एडवांस्ड सर्च

Advertisement

अनलिस्टेड कंपनियों के शेयर डीमैट फॉर्म में ही होंगे जारी: सरकार

मंगलवार को कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री ने इस संबंध में एक बयान जारी किया. इसमें उसने बताया कि भव‍िष्य में डीमैट या इलेक्ट्रोनिक फॉर्म में ही शेयरों को ट्रांसफर किया जाएगा.
अनलिस्टेड कंपनियों के शेयर डीमैट फॉर्म में ही होंगे जारी: सरकार प्रतीकात्मक तस्वीर
aajtak.in [Edited by: विकास जोशी]नई दिल्ली, 11 September 2018

निवेशकों के हितों की रक्षा के लिए सरकार ने एक अहम फैसला लिया है. मंगलवार को केंद्र सरकार ने घोषणा की है कि अब अनलिस्टेड पब्लिक कंपनियों को अपने नये शेयर डीमैट फॉर्म में ही जारी करने होंगे. ऐसा करना इन कंपनियों के लिए 2 अक्टूबर से अनिवार्य हो जाएगा.

मंगलवार को कॉरपोरेट अफेयर्स मिनिस्ट्री ने इस संबंध में एक बयान जारी किया. इसमें उसने बताया कि अनलिस्टेड कंपनियों के शेयर भव‍िष्य में डीमैट या इलेक्ट्रोनिक फॉर्म में ही ट्रांसफर किया जाएगा.

इस फैसले को लेकर मंत्रालय ने कहा कि पारदर्श‍िता बढ़ाने और निवेशकों के हितों की सुरक्षा की खातिर यह कदम उठाया गया है. इसके साथ ही कॉरपोरेट गवर्नेंस को बढ़ावा देने की खातिर भी यह फैसला लिया गया है.

मंत्रालय ने कहा कि 2 अक्टूबर से यह व्यवस्था अनिवार्य हो जाएगी. इसके बाद डिमैटेरियलाइज्ड फॉर्म में ही अनलिस्टेड पब्लिक कंपनियों को अपने नये शेयर जारी करने होंगे. इसके अलावा शेयरों को ट्रांसफर करने का काम भी इसी से करना होगा.

बता दें कि कंपनीज एक्ट, 2013 में सरकारी कंपनियों के साथ ही निजी कंपनियों को भी शामिल किया जाता है. आम तौर पर जिस कंपनी में 200 से ज्यादा सदस्य होते हैं, उसे ही पब्ल‍िक कंपनियों की श्रेणी में रखा जाता है. ऐसी कंपनियों को कॉरपोरेट गवर्नेंस के नियमों का पालन करना पड़ता है.

क्या होगा फायदा?

मिनिस्ट्री की मानें तो ऐसा करने से कई दिक्कतें दूर हो जाएंगी. इस फैसले से फिजिकल सर्ट‍िफ‍िकेट के खोने, चोरी होने और फ्रॉड जैसे कई जोख‍िमों से बचा जा सकेगा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay