एडवांस्ड सर्च

ट्रेड वॉर पर राहत की खबर, अमेरिका- चीन ने एक-दूसरे को दी रियायतें

बुधवार को चीन सरकार ने पहले कुछ कैंसर रोधी अमेरिकी दवाओं और कुछ अन्य वस्तुओं को टैरिफ से राहत दी. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अरबों डॉलर की चीनी वस्तुओं पर टैरिफ बढ़ाने के निर्णय को टाल दिया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 12 September 2019
ट्रेड वॉर पर राहत की खबर, अमेरिका- चीन ने एक-दूसरे को दी रियायतें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

अमेरिका और चीन के बीच करीब एक साल से जारी ट्रेड वॉर पर कुछ राहत वाली खबरें आ रही हैं. अमेरिका और चीन ने एक-दूसरे को कुछ रियायतें दी हैं. बुधवार को चीन सरकार ने पहले कुछ कैंसर रोधी अमेरिकी दवाओं और कुछ अन्य वस्तुओं को टैरिफ से राहत दी. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसका स्वागत करते हुए अरबों डॉलर की चीनी वस्तुओं पर टैरिफ बढ़ाने के निर्णय को 15 दिन के लिए टाल दिया.

इसके पहले दोनों देश ट्रेड वॉर को लेकर वार्ता करने को तैयार हुए थे. इस खबर के आने के बाद गुरुवार को सुबह एशियाई शेयर बाजार चढ़ गए. दुनिया की इन दोनों बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच ट्रेड वॉर बढ़ जाने से पूरी दुनिया के शेयर बाजारों और पूरी अर्थव्यवस्था को मुश्किल हो रही थी.

चीन ने की पहल

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक बुधवार को चीन ने 16 तरह के अमेरिकी उत्पादों पर पहली बार टैक्स पर राहत दिया था. इनमें कुछ कैंसर रोधी दवाएं, ल्युब्रिकैंट्स, पशु-मछली चारा आदि शामिल हैं. इसे चीन द्वारा उठाया गया एक बड़ा कदम और सकारात्मक संकेत माना जा रहा है. दोनों देशों के व्यापार प्रतिनिधि वाशिंगटन में वार्ता के लिए मिलने वाले हैं. ट्रंप ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए बुधवार को पत्रकारों से कहा, 'उन्होंने कुछ कदम उठाए हैं जो काफी अच्छे हैं. मैं समझता हूं कि यह एक बड़ा और सकारात्मक कदम है.'

इसके बाद ट्रंप ने एक ट्वीट में कहा, 'अमेरिका इस बात पर राजी हुआ है कि 250 अरब डॉलर के चीनी आयात पर टैरिफ बढ़ाने के निर्णय को 1 अक्टूबर से टालकर 15 अक्टूबर से लागू किया जाए.' गौरतलब है कि अमेरिका ने चीनी माल पर टैरिफ 25 से बढ़ाकर 30 फीसदी करने का निर्णय लिया है.

दोनों देशों के बीच करीब एक साल से चल रही व्यापारिक लड़ाई से पूरी दुनिया परेशान है. ट्रंप ने उम्मीद जताई है कि जल्दी ही चीन के साथ किसी समझौते पर पहुंच जा सकेगा.

इसके कुछ दिनों पहले ही अमेरिका ने चीन से आयातित अरबों डॉलर के सामान पर 15 फीसदी शुल्क लगा दिया था, जिससे अमेरिका में चीन से आयातित कपड़े-जूते इत्यादि महंगे हो गए हैं. दूसरी तरफ, चीन ने अमेरिका के कच्चे तेल पर 5 फीसदी अतिरिक्त शुल्क दिया. इस बीच, अमेरिकी की रिपब्लिक पार्टी के सांसद स्टीव डेनिस और डेविड परड्यू ने बीजिंग में उप-प्रधानमंत्री और व्यापार वार्ता में मुख्य वार्ताकार लिऊ ही से मुलाकात की थी.

ऐसे शुरू हुआ था ट्रेड वॉर

चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वार पिछले साल मार्च से चल रहा है, जब ट्रंप प्रशासन ने चीन से आयात होने वाले स्टील और एल्युमिनियम पर भारी टैरिफ लगा दिया था. इसके जवाब में तब चीन ने भी अरबों डॉलर के अमेरिकी आयात पर टैरिफ बढ़ा दिया था.

अमेरिका-चीन ट्रेड वॉर सुलझ न पाने से वैश्विक अर्थव्यवस्था को भारी कीमत चुकानी पड़ रही है. दुनिया की प्रमुख नौ अर्थव्यवस्थाएं मंदी की कगार पर हैं. जानकारों का अनुमान है कि यदि इसका समाधान नहीं निकाला गया और ट्रेड वॉर जारी रहा तो इससे साल 2021 तक अमेरिकी अर्थव्यवस्था फिर से मंदी के दायरे में चली जाएगी. इससे पूरे दुनिया की इकोनॉमी को करीब 585 अरब डॉलर का चूना लग सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay