एडवांस्ड सर्च

Advertisement

इस शख्स ने सबसे पहले शुरू किया था किसान आंदोलन, दिए थे ऐसे नारे

जानें उस शख्स के बारे में जिन्होंने रोटी को भगवान कहा और किसानों को भगवान से बढ़कर बताया.
इस शख्स ने सबसे पहले शुरू किया था किसान आंदोलन,  दिए थे ऐसे नारे स्वामी सहजानंद सरस्वती
aajtak.in [Edited by: प्रियंका शर्मा] 13 March 2018

विभिन्न मांगों को लेकर अखिल भारतीय किसान सभा की तरफ से निकाला गया किसानों का ये महा-आंदोलन धीरे-धीरे रफ्तार पकड़ रहा है. लेकिन क्या आप जानते हैं उस शख्स के बारे में जिन्हें किसान आंदोलन का जनक कहा जाता है. भारत में संगठित किसान आंदोलन खड़ा करने का श्रेय स्वामी सहजानंद सरस्वती को जाता है. दण्डी संन्यासी होने के बावजूद सहजानंद ने रोटी को ही भगवान कहा और किसानों को भगवान से बढ़कर बताया. उन्होंने किसानों को लेकर नारा भी दिया था.

'जो अन्न-वस्त्र उपजाएगा, अब सो कानून बनायेगा

ये भारतवर्ष उसी का है, अब शासन वहीं चलायेगा'

स्वामी सहजानंद सरस्वती का जन्म 22 फरवरी 1889 को हुआ था. बचपन में ही उनकी मां का निधन हो गया था. उनके पिता एक किसान थे. कहते हैं पूत पांव पालने में ही दिखने लगते हैं. स्वामी जी की महानता के गुण बचपन से ही दिखने लगे. प्राथमिक शिक्षा के दौरान ही उन्होंने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाना शुरू कर दिया. पढ़ाई के दौरान ही उनका मन आध्यात्म में रमने लगा. बचपन में स्वामी जी ये देखकर हैरान थे कि कैसे भोले-भाले लोग नकली धर्माचार्यों से गुरु मंत्र ले रहे हैं. जिसके बाद उनके मन में पहली बार विद्रोह का भाव उठा.

 यहां पढ़ें महाराष्ट्र में किसान आंदोलन के हर पहलू का ब्योरा

कैसे शुरू हुआ किसान आंदोलन

महात्मा गांधी के नेतृत्व में शुरू हुआ असहयोग आंदोलन बिहार में तेजी पकड़ी तो स्वामी जी उसके केन्द्र में थे. घूम-घूमकर उन्होंने अंग्रेजी राज के खिलाफ लोगों को खड़ा किया. ये वह समय था जब वह भारत को समझ रहे थे. इसी दौरान उन्होंने पाया कि भारत में किसानों की हालत गुलामों से भी बदतर है. जिसके बाद उन्होंने किसानों के लिए कुछ करने की ठानी.

वहीं अगर देखा जाए भारत के इतिहास में संगठित किसान आंदोलन खड़ा करने और उसका सफल नेतृत्व करने का एक मात्र श्रेय स्वामी सहजानंद सरस्वती को जाता है. कांग्रेस में रहते हुए उन्होंने किसानों को जमींदारों के शोषण और आतंक से मुक्त कराने का अभियान जारी रखा. उनकी बढ़ती सक्रियता से घबराकर अंग्रेजों ने उन्हें जेल में डाल दिया था.

पैर फटे, रिस रहा खून, फिर भी नंगे पैर मुंबई आए 40 हजार किसान

जब 1934 में बिहार प्रलयंकारी भूकंप से तबाह हुआ तब स्वामी जी ने बढ़-चढ़कर राहत और पुनर्वास के काम में भाग लिया. किसानों को हक दिलाने के लिए संघर्ष को अपना लक्ष्य मान लिया था. जिसके बाद उन्होंने नारा दिया.

'कैसे लोगे मालगुजारी, लठ हमारा जिन्दाबाद'

बाद में यहीं नारा किसान आंदोलन का सबसे प्रिय नारा बन गया.

वे कहते थे- 'अधिकार हम लड़ कर लेंगे और जमींदारी का खात्मा करके रहेंगे'

उनका भाषण किसानों पर गहरा असर छोड़ता था. काफी कम समय में किसान आंदोलन पूरे बिहार में फैल गया. उस दौरान बड़ी संख्या में लोग स्वामी जी को सुनने आते थे. 1936 में कांग्रेस के लखनऊ सम्मेलन में अखिल भारतीय किसान सभा की स्थापना हुई जिसमें उन्हें  पहला अध्यक्ष चुना गया.

देश के 6.3 करोड़ किसान कर्ज में, कौन देगा अन्नदाताओं के इन सवालों के जवाब?

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक स्वामी सहजानंद के नेतृत्व में किसान रैलियों में जुटने वाली भीड़ कांग्रेस की सभाओं में आने वाली भीड़ से कई गुना ज्यादा होती थी. उन्होंने किसान आंदोलन के संचालन के लिए पटना के समीप बिहटा में आश्रम भी स्थापित किया. वो सीताराम आश्रम आज भी है.

उस दौरान सहजानन्द किसानों को शोषण मुक्त और जमींदारी प्रथा से आजादी दिलाना चाहते थे. किसाने के हक के लिए लड़ाई लड़ते हुए स्वामी जी 26 जून,1950 का निधन हो गया.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay