एडवांस्ड सर्च

नोटबंदी के असर पर बने सस्पेंस से आरबीआई जल्द उठाएगा पर्दा

रिजर्व बैंक 8 फरवरी को द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा पेश करेगा. इससे दो दिन की बैठक में इस पर चर्चा होगी. नोटबंदी के बाद एकत्र हुए सभी अहम आंकड़े को पहली बार खंगाला जाएगा. इसके आधार पर वह अपना पक्ष साफ कर सकता है कि 8 नवंबर को लिया गया नोटबंदी का फैसला अर्थव्यवस्था पर क्या असर डाल रही है.

Advertisement
राहुल मिश्रमुंबई, 06 February 2017
नोटबंदी के असर पर बने सस्पेंस से आरबीआई जल्द उठाएगा पर्दा नोटबंदी के असर पर छाया सस्पेंस होगा खत्म

रिजर्व बैंक 8 फरवरी को द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा पेश करेगा. इससे दो दिन की बैठक में इस पर चर्चा होगी. नोटबंदी के बाद एकत्र हुए सभी अहम आंकड़े को पहली बार खंगाला जाएगा. इसके आधार पर वह अपना पक्ष साफ कर सकता है कि 8 नवंबर को लिया गया नोटबंदी का फैसला अर्थव्यवस्था पर क्या असर डाल रही है.

दिसंबर 7-8 को पिछली मौद्रिक नीति के समय रिजर्व बैंक की 6 सदस्यीय मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी में सभी सदस्यों ने माना था कि नोटबंदी का असर समझने के लिए आंकड़े अधूरे हैं. हालांकि नोटबंदी के स्वाभाविक खतरे का जिक्र करते हुए सभी सदस्यों ने रेपो रेट में बड़ी कटौती करने का जोखिम नहीं उठाने का पक्ष रखा था.

हो सकता है ब्याज दरों में कटौती का ऐलान
अब फरवरी मौद्रिक नीति में एक बार फिर नए आंकड़ों को आधार मानते हुए रिजर्व बैंक यह तय करेगी की अर्थव्यवस्था पर नोटबंदी क्या असर डाल रही है. रिजर्व बैंक इस बात पर भी रोशनी डालेगा कि क्या अर्थव्यवस्था में अस्थिरता का दौर खत्म होने की प्रबल संभावना है. आंकड़ों से ऐसे संकेत मिलने पर ही वह ब्याज दरों में किसी बड़ी कटौती का ऐलान कर सकता है.

जानते हैं रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा कमेटी के सदस्यों ने दिसंबर में नोटबंदी पर क्या कहा:
1. उर्जित पटेल- नोटबंदी का अर्थव्यवस्था पर असर अनिश्चित है. हालांकि पटेल ने उम्मीद जताई थी कि इसका नकारात्मक असर अस्थाई है.

2. आर गांधी: यह अभी साफ निश्चित तौर पर नहीं कहा जा सकता है कि नोटबंदी का असर कुछ दिन ही देखने को मिलेगा हालांकि उम्मीद है कि लंबी अवधि में इसका अर्थव्यवस्था पर असर नहीं देखने को मिलेगा.

3. माइकल देबब्रत पात्रा: पात्रा ने उम्मीद जताई कि नोटबंदी का अर्थव्यवस्था पर प्रभाव कुछ दिनों के लिए ही होगा लेकिन ग्लोबल आर्थिक और राजनीतिक चुनौतियों का खतरा लंबे समय तक बरकरार रह सकता है.

4. रविंन्द्र एच ढोलकिया: अगले कुछ महीनों तक नोटबंदी के चलते बैंकों के पास बढ़ी तरलता का सीधा असर उसके द्वारा तय की जाने वाले ब्याज दरों पर पड़ेगा. वहीं नोटबंदी से अर्थव्यवस्था को झटका लगा है जिससे जीडीपी में ग्रोथ के आंकलन को कम करना पड़ा. हालांकि ढोलकिया ने कहा कि उम्मीद है कि नोटबंदी का असर कुछ दिनों तक ही पड़ेगा.

5. पामी दुआ: दुआ का मानना था कि नोटबंदी लागू होने से पहले देश की अर्थव्यवस्था का लचीला रुख था. वहीं नोटबंदी के बाद उम्मीद जताई कि इसका देश में आर्थिक गतिविधियों पर छणिक असर देखने को मिले.

6. चेतन घाटे: नोटबंदी से अर्थवियवस्था में अस्थिरता बढ़ी है. वहीं नवंबर के अपर्याप्त आंकड़ों के चलते नोटबंदी का सटीक असर मसझने के लिए इंतजार करने के सिवाए कोई विकल्प नहीं है. नोटबंदी से देश में मांग में कमी दर्ज होने की उम्मीद के चलते माना जा सकता है कि निवेश सेंटिमेंट पर नकारात्मक असर देखने को मिलेगा.

अब 7-8 फरवरी को रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा समिति के सामने सबसे बड़ा सवाल नोटबंदी के असर पर पड़े सस्पेंस पर से पर्दा उठाने का है. नोटबंदी के असर को समझने के लिए रिजर्व बैंक अपने आंकड़ों और निर्देश में कराए गए सर्वों से मिलने वाले आंकड़ों का सहारा लेंगे. नए आंकड़ों से रिजर्व बैंक ने निम्न सवालों का जवाब एकत्रित किया है जिसका इस्तेमाल वह ब्याज दरों पर फैसला लेने के लिए करेगा.

रिजर्व बैंक ने सर्वे के जरिए हासिल किया है इन सवालों का जवाब:
1. देश की सामान्य आर्थिक स्थिति कैसी है?

2. बीते एक साल में आपकी आय कैसी थी?

3. अगले एक साल में आपकी आय कैसी रहने की संभावना है?

4. एक साल पहले आपका जरूरी खर्च कैसा रहा और एक साल बाद जरूरी खर्च कैसा रहने की संभावना है.

5. देश में रोजगार की स्थिति कैसी है और आने वाले एक साल के दौरान कैसी रहने की उम्मीद है?

6. देश में बीते साल उत्पाद और सेवाओं की कीमत कैसी थी और कैसी रहने की उम्मीद है?

7. आपने अपने परिवार का खर्च क्यों बढ़ाया अथवा घटाया?

8. मौजूदा समय में आप अपने परिवार की वित्तीय स्थिति को कैसे आंकते हैं?

जाहिर है इन सवालों के जवाब और ब्याज दरों पर रिजर्व बैंक के समिति के सदस्यों के रुख से नोटबंदी के असर पर बने सस्पेंस से पर्दा पूरी तरह उठने की उम्मीद है.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay