एडवांस्ड सर्च

घर तो लौटी लेकिन ताबूत में कैद होकर

अपने सपनों को साथ लिए एक लड़की दिल्ली से सैकड़ों मील दूर मुंबई पहुंचती है. यहीं उसे अपने सपनों में रंग भरना है. लेकिन इससे पहले कि ये मुमकिन होता, कोई उसके सारे सपने बदरंग कर जाता है. अब उसकी जिंदगी पर एक-एक दिन भारी गुजरता है और फिर एक रोज़ वो अपने घर वापस लौट आती है, लेकिन ताबूत में कैद होकर.

Advertisement
aajtak.in
शम्स/मुनीष पांडेय/चिराग गोठीनई दिल्ली, 05 June 2013
घर तो लौटी लेकिन ताबूत में कैद होकर

अपने सपनों को साथ लिए एक लड़की दिल्ली से सैकड़ों मील दूर मुंबई पहुंचती है. यहीं उसे अपने सपनों में रंग भरना है. लेकिन इससे पहले कि ये मुमकिन होता, कोई उसके सारे सपने बदरंग कर जाता है. अब उसकी जिंदगी पर एक-एक दिन भारी गुजरता है और फिर एक रोज़ वो अपने घर वापस लौट आती है, लेकिन ताबूत में कैद होकर.

1 मई 2013, शाम के 3 बजकर 40 मिनट, हज़रत निज़ामुद्दीन रेलवे स्टेशन, दिल्ली
दिल्ली के हज़रत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन से एक ट्रेन चली. सपनों की नगरी मुंबई के लिए. और इसी ट्रेन में सवार होकर अपने सपने सच करने निकली थी दिल्ली की 23 साल की प्रीति राठी. मुंबई के आर्मी हॉस्पीटल में उसे नर्स की नौकरी मिल गई थी. 

2 मई 2013, सुबह 7 बजकर 55 मिनट, बांद्रा टर्मिनल रेलवे स्टेशन, मुंबई
तय वक्त पर दिल्ली-मुंबई ग़रीब रथ स्टेशन पर पहुंच चुकी थी. प्रीति ट्रेन से उतरती है और प्लेटफार्म पर सैकड़ों मुसाफिरों के साथ कदम से कदम मिला कर चलने लगती है. पर ठीक तभी अचानक एक गुमनाम नौजवान आता है और प्रीति पर तेज़ाब फेंक देता है.

स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे लगे थे. पर इत्तेफाक से उस जगह कैमरे का एंगल नहीं पहुंच रहा था जहां पर प्रीति के ऊपर तेजाब फेंका गया. अलबत्ता ठीक उसी वक्त कैमरे के एक दूसरे एंगल से एक लड़का घबराया हुआ तेजी से भागता ज़रूर नजर आता है.

ऐन वारदात के वक्त इस तरह उसी जगह से इस नौजवान को भागते देख पुलिस मान लेती है कि इसी ने प्रीति पर तेजाब फेंका है. लिहाज़ा सीसीटीवी फुटेज के आधार पर उसका स्केच भी तैयार कर लिया जाता है. लगा चलो तेजाब फेंकने वाला अब बच नहीं पाएगा.

मगर तेजाब से बुरी तरह घायल प्रीति पूरे महीने भर अस्पताल में सांसों से लड़ती रहती है. हर पल जीती-मरती रहती है. पर उसका गुनहगार पकड़ा नही जाता.  और फिर आखिरकार एक जून को वो सांसों की जंग हार जाती है. एक मई को वो दिल्ली से आंखों में हजार सपने लिए मुंबई के लिए निकली थी. पर एक जून को वो आंखें ही बंद हो गईं जिनमें तमाम सपने थे.

एक मई को प्रीति दिल्ली टू मुंबई गई थी. पूरे एक महीने बाद दो जून को प्रीति फिर सफऱ पर थी. इस बार मुंबई टू दिल्ली. वो वापस लौट रही थी. पर ताबूत में कैद होकर. 

वो अपने घर से निकली तो थी ख्वाबों को पूरा करने, लेकिन आधे रास्ते में ही किसी ने उसके ख्वाब चकनाचूर कर दिए. पूरे एक महीने तक उसने जितना दर्द सहा, मौत से पहले उसने उसी शिद्दत के साथ अपना हाल-ए-दिल भी बयान किया. अब वो बोल तो नहीं सकती थी, लेकिन अपने हाथों से लिख कर वो कुछ बताना चाहती थी. आखिर क्या चाहती थी प्रीति? और क्या उम्मीद थी उसे आपसे?

पूरे तीस दिन वो अस्पताल में अपनी सांसों से लड़ती रही. पूरे तीस दिन तक वो तेजाबी टीस सहती रही. पूरे तीस दिन तक वो अपने ही चेहरे से अपनी नज़रें चुराती रही. और फिर तीस दिन बाद उसकी रूह ने उस जिस्म को आख़िर छोड़ ही दिया जो उसका सबसे बड़ा दुश्मन था. जिसकी चाहत किसी को दरिंदा बना सकती थी. वो हार गई.

पर हारने से पहले वो अपने हर दर्द, हर जज्बात, हर खुशी, हर गम हर आशंका सब कुछ बयान कर गई. कोरे कागज पर. अब सवाल ये है कि उसने जो लिखा वो आप क्यों पढ़ें? उसने जो कहा वो आप क्यों सुनें? जबकि उसे भी पता था और आपको भी मालूम है कि ना उसके कुछ लिखने से बदलने वाला ना आपके कुछ सुनने से. पर क्या करें. अब वो लिख कर चली गई है तो आपको पढ़ना ही पड़ेगा. इसलिए छोड़िए इन बातों को कि इससे क्या फर्क पड़ेगा या क्या कुछ बदलेगा. बस पढ़ने के लिए ही पढ़ लीजिए.

मैं अपनी मौसी के पीछे-पीछे चल रही थी. तभी अचानक किसी ने कुछ फेंका. मुझे पता ही नहीं चला. वो गोरा था या काला. मुझे बहुत जलन हो रही थी. मै तड़प रही थी. अगर मौसी मेरे साथ ना होती तो उस दिन शाद मैं बच ही नहीं पाती.

अब तक तो घर में सबको पता लग गया होगा. मम्मी और टेंशन लेंगी. मैंने आईएनएसएस की नौकरी के लिए बहुत तैयारी की थी. बहुत मेहनत की थी. लेफ्टिनेंट नर्स की नौकरी पाकर मैं बहुत खुश थी. मैं ये जॉब नहीं छोड़ना चाहती. पर अब मेरी ये नौकरी शायद चली गई.

यहां मुझे डॉक्टर कुछ बता नहीं रहे हैं. सर्जरी कब होगी, ये प्लास्टर कब हटेगा. हम और कितने दिन यहां रहेंगे? कल शाम से हाथ की मूवमेंट में भी पेन है. पहले नहीं था. मैंने डॉक्टर साहब से पूछा मेरी राइट आई खराब है. उन्होंने बताया कि जब तक ट्रांस्प्लांट नहीं होगी मैं नहीं देख पाऊंगी. और ट्रांस्प्लांट जब तक मैं चेहरे से ठीक नहीं हो पाउंगी, तब तक नहीं होगी.

पापा, मुझे निक्की और तन्नू की भी पूरी सिक्योरिटी करवानी है, मैं नहीं चाहती जो मेरे साथ हुआ वो उनके साथ भी हो.  मम्मी पापा ने तो मेरे लिए रिश्ते भी देखने शुरु कर दिए थे. पर मुझे अब सुंदर नहीं दिखना. 

प्रीति ने जब-जब लिखा तो साथ में एक सवाल भी पूछा. सवाल ये कि  आखिर उसका ये हाल किसने किया? उसका क्या कसूर था? क्या उसका मुजरिम पकड़ा गया? पर अफसोस जाते-जाते भी प्रीति को उसके इन सवालों  का जवाब नहीं मिल पाया.

क्या प्रीति पर हमला किसी दुश्मनी के चलते हुआ या फिर हमलावर ने धोखे में प्रीति को अपना शिकार बना डाला? मामले की तफ्तीश कर रही रेलवे पुलिसी के पास प्रीति के गुनहगार की एक तस्वीर भी मौजूद है और चश्मदीद के बताए हुलिए के मुताबिक स्केच भी. लेकिन बस इसी एक सवाल का जवाब नहीं ढूंढ़ पाने की वजह से वो प्रीति के क़ातिल तक नहीं पहुंच पा रही है.

बांद्रा टर्मिनल के प्लेटफॉर्म नंबर तीन पर रिकॉर्ड हुए इस सीसीटीवी फुटेज से प्रीति के गुनहगार के पकड़े जाने की जो उम्मीद जगी थी, एक महीने गुज़रने के बाद अब वो उम्मीद प्रीति के सांसों की डोर की तरह टूटने लगी है. इस फुटेज में एक शख्स ठीक उसी तरफ़ से तेज़ी से भागकर आता दिख रहा है, जिधर चंद सेकेंड्स पहले प्रीति के ऊपर तेज़ाब फेंका गया था.

दरअसल, जिस जगह पर प्रीति के ऊपर हमला हुआ, वहां कैमरा ना होने के चलते उस जगह की कोई भी तस्वीर सीसीटीवी में कैद नहीं हो सकी. लेकिन जिस तरह वारदात के बाद ये शख्स भागता हुआ दिखा, उसे पुलिस को लगने लगा कि हो ना हो यही प्रीति का गुनहगार है.

इसके बाद पुलिस ने हमलावर का एक स्केच भी तैयार करवाया, क्योंकि उसे लग रहा था कि ये वारदात रंजिश का नतीजा हो सकती है और बहुत मुमकिन है कि हमलावर उसका पीछा करते हुए दिल्ली से यहां पहुंचा.

लेकिन पुलिस की दुश्मनी की थ्योरी के उलट ना तो इस वारदात के बाद प्रीति को प्रीति को किसी पर शक था और ना ही उसके घरवालों को.

लिहाजा, पुलिस ने प्रीति मोबाइल फ़ोन के कॉल डिटेल्स उसके गुनहगार को तलाशने की कोशिश की. लेकिन इसमें भी वो नाकाम रही. अब सवाल ये है कि कहीं प्रीति पर हुआ हमला मिस्टेकन आइडेनटिटी यानि पहचान की ग़लती का तो नहीं है? और अगर ये मामला दुश्मनी का है, तो फिर पुलिस के हाथ खाली क्यों हैं? बहरहाल, इन सवालों का जीआरपी के पास चाहे जो भी जवाब हो, इस मामले की जांच अब सीबीआई से कराने की मांग उठने लगी है.

तेजाबी ज़ख्मों से पूरे एक महीने तक जूझने के बाद आखिरकार प्रीति ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया, लेकिन प्रीति की विदाई से पहले दिल्ली को एक बार फिर गुस्सा आया. गुस्सा, समाज से, पुलिस से, कानून से. और सबसे ज्यादा उस सोच से, जो इंसान को जानवर बना देता है.

एक बार फिर फूटा लोगों का गुस्सा. एक बार फिर आसमान में गूंजी इंसाफ की मांग. कभी कैंडल मार्च की सूरत में, तो कभी ताबूत के साथ लोग एक बार फिर उतरे सड़कों पर.

इस बार लोगों का गुस्सा फूटा है, मुंबई के बांद्रा के उस दरिंदे के खिलाफ जिसने 2 मई की सुबह दिल्ली की बेटी प्रीति पर कुछ ऐसा तेजाबी हमला किया कि एक महीने बाद उसकी जान ही चली गई. वसंतकुंज गैंगरेप और गुड़िया के मामले में तो खैर दिल्ली पुलिस ने थोड़े समय बाद इन लड़कियों के गुनहगारों को धर दबोचा था, लेकिन प्रीति के मामले में तो अब तक उसके गुनहगार की पहचान तक नहीं हो सकी है और यही लोगों के गुस्से की सबसे बड़ी वजह है.

मुंबई के बॉम्बे हॉस्पिटल से जब प्रीति की मौत की ख़बर पहली बार बाहर निकली, तभी लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. मुंबई में एक एनजीओ की अगुवाई में उन महिलाओं ने प्रीति के हक में इंसाफ की आवाज बुलंद की, जिन्होंने खुद कभी तेज़ाब का हमला झेला था. ये सभी लोग प्रीति के हमलावर को जल्द से जल्द दबोचने की मांग कर रहे थे. उधर, शाम होते-होते मुंबई से दूर दिल्ली में सैकड़ों लोगों ने नरेला में एक कैंडल मार्च निकाला और थाने के सामने घंटों अपने गुस्से का इज़हार करते रहे.

इसके बाद सोमवार को जब प्रीति ताबूत में कैद होकर आखिरी बार अपने घर पहुंची, तो तमाम लोगों के साथ-साथ उसके घरवालों ने भी अपने गुस्से और अफसोस का इजहार किया. घरवालों ने प्रीति के अंतिम संस्कार में सोनिया गांधी और दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित को बुलाने, उसे राजकीय सम्मान देने और मामले की सीबीआई से जांच करवाने की मांग रख दी और दो टूक कहा कि जब तक ये बातें नहीं मानी जाती, तब तक वो प्रीति का अंतिम संस्कार नहीं करेंगे. उन्होंने प्रीति की ताबूत के साथ ही नरेला में रोड जाम कर देर तक प्रद्रर्शन किया.

हालांकि बाद में इलाके के एसडीएम ने जब उनकी मांगों को सरकार तक पहुंचाने और पुलिस सम्मान के साथ प्रीति का अंतिम संस्कार करवाने की बात रखी, तो प्रदर्शनकारी थोड़े नरम पड़ गए. अब प्रीति बेशक पंच तत्व में विलीन हो चुकी हो, लेकिन इस मामले की जांच सीबीआई से कराने और उसके गुनहगार को सजा दिलाने की मांग अब भी कायम है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay