एडवांस्ड सर्च

Advertisement

जब सरकार की आलोचना करना पड़ा भारी?

जब सरकार की आलोचना करना पड़ा भारी?
aajtak.inनई दिल्ली, 03 December 2019

राहुल बजाज एक सभा में खड़े होकर कह रहे थे कि सूरत बदलनी चाहिए. राहुल बजाज ने अमित शाह और वित्त मंत्री के सामने कहा था कि इस सरकार में बोलने से डर लगता है. मॉब लिंचिंग को लेकर पीएम मोदी को चिट्ठी लिखने वाले सिनेमा साहित्य और अकादमिक जगत के उन 46 बुद्धिजीवियों का हाल तो याद ही होगा आपको. देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करा दिया गया था और बीजेपी के कई नेताओं ने सलाह दी थी कि उन्हें पाकिस्तान चले जाना चाहिए. राहुल बजाज ने 1 मिनट 56 सेकंड में बरसों की तहें उधेड़ डाली हैं. देखिए वीडियो.

Politics of country is on stir after Rahul Bajaj criticised the central government. BJP leaders are busy in reacting to the statement of industrialist Rahul Bajaj. But we will show you the incidents when people criticised the Modi government and what happened to them?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay