एडवांस्ड सर्च

कोरोना: लॉकडाउन को लेकर झारखंड के तीन गांवों ने पेश की मिसाल

राजधानी रांची से 25 किलोमीटर दूर स्थित जारा टोली गांव में करीब 150 घर हैं. यहां अधिकतर श्रमिक रहते हैं. जारा टोली गांव से पहले बादाम और महिलोंग को जोड़ने वाले रास्तों पर युवकों ने खुद ही बैरिकेडिंग लगा दिए हैं.

Advertisement
aajtak.in
सत्यजीत कुमार रांची, 25 March 2020
कोरोना: लॉकडाउन को लेकर झारखंड के तीन गांवों ने पेश की मिसाल झारखंड के जारा टोली गांव में करीब 150 घर हैं

  • बैरिकेडिंग करके गांव में एंट्री-एग्जिट को रोका
  • गांव के ही युवक टोलियों में निगरानी कर रहे हैं

झारखंड के तीन गांवों ने कोरोना वायरस संकट के दौरान लॉकडाउन के लिए नायाब मिसाल पेश की है. यहां आने-जाने वाले रास्तों को लकड़ी की मोटी बल्लियों से बंद कर दिया गया है. न किसी को गांवों में आने दिया जा रहा है और न ही किसी को बाहर जाने दिया जा रहा है. गांव के ही युवक टोलियों में निगरानी कर रहे हैं.

राजधानी रांची से 25 किलोमीटर दूर स्थित जारा टोली गांव में करीब 150 घर हैं. यहां अधिकतर श्रमिक रहते हैं. जारा टोली गांव से पहले बादाम और महिलोंग गावों को जोड़ने वाले रास्तों पर युवकों ने खुद ही बैरीकेडिंग लगा दिए हैं. इन युवकों का कहना है कि चाहे जैसे भी हालात हों गांव में ही रहेंगे. इन्होंने कोरोना वायरस महामारी पर जागरूकता के लिए संदेश लिख कर लगा रखे हैं.

स्थानीय नागरिक सोहराई मुंडा का कहना है कि सुरक्षित रहने और कोरोना वायरस को मात देने का एक ही तरीका है कि लॉकडाउन का पालन किया जाए और एक दूसरे से दूरी बना कर रखी जाए.

आजतक की टीम ने वहां देखा कि इन गांवों के लोग कई शहरी लोगों से अधिक जागरूक हैं. शहरों में लॉकडाउन के उल्लंघन की कई रिपोर्ट आ रही हैं लेकिन इन तीन गांवों के लोगों ने सामूहिक बैठक कर फैसला किया कि 21 दिन तमाम विपरीत स्थितियों के बावजूद वो लॉकडाउन का पालन करेंगे.

LIVE: देश में 600 पार पहुंची कोरोना मरीजों की संख्या, एमपी में वायरस से पहली मौत

गांव के ही रहने वाले संजय टोप्पो ने आजतक को बताया. “यहां घरों के अधिकतर मुखिया दिहाड़ी श्रमिक हैं. लेकिन इसके बावजूद इन्होंने ना तो किसी को गांव में आने देने और ना ही यहां से किसी को बाहर जाने देने का फैसला किया.”

गांव में रहने वाले बदरू ओरान बीते तीन दिनों से गांव में ही हैं और काम पर नहीं जा रहे हैं. वो एक दिन में 300 रुपए दिहाड़ी कमाते थे और घर में पत्नी, बच्चों के साथ गुजारा करते थे. ओरान के मुताबिक उन्हें नहीं पता कि कैसे घर चलेगा लेकिन ये बात पक्की है कि चाहे कुछ हो घर से बाहर जाकर अपनी और परिवार के सेहत को खतरे में नहीं डालेंगे.

कमलनाथ की PC में मौजूद रहा पत्रकार भी कोरोना से संक्रमित, साथी होंगे क्वारनटीन

ओरान ने राज्य सरकार से अपील करते हुए कहा कि वो घर में दो महीने के राशन पहुंचाने के अपने वादे को पूरा करे. गांव में रहने वाली महिला श्रमिक हेलेन को भी समझ नहीं आ रहा कि गुजारा कैसे होगा. वो हर महीने 5000 रुपए तक कमा लेती थीं. दो बच्चों की पढ़ाई का जिम्मा भी उन पर है. वो भगवान से प्रार्थना करती हैं कि कोरोना वायरस को मात देकर सभी को इससे बचाएं.

गांव मुखिया सुमन गारी का कहना है, “हम संदेश देना चाहते हैं कि देश के और सभी लोग भी लॉकडाउन को लेकर ऐसा ही रास्ता अपनाएं. हर चीज प्रशासन पर ही ना छोड़ी जाए इसलिए हमने खुद बैरिकेडिंग बनाएं.” वाकई इन तीन गांवों ने देश के सामने मिसाल पेश की है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay