एडवांस्ड सर्च

तबलीगी जमात के मुखिया ने कोरोना अभियान का मजाक बनायाः आरिफ मोहम्मद खान

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने तबलीगी जमात के मुखिया पर नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने कहा कि जमात के मुखिया ने कोरोना के खिलाफ मुहिम का मजाक बनाया है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 31 March 2020
तबलीगी जमात के मुखिया ने कोरोना अभियान का मजाक बनायाः आरिफ मोहम्मद खान केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान (फाइल फोटो-PTI)

  • तबलीगी जमात के मुखिया के रवैये पर जताई नाराजगी
  • कानून का पालन किया जाना चाहिए- आरिफ मोहम्मद

दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज मामले में कार्रवाई की तैयारी शुरू हो गई है. दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने मंगलवार को पुलिस को कार्रवाई के निर्देश दे दिए हैं. इससे पहले मंगलवार को ही दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आयोजकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग की थी.

मौलाना साद और अन्य तबलीगी जमात के लोगों पर सरकारी निर्देशों के उल्लंघन के लिए महामारी रोग अधिनियम 1897 के सेक्शन 269, 270, 271 और आईपीसी की धारा 120-बी के तहत केस दर्ज किया गया है.

इस बीच, केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने कहा है कि तबलीगी जमात के मुखिया ने कोरोना वायरस के खिलाफ अभियान का मजाक बनाया है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने आजतक से बातचीत में कहा, 'इस जमात के जो मुखिया हैं, उनके भाषण यूट्यूब पर मौजूद हैं. इनके भाषणों को देखने वालों की तादाद 80 हजार से भी ज्यादा है. वो इस पूरे अभियान (कोरोना के खिलाफ मुहिम) का मजाक बना रहे हैं. वो इसको साजिश बता रहे हैं. वो कह रहे हैं कि लोगों को मशवरा दिया जा रहा है कि जब तक यह सब (कोरोना वायरस) खत्म न हो जाए तब तक आप मस्जिद मत आएं, बल्कि मैं कह रहा हूं कि आप मस्जिद जरूर आइए.'

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आरिफ मोहम्मद खान ने सवाल किया है कि आखिर जमात के मुखिया के भाषणों पर क्यों किसी ने गौर नहीं किया? इनके भाषणों को सुनकर और जगह भी लोगों ने यही रवैया अख्तियार किया होगा.

राज्यपाल ने कहा कि चूंकि लोगों को आज मरकज से निकाला गया है, इसलिए इसकी चर्चा हो रही है. लेकिन यह भाषण 18 मार्च का है जो यूट्यूब पर है. वीडियो में देखा जा सकता है कि लोग भाषण के दौरान खांस रहे हैं. राज्यपाल ने कहा कि भाषण सुनकर लग रहा है कि जमात के मुखिया लोगों को जेनोसाइड के लिए भड़का रहे हैं. वो लोग कानून का सम्मान नहीं करते हैं. मैं कहता हूं कि कानून का पालन किया जाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay