एडवांस्ड सर्च

दिल्ली मरकज में कोरोना संक्रमितों के बाद यूपी के 19 जिलों में अलर्ट

उत्तर प्रदेश के गृह सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि हमने कई लोगों का पता लगाया है जो दिल्ली में आयोजित धार्मिक समागम में शामिल हुए थे. उन्हें 14 दिन के क्वारनटीन में रखा जाएगा और उनके नमूने परीक्षण के लिए एकत्र भी किए जाएंगे. अगर किसी में कोरोना वायरस के लक्षण मिलते हैं तो उन्हें आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा.

Advertisement
aajtak.in
नीलांशु शुक्ला लखनऊ, 01 April 2020
दिल्ली मरकज में कोरोना संक्रमितों के बाद यूपी के 19 जिलों में अलर्ट दिल्ली की एक जमात में शामिल लोगों को अस्पताल पहुंचाया गया (PTI)

  • सीएम योगी ने कोरोना प्रभावित जिलों में दौरे में कटौती की
  • कार्यक्रम में भाग लेने वालों की पहचान के लिए छापेमारी
  • भाग लेने वालों को क्वारनटीन किया जाएगा, टेस्ट भी होगा

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज में उत्तर प्रदेश के 157 लोगों के शामिल होने के बाद प्रदेश के 19 जिलों को अलर्ट पर रखा गया है. कोरोना वायरस फैलाने के मामले में दिल्ली का यह क्षेत्र एक उपकेंद्र बन गया है. उत्तर प्रदेश में ऐसे लोगों की पहचान के लिए कई स्थानों पर छापेमारी भी की गई जो दिल्ली में इस कार्यक्रम में भाग लेने आए थे.

उत्तर प्रदेश के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने प्रदेश के 19 जिलों के प्रमुखों को यह सुनिश्चित करने का आदेश दिया कि दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित धार्मिक समागम में भाग लेने के बाद प्रदेश लौटने वाले सभी लोगों की पहचान की जाए और स्थानीय अधिकारियों की मदद से उन्हें क्वारनटीन किया जाए.

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी अब उन जिलों के दौरे में कटौती कर दी है जहां कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं और वह मंगलवार दोपहर गाजियाबाद से लखनऊ लौट आए.

लखनऊ में दिल्ली की घटना के मद्देनजर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के गृह सचिव अवनीश अवस्थी, मुख्य सचिव आरके तिवारी, राज्य के डीजीपी हितेश अवस्थी, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य और अन्य शीर्ष अधिकारियों सहित कई वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

प्रदेश के गृह सचिव अवनीश अवस्थी ने कहा कि हमने कई लोगों का पता लगाया है जो दिल्ली में आयोजित धार्मिक समागम में शामिल हुए थे. उन्हें 14 दिन के क्वारनटीन में रखा जाएगा और उनके नमूने परीक्षण के लिए एकत्र किए जाएंगे. जिनमें कोरोना वायरस के लक्षण मिलते हैं तो उन्हें आइसोलेशन वार्ड में रखा जाएगा. हम उन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे जो सहयोग नहीं करेंगे.

विदेशियों की संख्या कितनी, साफ जानकारी नहीं

निजामुद्दीन के तबलीगी जमात मरकज मामले में उत्तर प्रदेश के 157 लोगों के अलावा कई दर्जन विदेशी भी अलग-अलग जिलों के मस्जिदों-मदरसों में छुपे पाए गए हैं. हालांकि इनकी पूरी संख्या अभी तक साफ नहीं हो पाई है लेकिन कई जिलों से लगातार विदेशी तब्लीगी जमात के लोग मिल रहे हैं जो अलग-अलग इलाकों में कहीं मस्जिदों में कहीं मौलवियों के घर छुपे हुए थे.

बांग्लादेश, इंडोनेशिया, किर्गिस्तान और थाइलैंड जैसे देशों के तबलीगी जमात के लोग भी अलग-अलग जिलों में मिले हैं. पुलिस इन लोगों की जानकारी जुटाकर फिलहाल उन्हें क्वारनटाइन कर रही है. इनमें से ज्यादातर ऐसे लोग हैं जो अपने वैद्य पासपोर्ट पर भारत आए हैं और धर्म प्रचार के लिए अलग-अलग जिलों में पहुंचे थे.

बिजनौर में इमाम समेत 3 पर केस

इस बीच 8 इंडोनेशियाई इस्लामी उपदेशक, जो दिल्ली में धार्मिक समागम में शामिल हुए थे, वे बिजनौर के नगीना क्षेत्र में एक मस्जिद में ठहरे हुए थे. अब उन्हें जिला अस्पताल में एक आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है और उनके नमूने परीक्षण के लिए भेज दिए गए हैं.

इस बीच इमाम और मस्जिद के 2 अन्य सदस्यों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया है जिन्होंने उन्हें पनाह दी थी और जिला प्रशासन को इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी थी.

इसी तरह जौनपुर में सराय ख्वाजा थाना क्षेत्र में 14 बांग्लादेशी मस्जिद के पास एक मौलवी के घर से बरामद किए गए हैं. साथ ही बिहार और झारखंड के दो इनके गाइड भी मिले हैं जिन्होंने बिना किसी सूचना के जौनपुर के मस्जिद के पास खुद को छुपा रखा था.

जौनपुर पुलिस इनके खिलाफ विदेशी अधिनियम एक्ट पासपोर्ट ऐप्स आईपीसी की कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है. जिला प्रशासन ने फिलहाल मामला दर्ज कर इन सबों को क्वारनटाइन में भेज दिया है. चौंकाने वाली बात यह है कि जौनपुर में इन बांग्लादेशियों के अलावा इनके मददगार तीन लोग भी मिले हैं जो पश्चिम बंगाल, बिहार और एक स्थानीय जौनपुर का है.

इसे भी पढ़ें--- मोदी बोले- महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता था, कोरोना से 21 दिन में जीत की कोशिश

दूसरी ओर, पुलिस अधिकारियों और स्वास्थ्य अधिकारियों की एक टीम ने लखनऊ के कैसरबाग क्षेत्र में एक मजारक का दौरा किया, जहां किर्गिस्तान के 6 नागरिक वैध वीजा पर रह रहे थे. उनके पासपोर्ट और अन्य जानकारी सही पाए गए. उनके भी नमूने लिए गए लेकिन कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आया. राज्य की राजधानी में रहने वाले कुछ लोग दिल्ली के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay