एडवांस्ड सर्च

भारत-रूस के बीच सीमा शुल्क को लेकर हुआ समझौता, व्यापार को बढा कर 30 अरब डॉलर करने का लक्ष्य

भारत और रूस ने व्यापार में आपसी बाधाएं दूर करने और व्यापार संवर्धन के लिए सीमा शुल्क के क्षेत्र से सहयोग तथा कारोबारी वीजा उदार बनाने के संबंध में एक समझौता किया है. दोनों देशों के बीच आपसी व्यापार अभी काफी कम है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in [Edited by: आनंद गुप्ता]मास्को, 19 July 2015
भारत-रूस के बीच सीमा शुल्क को लेकर हुआ समझौता, व्यापार को बढा कर 30 अरब डॉलर करने का लक्ष्य रुसी राष्ट्रपति पुतिन और प्रधानमंत्री मोदी

भारत और रूस ने व्यापार में आपसी बाधाएं दूर करने और व्यापार संवर्धन के लिए सीमा शुल्क के क्षेत्र में  सहयोग और कारोबारी वीजा उदार को बनाने के संबंध में एक समझौता किया है. दोनों देशों के बीच आपसी व्यापार अभी काफी कम है. जिसपर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने 8 जुलाई को रूस के उफा में हुई आपसी मुलाकात के दौरान व्यापारिक संबंध बढ़ाने के लिए गहरी चर्चा की थी.

क्या है प्लान?
भारत और रूस के बीच आपसी व्यापार का स्तर अभी काफी कम है. पिछले साल द्विपक्षीय व्यापार मात्र 9.51 अरब डॉलर का था. अब दोनों देश ने 2025 तक आपसी व्यापार को बढा कर 30 अरब डॉलर करने का लक्ष्य तय किया है. रूस में भारत के राजदूत राघवन ने उफा बैठक का हवाला देने हुए कहा दोनों देशों के नेताओं ने मोटे तौर पर स्वीकार किया है कि व्यापार और निवेश अपेक्षाओं के अनुरूप नहीं है. उन्होंने कहा कि संपर्क सुविधाओं की कमी, भाषा संबंधी बाधाओं, वीजा बाधाएं और नियमन जैसे विभिन्न कारणों से आपसी व्यापार कम रहा है.

उन्होंने कहा भारत-रूस के बीच दूरियां बहुत लंबी है. उन्होंने समुद्री मार्ग को बहुत लंबा और खर्चीला बताया. उन्होंने चीन और पाकिस्तान का नाम न लेते हुए इशारों में हमला किया. राजदूत ने भारी आवाज में जोर देते हुए कहा कि राजनैतिक वजहों और सुरक्षा संबंधी वजहों से जमीनी संपर्क भी संभव नहीं हो सका.

कर रहे हैं काम
राजदूत राघवन ने इस ढेर साडी बाधाओं के संबंध में कहा हम इन सबको दूर करने की दिशा में काम कर रहे हैं .. हमने एक लंबा रास्ता तय किया है .. हम व्यापार बढ़ाने के लिए व्यवस्थित तरीके से काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि प्रस्तावित उत्तर-दक्षिण माल ढुलाई गलियारे से दूरी और खर्च लगभग आधा रह जाएगा जिस पर भारत और रूस अभी काम कर रहे है. उन्होंने कहा रूस से साथ हम उत्तर दक्षिण गलिया को खोलने पर काम कर रहे हैं ताकि भारत से ईरान और मध्य एशिया के रास्ते व्यापार हो सके. इससे माल ढुलाई का समय लगभग आधा रह जाएगा और भारतीय उत्पाद प्रतिस्पर्धी रहेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay