सुरक्षा के बीच पीएम मोदी का काफिला एयरपोर्ट से रवाना हुआ. मोदी जब एयर इंडिया के विमान से उतरे तो उन्होंने कत्थई रंग का गोल गले का कोट और काले रंग की पैंट पहन रखी थी. पीएम मोदी के चेहरे का आत्मविश्वास देखने लायक था.

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब पांच दिवसीय अमेरिकी दौरे के लिए न्यूयॉर्क के JFK एयरपोर्ट पर पहुंचे तो उनका शानदार स्वागत हुआ. लेकिन जब वो न्यूयॉर्क पैलेस होटल पहुंचे तो वहां का नजारा देखकर हर कोई दंग रह गया. मोदी के स्वागत में होटल के बाहर लोगों का हुजूम उमड़ा हुआ था. वहां पहुंचे लोग पीएम मोदी की एक झलक पाने के लिए बेकरार दिखे. लोग भारतीय पीएम की तस्वीर लेकर मोदी-मोदी के नारे लगा रहे थे.

देखें मोदी के भव्य स्वागत की तस्वीरें...

अमेरिका की पांच दिवसीय यात्रा पर शुक्रवार को न्यूयॉर्क पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस देश को भारत का ‘स्वाभाविक वैश्विक साझेदार’ बताया और आश्वासन दिया कि भारत व्यापार और नवोन्मेषों के प्रति ‘खुला एवं दोस्ताना’ है. प्रधानमंत्री के तौर पर अमेरिका की अपनी पहली यात्रा पर मोदी एयर इंडिया के विशेष बोइंग विमान से न्यूयार्क के जेकेएफ हवाई अड्डे पर उतरे. 64 वर्षीय मोदी फ्रैंकफर्ट में रातभर आराम करने के बाद करीब नौ घंटे की उड़ान भरकर यहां पहुंचे. पिछले साल तीखे राजनयिक विवाद के बाद मोदी की चाहत भारत को निवेश के अनुकूल स्थान के तौर पर पेश करने और दोनों देशों के संबंधों में सुधार लाने की है. मोदी ने जोर देकर कहा कि दोनों देशों का एकदूसरे की सफलता में बुनियादी हिस्सेदारी और साझा हित है.

मोदी ने यहां पहुंचने से पहले कहा कि वह अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा से वाशिंगटन में मुलाकात का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं. मोदी अपनी अमेरिका यात्रा के दूसरे और अंतिम चरण में 29 और 30 सितम्बर को दो दिन ओबामा से मुलाकात करेंगे. विश्व के दो सबसे बड़े लोकतांत्रिक देशों के नेताओं के बीच यह पहली मुलाकात होगी. प्रधानमंत्री मोदी का न्यूयॉर्क और वाशिंगटन दोनों ही जगहों पर बहुत व्यस्त कार्यक्रम हैं. मोदी को अपने तीन दिवसीय न्यूयॉर्क प्रवास के दौरान 27 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपना पहला संबोधन देना हैं.

मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में अपने संबोधन के बारे में संकेत देते हुए कहा कि वह कमजोर वैश्विक अर्थव्यवस्था, विश्व के कई हिस्सों में अशांति, तनाव एवं आतंकवाद के प्रसार की चुनौतियों के समाधान के लिए मजबूत वैश्विक प्रतिबद्धता तथा अधिक ठोस बहुपक्षीय कार्रवाई का आह्वान करेंगे. उन्होंने कहा कि वह ओबामा के साथ चर्चा करेंगे कि भारत और अमेरिका के संबंधों को किस तरह से दोनों देशों तथा विश्व के हितों के अनुरूप ‘नये स्तर तक’ ले जाया जा सकता है.

उन्होंने अमेरिका को भारत के राष्ट्रीय विकास के लिए अपने देश का ‘महत्वपूर्ण साझेदार’ बताया. ओबामा 29 सितम्बर को मोदी के लिए व्हाइट हाउस में मोदी के लिए निजी भोज का आयोजन करेंगे ताकि वह अगले दिन शिखर बैठक से पहले मोदी के साथ एक निजी संबंध स्थापित कर सकें. उम्मीद की जा रही है कि मोदी रात्रिभोज में केवल चाय और नींबू पानी लेंगे क्योंकि उनकी अमेरिका यात्रा नवरात्र के समय हो रही है जिस दौरान वह प्रत्येक वर्ष उपवास रखते हैं.

मोदी संयुक्त राष्ट्र महासभा को शनिवार को संबोधित करने और मैनहेट्टन स्थित मैडिसन गार्डन में भारतवंशी समुदाय के लोगों को संबोधित करने के बाद सोमवार को राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ द्विपक्षीय वार्ता करेंगे. यह ओबामा के साथ उनकी पहली मुलाकात होगी.

अमेरिकी कंपनी प्रमुखों से मिलेंगे मोदी
मोदी जब सोमवार को अमेरिका के प्रमुख मुख्य कार्यकारी अधिकारियों (सीईओ) के साथ नाश्ते की मेज पर बैठेंगे, तो वह एक कारोबारी प्रबंधक की तरह बात करेंगे. वह अपने देश की छवि एक निवेश गंतव्य के रूप में उभारने की हसरत रखते हैं. मोदी 29 सितंबर को अमेरिका के 11 प्रमुख संस्थानों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ नाश्ते की मेज पर मिलेंगे. उसके बाद दिन में वह छह प्रमुख मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ एक-एक कर मिलेंगे. प्रत्येक के साथ वह 15-20 मिनट के लिए मिलेंगे.

उनसे मिलने वालों में शामिल हैं: बोइंग के अध्यक्ष डब्ल्यू. जेम्स (जिम) मैकनर्नी जूनियर, अमेरिकी निवेश प्रबंधन कंपनी ब्लैक रॉक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी लॉरेंस डी. फिंक, आईबीएम के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी गिन्नी रोमेट्री, जेनरल इलेक्ट्रिक के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी जेफरी आर. इमेल्ट, गोल्डमैन सैक्स के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी लॉयड ब्लैंकफीन और अमेरिकी निजी इक्वि टी फंड कोलबर्ग क्रैविस रॉबर्ट एंड कंपनी (केकेआर) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हेनरी क्रैविस.

नाश्ते पर जिन 11 मुख्य कार्यकारियों से वह मिलेंगे, उनमें शामिल हैं: गूगल के एरिक स्क्मिड, कार्लाइल समूह के डेविड एम. रुबेंस्टीन, सिटीग्रुप के माइकेल कॉर्बेट, कैटरपिलर इंक के डग ओबरहेमन, पेप्सिको के इंद्रा नूयी और फार्मास्यूटिकल्स कंपनी हॉस्पीरा इंक के माइकेल बॉल तथा मर्क एंड कंपनी के केनेथ सी. फ्रेजर.

जापान में भी मोदी ने काफी अच्छी तरह से मुख्य कार्यकारियों के सामने निवेश की बात रखी थी और उन्हें हर तरह की सुविधा देने का वादा किया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay