एडवांस्ड सर्च

नॉनवेज पसंद करने वालों के लिए खुशखबरी, चिकन हो सकता है सस्ता

इंडस्ट्री के जानकारों के मुताबिक मई महीने में सोया मील निर्यात में करीब 75 फीसदी की गिरावट आई है, क्योंकि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के बाद वहां को होने वाला निर्यात पूरी तरह से ठप हो गया है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: दिनेश अग्रहरि]नई दिल्ली, 12 June 2019
नॉनवेज पसंद करने वालों के लिए खुशखबरी, चिकन हो सकता है सस्ता चिकन हो सकता है सस्ता

नॉनवेज खाना पसंद करने वालों के लिए एक अच्छी खबर है. चिकन सस्ता होने वाला है. असल में सोया मील की कीमत में गिरावट आ रही है, जो कि पॉल्ट्री फार्म्स के लिए प्रमुख चारा होता है.

इस इंडस्ट्री के जानकारों के मुताबिक मई महीने में सोया मील निर्यात में करीब 75 फीसदी की गिरावट आई है, क्योंकि ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के बाद वहां को होने वाला निर्यात पूरी तरह से ठप हो गया है.

इसकी वजह से घरेलू बाजार में सोया मील की आवक काफी बढ़ गई है. निश्चित रूप से आगे सोया मील की कीमतें काफी घटेंगी. पॉल्ट्री चारे का करीब 45 फीसदी हिस्सा सोया मील का होता है. बाकी 55 फीसदी हिस्सा मक्के वाले चारे का होता है. 

इकोनॉमिक टाइम्स के अनुसार, चिकन की कीमतों में कम से कम 10 फीसदी की गिरावट आ सकती है. यह गिरावट जून महीने से ही शुरू हो सकती है. गौरतलब है कि इस साल जनवरी से अब तक चिकन की कीमतों में करीब 30 फीसदी की बढ़त हो चुकी है.

कुछ जानकारों का कहना है कि कुछ कंपनियां ब्रॉयलर चिकन के उत्पादन पर अंकुश लगाकर कीमत को कृत्रिम तरीके से बढ़ा रही हैं. भारत में पॉल्ट्री इंडस्ट्री काफी हद तक ब्रॉयलर चिकन पर ही निर्भर होता है. भारतीय पॉल्ट्री उद्योग का आकार करीब 25 लाख टन का है और इसमें लाखों लोगों को रोजगार मिला हुआ है. देश का ब्रॉयलर चिकन का सालाना कारोबार करीब 45 लाख टन का है. भारत में प्रति व्यक्ति चिकन खपत करीब 4 किग्रा का है.

वैसे सोया मील की कीमतों में गिरावट आनी शुरू हो चुकी है. मई में सोया मील की कीमत 3,800 रुपये प्रति क्विंटल थी, जो अब घटकर 3,600 रुपये हो चुकी है. मई महीने में सोया मील का निर्यात करीब 38000 टन का हुआ, जबकि अप्रैल में यह निर्यात 75,000 टन का था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay