एडवांस्ड सर्च

Advertisement

क्या मोदी का था डॉयलॉग बोलने का आइडिया?

दिल्ली के सीरी फोर्ट ऑडिटोरियम में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का भाषण बताता है कि दुनिया का सबसे ताकतवर व्यक्ति भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बेहद प्रभावित है.
क्या मोदी का था डॉयलॉग बोलने का आइडिया? US President Barack Obama
नंदलाल शर्मानई दिल्ली, 27 January 2015

दिल्ली के सीरी फोर्ट ऑडिटोरियम में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का भाषण बताता है कि दुनिया का सबसे ताकतवर व्यक्ति भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बेहद प्रभावित है.

बराक ओबामा ने ऑडिटोरियम में मौजूद लोगों को रिझाने के लिए फिल्म 'दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे' का डॉयलॉग बोला. ओबामा के मुंह से 'बड़े बड़े देशों में ऐसी छोटी-छोटी बातें होती रहती हैं' सुनने के बाद वहां मौजूद लोगों ने तालियों से ऑडिटोरियम गूंजा दिया.

इसके अलावा अमेरिकी राष्ट्रपति ने दोनों देशों की विविधता का जिक्र किया और कहा कि दोनों में अलग-अलग जाति और धर्म के लोग रहते हैं. उन्होंने कहा कि भारत के लोग शाहरुख खान, मिल्खा सिंह, मैरीकॉम जैसी हस्तियों पर गर्व कर सकते हैं.

ऐसे में सवाल उठता है कि भाषण में फिल्मी डॉयलॉग बोलने का ये आइडिया ओबामा ने कहां से लिया था. क्या उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिका के सेंट्रल पार्क में दिए भाषण से ये आइडिया तो नहीं लिया था?

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी दौरे पर सेंट्रल पार्क में आयोजित ग्लोबल सिटीजन कन्सर्ट में लोगों को संबोधित करते हुए हॉलीवुड फिल्म 'स्टार्स वार्स' के डॉयलॉग बोले थे.

मोदी के साथ उस समय 'X-Men' फेम ह्यू जैकमैन भी थे. मोदी ने अपने संबोधन के बाद जैकमैन को विशेष रूप से धन्यवाद देते हुए कहा था, 'May the Force be with you.' इन 6 शब्दों से बना वाक्य फिल्म 'स्टार वार्स' का फेमस डॉयलॉग हैं.

ओबामा का भाषण सुनने के बाद ये कहा जा सकता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति को इम्प्रेस करने के तमाम जतन करने वाले भारतीय प्रधानमंत्री अपने मकसद में कामयाब दिख रहे हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay