एडवांस्ड सर्च

Advertisement

भारत की दो टूक- कश्मीर पर किसी मध्यस्थता की जरूरत नहीं

भारत की दो टूक- कश्मीर पर किसी मध्यस्थता की जरूरत नहीं
aajtak.inनई दिल्ली, 17 February 2020

जम्मू-कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतरेस की मध्यस्थता वाली टिप्पणी पर भारत ने दो टूक जवाब दिया है. जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है.  ऐसे में मध्यस्थता की जरूरत नहीं है.  दरअसल, गुतरेस पाकिस्तान की यात्रा पर हैं. वहीं पर उन्होंने जम्मू कश्मीर के हालात पर चिंता जाहिर की और मध्यस्थता की पेशकश की.

The Ministry of External Affairs (MEA) on Sunday rejected an offer of mediation proposed by UN Secretary-General Antonio Guterres on Kashmir, saying the focus instead should be on getting vacated the territories that are illegally and forcibly occupied by Pakistan. India position has not changed. Jammu and Kashmir has been, is and will continue to be an integral part of India. The issue that needs to be addressed is that of vacation of the territories illegally and forcibly occupied by Pakistan. Further issues, if any, would be discussed bilaterally. There is no role or scope for third party mediation, MEA spokesperson Raveesh Kumar said in response to a media query regarding comments made by Guterres in Islamabad.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay