एडवांस्ड सर्च

Advertisement

20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान

aajtak.in [Edited by: सना जैदी ]
03 May 2019
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
1/10
भीषण चक्रवाती तूफान फानी (Cyclone Fani) ओडिशा के तट की ओर तेज रफ्तार से बढ़ रहा है. मौसम विभाग का अनुमान है कि कुछ ही देर में ओडिशा के तट से टकरा सकता है.
फोटो- PTI
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
2/10
मौसम विभाग का अनुमान है कि जिस वक्त यह तूफान ओडिशा की जमीन से टकराएगा उस वक्त चलने वाली हवाओं की रफ्तार 170 से 180 किलोमीटर प्रतिघंटे होगी, जो कभी हवा के झोंकों में 200 किलोमीटर प्रतिघंटे तक पहुंच जाएगी.


20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
3/10
चक्रवात तूफान की वजह से ओडिशा के तटीय इलाकों में बारिश और तेज हवाएं चलने के बीच राज्य सरकार ने 11 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है. साथ ही लोगों को आज घरों में रहने की सलाह दी गई है. फानी तूफान के ओडिशा तट पर पुरी के पास सुबह में दस्तक देने के आसार हैं.
फोटो- PTI
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
4/10
फानी तूफान को इसलिए भीषण माना जा रहा है क्योंकि हाई टाइड के वक्त समंदर का स्तर पूर्वी तट के लिए आमतौर पर 7 मीटर तक ऊपर चढ़ जाता है. ऐसे में अति भीषण चक्रवाती तूफान की वजह से समंदर की लहरों में डेढ़ मीटर का और ज्यादा उछाल आने का अंदेशा है. कहा जा सकता है कि ओडिशा और पश्चिम बंगाल के कोस्टल इलाकों में समंदर का पानी ढाई से तीन मंजिल तक ऊपर चला जाएगा. इसका सीधा मतलब यह है कि जो निचले इलाके हैं उनमें समंदर का पानी भर जाएगा. इसको देखते हुए मौसम विभाग ने ओडिशा के खुरदा, पुरी और जगतसिंहपुर जिलों में निचले इलाकों से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया है और समंदर के आस-पास पानी को रोकने के इंतजाम भी किए हैं.
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
5/10
बंगाल की खाड़ी में उठा भीषण चक्रवाती तूफान फानी ओडिशा के पुरी, गोपालपुर और चंदबली के तट से टकराएगा. मौसम विभाग सूत्रों की मानें को फानी तूफान का असर करीब 15 जिलों पर पड़ सकता है.
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
6/10
प्रचंड च्रकवाती तूफान फानी ओडिशा के तट की ओर बढ़ रहा है, जिसकी वजह से तेज हवाएं चल रही हैं, साथ ही कुछ इलाकों में बारिश भी जारी है. भीषण चक्रवाती तूफान फानी के ओडिशा के पुरी में दस्तक देने की आशंका के मद्देनजर सुरक्षाबलों को हाई अलर्ट पर रखा गया है.
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
7/10
चक्रवाती तूफान फानी के कारण पैदा होने वाली आकस्मिक स्थितियों से निपटने के लिए नियंत्रण कक्ष बनाए गए हैं. तूफान से निपटने के लिए राज्य और केंद्र सरकार ने तैयारी की है. एनडीआरएफ समेत सभी बचाव एजेंसियां अलर्ट पर हैं. किसी भी अनहोनि से निपटने के लिए सरकार पूरी तरह सतर्क है. एनडीआरएफ, ओडिशा आपदा त्वरित कार्रवाई बल (ODRAF) की टीम को संवेदनशील इलाकों में तैनात किया गया है.
फोटो- PTI
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
8/10
फानी तूफान सुपर साइक्लोन के बाद सबसे भीषण तूफान है. संयुक्त तूफान चेतावनी केंद्र (Joint Typhoon Warning Center) के मुताबिक 1999 के सुपर साइक्लोन के बाद फानी सबसे खतरनाक चक्रवात माना जा रहा है. 1999 के सुपर साइक्लोन में ओडिशा में करीब 10 हजार लोगों की जान गई थी और भारी तबाही मची थी.
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
9/10
लाउडस्पीकर के जरिए लोगों को सुरक्षित स्थानों पर जाने की सलाह दी जा रही है. साथ ही बसों, विशेष रेल सेवा का भी इंतजाम किया गया है. फानी तूफान की वजह से लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के साथ ही 541 गर्भवती महिलाओं को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.
20 साल पहले भी आया था ऐसा तूफान, 10 हजार की गई थी जान
10/10
ओडिशा के आस-पास के राज्यों में भी अलर्ट जारी किया गया है. उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश के श्रीकाकुलम जिले में रेड अलर्ट जारी है, क्योंकि तूफान फानी के दौरान तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होने की आशंका है. वहीं बंगाल की खाड़ी के साथ-साथ विजयनगरम जिले से सटे विशाखापत्तनम और पूर्वी गोदावरी जिलों में भी फानी तूफान का असर पड़ने के आसार हैं.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay