एडवांस्ड सर्च

कोरोना से जंग में भारत को बड़ी कामयाबी, मल्टीपेशेंट वेंटिलेटर का टेस्ट सफल

भारत में कोरोना वायरस तेजी से फैलने के बीच मल्टीपेशेंट वेंटिलेटर के आ जाने से मरीजों के इलाज में राहत मिलेगी.

Advertisement
aajtak.in
मंजीत सिंह नेगी नई दिल्ली, 31 March 2020
कोरोना से जंग में भारत को बड़ी कामयाबी, मल्टीपेशेंट वेंटिलेटर का टेस्ट सफल कोरोना के बढ़ते मामलों की वजह से वेंटिलेटर की मांग बढ़ती जा रही (सांकेतिक फोटो-PTI)

  • अगले महीने ऐसे 5,000 वेंटिलेटर बनाए जाएंगेः DRDO
  • देश में 30 से ज्यादा लोगों की कोरोना से हो चुकी है मौत

कोरोना वायरस पूरी दुनिया में कहर बरपा रहा है और इससे निपटने के लिए दुनियाभर की सरकारें लगी हुई हैं. इस बीच इस जंग में भारत को बड़ी कामयाबी मिली है. भारत ने ऐसे वेंटिलेटर का सफल परीक्षण किया है जिसे कई मरीजों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.

डीआरडीओ के चेयरमैन सतीश रेड्डी ने आजतक के साथ खास इंटरव्यू में कहा कि वेंटिलेटर की कमी की स्थिति में इन वेंटिलेटर्स का इस्तेमाल कई मरीजों के लिए किया जा सकता है.

सार्वजनिक उपक्रम भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (BEL) अगले महीने के अंत तक ऐसे 5,000 वेंटिलेटर्स का निर्माण कर लेगा.

इसे भी पढ़ें- मोदी बोले- महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता था, कोरोना से 21 दिन में जीत की कोशिश

DRDO के चेयरमैन डॉक्टर सतीश रेड्डी ने कहा कि इन वेंटिलेटर का कई अस्पतालों और कई डॉक्टरों के समूहों की ओर से परीक्षण किया गया है. और यह सही ढंग से काम कर रहा है. मेडिकल एक्सपर्ट्स ने हमें अधिक सुझाव दिए थे. बहुत संभव है कि अगले कुछ दिनों में हम नई विशेषताओं के साथ नए उत्पाद बनाने शुरू कर देंगे.

इंडिया टुडे का खुलासा

इस बीच देश में कोरोना वायरस से जुड़े जैसे-जैसे मामले बढ़ रहे हैं वैसे ही वेंटिलेटर्स की जमाखोरी और अधिक कीमत ऐंठने का गंदा खेल भी शुरू हो गया है. इंडिया टुडे इंवेस्टिगेशन टीम ने अपनी जांच में इस खौफनाक हकीकत का खुलासा भी किया है. वेंटिलेटर फेफड़ों के नाकाम रहने पर ऑक्सीजन को मरीज के शरीर में पहुंचाता है. Covid19 के गंभीर मरीजों को ज़िंदा रहने के लिए इसकी ज़रूरत पड़ सकती है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

भारत में कोरोना वायरस तेजी से फैलता जा रहा है और अब तक 1,299 से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं. देशभर में 1262 केस सामने आ चुके हैं और अब तक 36 लोगों की मौत हो चुकी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay