एडवांस्ड सर्च

दिल्ली: मास्क, ग्लव्स, PPEs की किल्लत से जूझ रहे अस्पताल, राशनिंग शुरू

दिल्ली के एक प्रमुख अस्पताल के एक डॉक्टर ने बताया कि मेडिकल समुदाय में भी घबराहट है. भीलवाड़ा में कई डॉक्टर्स Covid-19 पॉजिटिव पाए गए हैं. कई लोग N95 मास्क का तब भी इस्तेमाल कर रहे हैं जबकि इसकी जरूरत नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
मिलन शर्मा नई दिल्ली, 26 March 2020
दिल्ली: मास्क, ग्लव्स, PPEs की किल्लत से जूझ रहे अस्पताल, राशनिंग शुरू सांकेतिक तस्वीर

  • सरकारी अस्पतालों में ग्लव्स, मास्क की दिक्कत
  • भीलवाड़ा में कई डॉक्टर्स Covid-19 पॉजिटिव

सरकारी अस्पतालों को मास्क, ग्लव्स और प्रोटेक्टिव गियर्स जैसे पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट्स (PPE) की किल्लत से जूझना पड़ रहा है. दिल्ली में कई अस्पतालों ने इनकी राशनिंग शुरू कर दी है. ये उन्हीं डॉक्टर्स और मेडिकल स्टाफ को उपलब्ध कराए जा रहे हैं जो Covid-19 मरीजों का इलाज कर रहे हैं.

दिल्ली के एक प्रमुख अस्पताल के एक डॉक्टर ने पहचान नहीं खोलने की शर्त पर बताया, “मेडिकल समुदाय में भी घबराहट है. भीलवाड़ा में कई डॉक्टर्स Covid-19 पॉजिटिव पाए गए हैं. कई लोग N95 मास्क का तब भी इस्तेमाल कर रहे हैं जबकि इसकी ज़रूरत नहीं है. अब ऐसी आपूर्ति की राशनिंग कर दी गई है.”

डॉक्टर ने कहा, “कई सर्जरी में N95 मास्क की जरूरत होती है. इसके अलावा टीबी मरीज को देखते हुए भी इसे लगाना पड़ता है और कई सर्जरी में साधारण सर्जिकल मास्क इस्तेमाल किया जा सकता है. कई अस्पतालों में जहां Covid-19 मरीजों के इलाज के लिए सीधा संपर्क नहीं है, वहां खुद के बनाए मास्क इस्तेमाल किए जा रहे हैं.”

ये भी पढ़ें- लॉकडाउन: सरकार का इकोनॉमी बूस्टर डोज, किसान-मजदूर-महिलाओं को पैकेज का ऐलान

भारत सरकार ऐसी आवश्यक वस्तुओं की कमी नहीं होने देने के लिए प्रयास कर रही है और इनकी आपूर्ति के लिए ऑर्डर दिए जा रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय के ज्वॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने बताया, ‘हमने PPEs का निर्यात 31 जनवरी से ही प्रतिबंधित कर रखा है. हमने वायरस की किस्म को देखते हुए PPEs के इस्तेमाल के लिए तकनीकी दिशा-र्निदेश भी जारी किए हैं. हमारे पास हैंडहोल्डिंग और घरेलू सप्लायर्स हैं, PPEs के लिए अधिकतर कच्चा सामान विदेश से ही आता है.”

एक अनुमान के मुताबिक, एक अस्पताल में जहां कई रेजीडेंट डाक्टर्स होते हैं, वहां हर दिन 200-250 N95 मास्क की जरूरत होती है. इसमें सरकारी अस्पतालों के सफाईकर्मी और कर्मचारी शामिल नहीं है. अस्पतालों को ऐसी चीज़ों की चोरी जैसे मुद्दों का सामना भी करना पड़ता है.

ये भी पढ़ें- सरकार का ऐलान- हर कोरोना वॉरियर्स को मिलेगा 50 लाख का बीमा कवर

डॉक्टर आशंका जताते हैं कि अगले कुछ दिन बहुत अहम हैं और ये वायरस के फैलाव की स्थिति को स्पष्ट करेंगे. अगर सामुदायिक संक्रमण शुरू हो गया तो मेडिकल प्रैक्टीशनर्स के लिए बिना समुचित प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट्स के काम करना मुश्किल हो जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay