एडवांस्ड सर्च

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव, सेंसेक्‍स-निफ्टी मामूली बढ़त के साथ बंद

ग्‍लोबल ट्रेड के असर और बिकवाली की वजह से शुक्रवार को भारतीय शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव दर्ज की गई.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: दीपक कुमार]नई दिल्‍ली, 07 June 2019
शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव, सेंसेक्‍स-निफ्टी मामूली बढ़त के साथ बंद सेंसेक्‍स-निफ्टी मामूली बढ़त के साथ बंद

ग्‍लोबल ट्रेड के असर और बिकवाली की वजह से भारतीय शेयर बाजार के लिए सप्‍ताह का आखिरी कारोबारी दिन उतार-चढ़ाव का रहा. शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में 250 अंक से ज्‍यादा टूटने के बाद सेंसेक्‍स और निफ्टी बढ़त के साथ बंद हुए. कारोबार के अंत में सेंसेक्‍स 86 अंकों की बढ़त के साथ 39 हजार 616 के स्‍तर पर रहा तो वहीं निफ्टी 26.90 अंक तेजी के साथ 11 हजार 870 अंक पर पहुंच गया. कारोबार के दौरान सेंसेक्‍स 39 हजार 703 के हाई लेवल पर पहुंचा तो वहीं 39 हजार 279 निचला स्‍तर रहा.

किन शेयरों का क्‍या हाल

कारोबार के अंत में यस बैंक के शेयर 2.34 फीसदी नुकसान के साथ बंद हुए. इसी तरह पावरग्रिड के शेयर भी करीब 2 फीसदी टूट गए. वहीं सनफार्मा, कोल इंडिया, रिलायंस, एनटीपीसी के शेयर में 1 फीसदी से अधिक गिरावट रही. इसके अलावा बजाज ऑटो, एनटीपीसी, टाटा स्‍टील, ओएनजीसी, एक्‍सिस बैंक और मारुति के शेयर भी लाल निशान पर बंद हुए.

बढ़त वाले शेयर की बात करें तो इंडस्‍इंड बैंक में 1.90 फीसदी की तेजी दर्ज की गई. बजाज फाइनेंस के शेयर 1.69% और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर 1.49% बढ़त के साथ बंद हुए. इसके अलावा एसबीआई, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक और वेदांता के शेयर भी हरे निशान पर रहे. इस बीच, रुपये की शुरुआत बढ़त के साथ हुई. डॉलर के मुकाबले रुपया 8 पैसे की मजबूती के साथ 69.27 के स्तर पर खुला. वहीं, पिछले कारोबारी दिन यानी गुरुवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 1 पैसे घटकर 69.27 के स्तर पर बंद हुआ था.

गुरुवार को साल की सबसे बड़ी गिरावट

बता दें कि गुरुवार को सेंसेक्‍स करीब 554 अंक यानी 1.38 फीसदी लुढ़ककर 39 हजार 530 के स्‍तर पर बंद हुआ. यह घरेलू शेयर बाजारों में इस साल की एक दिन में सबसे बड़ी गिरावट है. इससे पहले 22 अप्रैल को सेंसेक्स ने 495.10 अंक का गोता लगाया था. वहीं नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 178 अंक यानी 1.48 फीसदी टूटकर 11 हजार 843 अंक पर बंद हुआ.

22 अप्रैल को निफ्टी 158.35 अंक टूटा था. दरअसल, गुरुवार को रिजर्व बैंक के मौद्रिक समीक्षा बैठक में ग्राहकों की राहत के कई फैसले लिए गए लेकिन बैंकिंग सेक्‍टर पर दबाव बढ़ा. यही वजह है कि बिकवाली देखने को मिली. इसके अलावा नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों (एनबीएफसी) की चिंताओं की वजह से भी यह सेक्टर प्रभावित हुआ.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay