एडवांस्ड सर्च

महाराष्ट्र: 33 निजी अस्पतालों के लिए आदेश, BMC के नियंत्रण में होंगे ICU के सभी बेड

बीएमसी के आदेशों के मुताबिक सभी 33 निजी अस्पताल आज से कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के बेड के लिए निर्धारित शुल्क ही चार्ज करेंगे.

Advertisement
aajtak.in
दिव्येश सिंह/ साहिल जोशी मुंबई, 22 May 2020
महाराष्ट्र: 33 निजी अस्पतालों के लिए आदेश, BMC के नियंत्रण में होंगे ICU के सभी बेड महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी (फाइल फोटो)

  • निजी अस्पतालों पर महाराष्ट्र सरकार की सख्ती
  • मुंबई के 33 निजी अस्पतालों के लिए आदेश जारी

महाराष्ट्र सरकार ने कोरोना मरीजों को भर्ती नहीं करने या ओवरचार्जिंग को लेकर निजी अस्पतालों पर नकेल कसनी शुरू कर दी है. बीएमसी ने मुंबई के 33 अस्पतालों को कोरोना मरीजों के लिए 2624 बेड और नॉन-कोरोना मरीजों के लिए 3020 बेड देने का आदेश जारी किया है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

बीएमसी (बृहन्मुंबई नगर निगम) ने 33 अस्पतालों के लिए सरकारी दरों पर गरीब और मिडल क्लास के लिए अतिरिक्त 417 बेड कोविड आईसीयू और नॉन-कोविड आईसीयू के लिए 538 बेड मुहैया कराने का आदेश जारी किया है.

33 निजी अस्पतालों के लिए आदेश

बीएमसी के आदेशों के अनुसार, वे सभी 33 निजी अस्पताल आज यानी शुक्रवार से कोविड-19 मरीजों के बेड के लिए निर्धारित शुल्क ही चार्ज करेंगे. उन हॉस्पिटलों में अपनी दरों के हिसाब से 20 प्रतिशत बेड का संचालन करेंगे, जबकि 100 प्रतिशत आईसीयू बेड और 80 प्रतिशत अन्य बेड बीएमसी की देखरेख में होगा.

पिछले कुछ समय में ऐसे मामले सामने आए हैं जहां कोरोना पॉजिटिव मरीजों को उपलब्ध अस्पतालों में बेड की कमी होने या देरी से अस्पताल में भर्ती होने या इलाज में देरी होने के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आदेश यह भी है कि केईएम, नायर, सायन, जेजे-जीटी-सेंट जॉर्ज और बीएमसी पेरीफेरल जैसे सरकारी अस्पतालों में जवाबदेही के साथ कर्तव्यों का सख्ती से पालन कराने के लिए एक-एक आईएएस अधिकारी को नियुक्त किया जाएगा. उन अस्पतालों के लिए आईएएस अधिकारियों की जिम्मेदारी होगी-

  • प्रत्येक सरकारी अस्पताल में तुरंत वार रूम की स्थापना, सभी आईसीयू बेड और कोविड वार्ड में सीसीटीवी लाइव, डॉक्टर-नर्स और पैरा-मेडिकल की उपस्थिति सुनिश्चित करना (विशेष रूप से देर रात और सुबह के समय)
  • रियल टाइम बेड मैनेजमेंट डैशबोर्ड पर हर 30 मिनट में रियल टाइम डेटा अपलोड हो.
  • डिस्चार्ज नीति का का सख्ती से पालन (यह सुनिश्चित करने के लिए कि मरीज कोरोना नेगेटिव हो जाने पर ना रूके)
  • प्रत्येक बेड के लिए यूनिक आईडी प्रदान करना. 1916 पर कॉल कर बेड नंबर के साथ बेड आवंटित करने के लिए डैशबोर्ड.
  • मरीजों और उनके रिश्तेदारों को अच्छी क्वालिटी वाले भोजन के पैकेट उपलब्ध कराना.
  • अस्पतालों की स्वच्छता और रखरखाव के मुद्दों को सुनिश्चित करना.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay