एडवांस्ड सर्च

लाइन में खड़े होकर ये क्या कर रहे हैं अंबानी, अडाणी, महिंद्रा...

दुनिया की कोई भी ऐसी प्रतिष्ठ‍ित मैजगीन नहीं, जिसमें इनका नाम नहीं छपा. ये देश के वो कर्णधार हैं, जिनके बैंक अकाउंट में एक आम इंसान के जीवन के कुल मिनट से कहीं ज्यादा संपत्ति है. लेकिन जब बात देश की अखंडता और संप्रभुता की आती है तो  तिरंगे की शान के सामने सबको झुकना पड़ता है. यही लोकतंत्र की खासियत है और उसकी मर्यादा भी.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: स्वपनल सोनल]नई दिल्ली, 27 January 2015
लाइन में खड़े होकर ये क्या कर रहे हैं अंबानी, अडाणी, महिंद्रा... सीईओ मीट के दौरान कतार में बिजनेस जगत की मशहूर हस्ति‍यां

दुनिया की कोई भी ऐसी प्रतिष्ठ‍ित मैजगीन नहीं, जिसमें इनका नाम नहीं छपा. ये देश के वो कर्णधार हैं, जिनके बैंक अकाउंट में एक आम इंसान के जीवन के कुल मिनट से कहीं ज्यादा संपत्ति है. लेकिन जब बात देश की अखंडता और संप्रभुता की आती है तो  तिरंगे की शान के सामने सबको झुकना पड़ता है. यही लोकतंत्र की खासियत है और उसकी मर्यादा भी.

रतन टाटा, मुकेश अंबानी, गौतम अडाणी, शशि‍ रुइया, नारायणमूर्ति, सायरस मिस्त्री, अनिल अंबानी, आनंद महिंद्रा, किरण मजूमदार शॉ, नरेश त्रेहान, सुनील मित्तल, चंदा कोचर..... यह लिस्ट और भी लंबी है और इससे भी लंबी है वह कतार जिसमें एक के बाद एक बिजनेस जगत के ये धुरंधर खड़े हैं. वो भी एक-दो सेकेंड के लिए नहीं बल्कि‍ कई मिनटों के लिए. सोमवार को सोशल मीडिया पर जैसे ही यह तस्वीर सामने आई, जिसने भी देखा आंखों की पुतलियां फैल गई, क्योंकि देश के अर्थव्यवस्था की लाइन जिनसे शुरू होती है, वह खुद लाइन में खड़े हैं.

दरअसल, यह तस्वीर सोमवार को इंडो-यूएस सीईओ मीट है. वह बैठक जिसमें देश के बिजनेस जगत के तमाम बड़े दिग्गजों ने हिस्सा लिया और उस विचार को सुना जो देश को आगे बढ़ाने के लिए प्लान ऑफ एक्शन के साथ तैयार है. विचार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का और प्रस्ताव के दुनिया के सबसे ताकतवर नेता अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का.

इस मौके पर अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि सिर्फ जीडीपी से विकास को नहीं आंका जा सकता. लोगों की जिंदगी और रहने का तौर-तरीका भी बेहतर होना चाहिए. दोनों देशों को नई गति, ऊर्जा और उम्मीद के साथ आगे बढ़ना होगा. जबकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्केल, स्कि‍ल और स्पीड का फॉर्मूला देते हुए कहा कि देश कृषि क्षेत्र में अच्छा कर रहा है. अगर इस क्षेत्र में मशीनीकरण का उपयोग ज्यादा किया जाए तो हम बेहतर कर सकते हैं.

-इनपुट आरजे आलोक.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay