एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ओबामा बोले- राष्ट्रपति रहूं, न रहूं आऊंगा भारत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ रेडियो कार्यक्रम में ‘मन की बात’ की.
ओबामा बोले- राष्ट्रपति रहूं, न रहूं आऊंगा भारत मोदी और ओबामा
aajtak.in [Edited by: विकास त्रिवेदी]नई दिल्ली, 28 January 2015

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के साथ रेडियो कार्यक्रम में ‘मन की बात’ की. पीएम मोदी ने बातचीत की शुरूआत करते हुए कहा कि स्वाइली भाषा में बराक का मतलब है, जिसे आशीर्वाद प्राप्त है. मोदी ने कहा कि अगर हम कुछ करते हैं तो हमें संतोष मिलता है. लेकिन अगर हम सिर्फ सपने देखते हैं और कुछ करते नहीं हैं तो निराशा होती है. मैंने कभी कोई सपना नहीं दिखा, बस जुनून है कि कुछ करना है.

ओबामा ने कहा कि भारत में हुए स्वागत से खुश हूं. भारत और अमेरिका दोनों महान लोकतंत्र हैं. अमेरिका में लोग भारत में मोदी के गरीबी हटाने के कार्यक्रम से प्रभावित हैं. महिला सशक्तिकरण, शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार जैसे मुद्दों पर भारत का काम सराहनीय है. भारत अमेरिका का स्वाभाविक दोस्त है. सीमाओं में अंतर के बावजूद हम सब एक हैं. ओबामा ने कहा कि हम दोनों एक जैसे ही जीवन से ऊपर की तरफ उठे.

सूचनाओं का प्रभाव रोकना मुश्किल
ओबामा ने कहा कि अब सूचनाओं के प्रवाह को रोकना संभव नहीं है. आज के युवकों की उंगलियों पर वस्तुत: पूरी दुनिया और उसकी जानकारी है. उन्हें मालूम है कि समाज और देश के लिए क्या करना चाहिए. मैं समझता हूं कि सरकारों और नेताओं को केवल उपर से शासन नहीं करना चाहिए, बल्कि समावेशी और पारदर्शी रूप से जनता तक पहुंचना चाहिए. उनसे उनके देश की दिशा के बारे में बात करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका के लिए बड़ी बात यह है कि दोनों खुले समाज हैं. उन्होंने कहा कि मेरा मानना है कि बंद और नियंत्रित समाजों की बनिस्बत भारत और अमेरिका जैसे देश इस नए सूचना युग में और सफलताएं अर्जित कर सकते हैं.

बेंजामिन फ्रैंकलिन के जीवन से मोदी प्रभावित
कार्यक्रम में मोदी ने खुद को किस अमेरिकी राष्ट्रपति से प्रभावित होने के सवाल पर कहा कि मैंने स्कूल के दिनों में जॉन कैनेडी का नाम काफी सुना था. लेकिन बाद में मैंने बेंजामिन फ्रैंकलिन की बायोग्राफी पढ़ी. जिसमें मैंने छोटी-छोटी बातों से जीवन को बेहतर तरीके से सोचना सीखा. मैं उनके जीवन से प्रभावित हुआ. अगर आपको अपने जीवन को ट्रांसफॉर्म करना है तो उससे प्रेरणा मिल सकती है. मेरी सलाह है कि सभी लोगों को उनकी जीवनी पढ़नी चाहिए.

ओबामा की बेटियों का भारत आने का था मन
ओबामा ने एक सवाल के जवाब में कहा कि मेरी बेटियां भारत आना चाहती थीं लेकिन परीक्षाओं की वजह से मेरी बेटियां भारत नहीं आ पाईं. मैं जब अगली बार भारत आऊंगा तो उन्हें लेकर आऊंगा. मैं चाहे राष्ट्रपति रहूं या न रहूं मैं भारत जरूर आऊंगा. मोदी ने इसका स्वागत करते हुए कहा कि आप जब भी भारत आएं, भारत आपके स्वागत के लिए तैयार है.

बेटियों को लेकर नजरिया दोषपूर्ण
'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' अभियान पर ओबामा की मदद के सवाल पर मोदी ने कहा कि बेटियों को लेकर हमारे नजरिया दोषपूर्ण है. बेटी बचाना, बेटी पढ़ाना ये हमारा सामाजिक और सांस्कृतिक कर्तव्य और मानवीय जिम्मेवारी है. ओबामा जिस प्रकार से अपनी दोनों बेटियों का लालन-पालन करते है वह अपने आप में एक प्रेरणा है.भारत में लिंगानुपात एक चिंता का विषय है और इसका मूल कारण लड़के और लड़की के प्रति हमारा दोषपूर्ण रवैया है.

इस पद पर पहुंचने के बारे में कभी सोचा था?
देश के पीएम बनने के बारे में मोदी ने कहा कि जी नहीं, मैंने कभी कल्पना नहीं की थी कि मैं पीएम बनूं. मैं लंबे अर्से से सबको यह कहता आया हूं कि कुछ भी बनने के सपने कभी मत देखो. अगर सपने देखने हैं तो कुछ करने के देखो. आज भी कुछ बनने के सपने मेरे दिमाग में हैं ही नहीं, लेकिन कुछ करने के जरूर हैं. इसी सवाल पर ओबामा ने कहा कि उन्होंने व्हाइट हाउस तक पहुंचने की कल्पना कभी नहीं की थी.

उन्होंने कहा कि वह और मोदी खुशनसीब हैं कि एक सामान्य परिवेश से आने के बावजूद दोनो को असामान्य अवसर मिले. उन्होंने कहा कि भारत और अमेरिका के लिए इससे अच्छा और क्या हो सकता है कि एक चाय बेचने वाला या मुझ जैसा एक व्यक्ति जिसे अकेली मां ने पाला पोसा हो, वे आज अपने अपने देशों का नेतृत्व कर रहे हैं.

‘युवकों दुनिया को एक करो’
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘एक जमाने में खासकर कम्युनिस्ट विचारधारा से प्रेरित लोग दुनिया का आह्वान करते थे और कहते थे कि दुनिया के मजदूरों एक हो’. यह नारा कई दशकों तक चलता रहा, लेकिन मैं समझता हूं आज के युवा की जो शक्ति है और जो उसकी पहुंच है, उसे देखते हुए मैं यही कहूंगा, ‘युवकों दुनिया को एक करो’. मैं समझता हूं उनमें यह ताकत है और वह ये कर सकते हैं. नई पीढ़ी के युवा के बारे में ओबामा ने कहा कि नई पीढ़ी का युवा एक वैश्विक नागरिक है और वह समय और सीमाओं से बंधा नहीं है. ऐसी स्थिति में हमारे नेतृत्व, सरकार और समाज का उनके प्रति बेहतर दृष्टिकोण होना चाहिए

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay