एडवांस्ड सर्च

दोस्ती बेमिसाल: चीन को पछाड़ भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन चुका है अमेरिका

US President India Visit अमेरिका अब भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन गया है.  इस मामले में अमेरिका ने चीन को पीछे छोड़ दिया है. इससे भारत और अमेरिका के बीच बढ़ते व्यापार संबंधों का पता चलता है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 24 February 2020
दोस्ती बेमिसाल: चीन को पछाड़ भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन चुका है अमेरिका भारत-अमेरिका में बढ़ रही व्यापारिक साझेदारी

  • अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत दौरे पर आए हैं
  • अमेरिका अब भारत का सबसे बड़ा ट्रेडिंग पार्टनर है
  • इस मामले में US ने चीन को पीछे छोड़ दिया है

अमेरिका अब चीन को पीछे छोड़कर भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन गया है.  इससे भारत और अमेरिका के बीच बढ़ते व्यापार संबंधों का पता चलता है.

वाणिज्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, वर्ष 2018-19 में भारत और अमेरिका के बीच 87.95 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार हुआ था. इस दौरान भारत का चीन के साथ द्विपक्षीय व्यापार 87.07 अरब डॉलर रहा. इसी तरह 2019-20 में अप्रैल से दिसंबर के दौरान भारत का अमेरिका के साथ द्विपक्षीय व्यापार 68 अरब डॉलर रहा, जबकि इस दौरान भारत और चीन का द्विपक्षीय व्यापार 64.96 अरब डॉलर रहा. 

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के दौरे पर ट्रेड डील न सही, होगी ये महत्वपूर्ण कारोबारी पहल

FTA की चर्चा

एक्सपर्ट्स का मानना है कि आने वाले समय में भी यह चलन बना रह सकता है क्योंकि भारत और अमेरिका आर्थिक संबंधों को बढ़ाने की कोशिश में जुटे हुए हैं. एक विशेषज्ञ का मानना है कि यदि दोनों देश मुक्त व्यापार समझौता (एफटीए) कर लेते हैं तो द्विपक्षीय व्यापार एक अलग ही स्तर पर पहुंच जाएगा.

न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक,  भारतीय निर्यात संगठन महासंघ (FIEO)के महानिदेशक अजय सहाय ने कहा, 'अमेरिका के साथ एफटीए भारत के लिये बेहद फायदेमंद होगा क्योंकि अमेरिका भारतीय माल एवं सेवाओं का सबसे बड़ा बाजार है.' उन्होंने कहा कि अमेरिका के साथ भारत का आयात और निर्यात दोनों बढ़ रहा है, जबकि चीन के साथ आयात-निर्यात दोनों में गिरावट आ रही है.

हालांकि, भारतीय विदेशी व्यापार संस्थान (IIFT) में प्रोफेसर राकेश मोहन जोशी ने कहा कि भारत को अमेरिका के साथ मुक्त व्यापार समझौता करते वक्त सावधान रहने की जरूरत है, क्योंकि अमेरिका मक्का और सोयाबीन जैसे जिंसों का सबसे बड़ा उत्पादक व निर्यातक है.

भारत के पक्ष में है व्यापार

अमेरिका उन चुनिंदा देशों में से है, जिसके साथ व्यापार संतुलन का झुकाव भारत के पक्ष में है. वर्ष 2018-19 में भारत का चीन के साथ जहां 53.56 अरब डॉलर का व्यापार घाटा रहा था, वहीं अमेरिका के साथ भारत 16.85 अरब डॉलर के व्यापार लाभ की स्थिति में था. आंकड़ों के अनुसार, 2013-14 से लेकर 2017-18 तक चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापार साझेदार रहा है. चीन से पहले यह दर्जा संयुक्त अरब अमीरात को हासिल था. 

इसे भी पढ़ें: मसाला चाय-कॉर्न समोसा, गुजराती अंदाज में होगी राष्ट्रपति ट्रंप की खातिरदारी 

इस बार तो अमेरिका के साथ कोई बड़ी ट्रेड डील नहीं हो भारत और अमेरिका के बीच आगे यदि यदि व्यापार समझौता होता है तो दोनों देशों के बीच व्यापार और बढ़ेगा. भारत अमेरिका में स्टील, स्टील उत्पाद और एल्युमिनियम उत्पादों का निर्यात करीब 22.7 अरब डॉलर का हुआ था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay