एडवांस्ड सर्च

Advertisement

11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें

ऋचीक मिश्रा
08 July 2019
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
1/8
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) 15 जुलाई को होने वाली चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग की तैयारी में जुटा है. चंद्रयान-2 भारत का दूसरा चंद्र मिशन है. पहली बार भारत चंद्रमा की सतह पर लैंडर और रोवर उतारेगा. वहां पर चंद्रयान-2 चंद्रमा की सतह, वातावरण, विकिरण और तापमान का अध्ययन करेगा. इसे तैयार करने में करीब 11 साल लग गए. लेकिन हमारे वैज्ञानिकों ने इस मिशन को पूरा करने के लिए जी-जान लगा दी. आइए देखते हैं अंतरिक्ष में जा रहे भारतीय सम्मान की नई तस्वीरें...
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
2/8
चांद से 100 किमी ऊपर इसरो का मोबाइल कमांड सेंटर

चंद्रयान-2 का ऑर्बिटर चांद से 100 किमी ऊपर चक्कर लगाते हुए लैंडर और रोवर से प्राप्त जानकारी को इसरो सेंटर पर भेजेगा. इसमें 8 पेलोड हैं. साथ ही इसरो से भेजे गए कमांड को लैंडर और रोवर तक पहुंचाएगा. इसे हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने बनाकर 2015 में ही इसरो को सौंप दिया था.
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
3/8
प्रज्ञान रोवरः इस रोबोट के कंधे पर पूरा मिशन

27 किलो के इस रोबोट पर ही पूरे मिशन की जिम्मदारी है. इसमें 2 पेलोड हैं. चांद की सतह पर यह करीब 400 मीटर की दूरी तय करेगा. इस दौरान यह विभिन्न वैज्ञानिक प्रयोग करेगा. फिर चांद से प्राप्त जानकारी को विक्रम लैंडर पर भेजेगा. लैंडर वहां से ऑर्बिटर को डाटा भेजेगा. फिर ऑर्बिटर उसे इसरो सेंटर पर भेजेगा. इस पूरी प्रक्रिया में करीब 15 मिनट लगेंगे. यानी प्रज्ञान से भेजी गई जानकारी धरती तक आने में 15 मिनट लगेंगे.
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
4/8
रूस के मना करने पर इसरो ने बनाया स्वदेशी लैंडर

लैंडर का नाम इसरो के संस्थापक और भारतीय अंतरिक्ष कार्यक्रम के जनक विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है. इसमें 4 पेलोड हैं. यह 15 दिनों तक वैज्ञानिक प्रयोग करेगा. इसकी शुरुआती डिजाइन इसरो के स्पेस एप्लीकेशन सेंटर अहमदाबाद ने बनाया था. बाद में इसे बेंगलुरु के यूआरएससी ने विकसित किया.
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
5/8
इसरो के लिए सबसे बड़ी कठिनाई है विक्रम की लैंडिंग

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो 15 जुलाई की अलसुबह 2.51 बजे चंद्रयान-2 को लॉन्च करेगा. इस मिशन का सबसे कठिन हिस्सा है चंद्रमा की सतह पर सफल और सुरक्षित लैंडिंग कराना. चंद्रयान-2 चंद्रमा की सतह से 30 किमी की ऊंचाई से नीचे आएगा. उसे चंद्रमा की सतह पर आने में करीब 15 मिनट लगेंगे. यह 15 मिनट इसरो के लिए बेहद कठिन होगा. क्योंकि इसरो पहली बार ऐसा मिशन करने जा रहा है.
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
6/8
कितने समय में चंद्रयान-2 पहुंचेगा चंद्रमा पर

लॉन्च के बाद अगले 16 दिनों में चंद्रयान-2 पृथ्वी के चारों तरफ 5 बार ऑर्बिट बदलेगा. इसके बाद 6 सितंबर को चंद्रयान-2 की चांद के दक्षिणी ध्रुव के पास लैंडिंग होगी. इसके बाद रोवर को लैंडर से बाहर निकलने 4 घंटे लगेंगे. इसके बाद, रोवर 1 सेंटीमीटर प्रति सेकंड की गति से करीब 15 से 20 दिनों तक चांद की सतह से डाटा जमा करके लैंडर के जरिए ऑर्बिटर तक पहुंचाता रहेगा. ऑर्बिटर फिर उस डाटा को इसरो भेजेगा.
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
7/8
11 साल क्यों लगे चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग में

नवंबर 2007 में रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस ने कहा था कि वह इस प्रोजेक्ट में साथ काम करेगा. वह इसरो को लैंडर देगा. 2008 में इस मिशन को सरकार से अनुमति मिली. 2009 में चंद्रयान-2 का डिजाइन तैयार कर लिया गया. जनवरी 2013 में लॉन्चिंग तय थी, लेकिन रूसी अंतरिक्ष एजेंसी रॉसकॉसमॉस लैंडर नहीं दे पाई. फिर इसकी लॉन्चिंग 2016 में तय की गई. हालांकि, 2015 में ही रॉसकॉसमॉस ने प्रोजेक्ट से हाथ खींच लिए.
11 कदम दूर चांद! इसरो ने जारी की चंद्रयान-2 की नई तस्वीरें
8/8
चंद्रयान-2 से चंद्रमा सिर्फ 11 कदम दूर है

चंद्रयान-2 से चंद्रमा सिर्फ 11 कदम दूर है. 11 कदम कैसे- आइए बताते हैं आपको. चंद्रयान-2 लॉन्च के बाद पृथ्वी के चारों तरफ पांच बार चक्कर लगाएगा. पांच चक्कर यानी पांच कदम. फिर वह चंद्रमा की तरफ अंतरिक्ष में लंबी यात्रा करेगा. यानी छठा बड़ा कदम. इसके बाद चंद्रमा पर पहुंचने के बाद फिर पांच बार चांद के चक्कर लगाकर लैंडिंग करेगा. यानी कुल 11 कदम. 
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay