एडवांस्ड सर्च

Advertisement

बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना

05 November 2019
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
1/9
तीस हजारी अदालत परिसर में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प की घटना के बाद दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने हड़ताल पर गए पुलिसकर्मियों से काम पर वापस लौटने की अपील की और उनकी मांगों को मानने की बात कही. इसके बाद  मुख्यालय के सामने से पुलिसकर्मियों का धरना खत्म हो गया. हालांकि, पुलिसकर्मी अब मुख्यालय से हटकर इंडियागेट पहुंचने लगे हैं.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
2/9
दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट में पुनर्विचार याचिका दायर की जाएगी. विशेष पुलिस आयुक्त (अपराध) सतीश गोलचा ने हड़ताली पुलिसकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि घायल पुलिसकर्मियों को कम से कम 25 हजार रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
3/9
इससे पहले मंगलवार को दिल्ली पुलिस के जवानों ने वकीलों के साथ चल रहे विवाद को लेकर मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया. ऐसा पहली बार था जब दिल्ली पुलिस के जवान अपने लिए न्याय की मांग को लेकर पुलिस मुख्यालय के सामने धरना प्रदर्शन करने उतरे. प्रदर्शन करते हुए पुलिस बल के जवान खुद को बेबस बता रहे थे.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
4/9
इस बीच, नाराज जवानों को संबोधित करने के लिए मंगलवार दोपहर को दिल्ली पुलिस के कमिश्नर अमूल्य पटनायक सामने आए, लेकिन उन्हें यहां भी विरोध का सामना करना पड़ा. प्रदर्शन कर रहे जवानों ने अमूल्य पटनायक के सामने नारे लगाए ‘हमारा CP कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो’. सुबह से चल रहा दिल्ली पुलिस का धरना शाम तक जारी रहा.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
5/9
दरअसल, दिल्ली पुलिस के जवान प्रदर्शन करते रहे और कहते रहे कि सीनियर अफसरों को इस मामले में दखल देना चाहिए और वकीलों के खिलाफ एक्शन लेना चाहिए. जब DCP लेवल के अधिकारी प्रदर्शन कर रहे जवानों से बात करने पहुंचे तो उन्होंने कमिश्नर अमूल्य पटनायक के बाहर आने की मांग की.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
6/9
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कानून के रक्षक और कानून की दलीलें देने वाले आमने-सामने हैं. शनिवार को तीस हजारी कोर्ट में एक मामूली बात पर पुलिस और वकीलों के बीच भिड़ंत हो गई, बाद में वकीलों ने आगजनी की और पुलिस को फायरिंग करनी पड़ी. बस इसी वजह से ये विवाद बढ़ता चला गया जो कि एक कोर्ट से दूसरी कोर्ट और एक शहर से दूसरे शहर तक पहुंच गया. अब दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर पुलिस जवान इंसाफ के लिए प्रदर्शन किया और अपनी मांग को लेकर अड़ गए.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
7/9
शनिवार को तीस हजारी कोर्ट में एक वकील की गाड़ी पार्किंग को लेकर शुरू हुआ विवाद, पहले गिरफ्तारी, फिर हिंसक झड़प और बाद में सड़क पर खुली लड़ाई तक पहुंच गया. भिड़ंत के बीच दिल्ली पुलिस की ओर से फायरिंग भी की गई. दो वकील घायल हो गए. जिसके बाद वकील ज्यादा भड़क गए और पुलिस जीप और वहां मौजूद कई वाहनों में आग लगा दी गई.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
8/9
वकीलों का आरोप है कि जब दिल्ली पुलिस की ओर से फायरिंग की गई तो गोली वहां मौजूद एक वकील के सीने में लग गई. शनिवार को तीस हजारी कोर्ट के बाद दिल्ली के साकेत, कड़कड़डूमा कोर्ट में भी वकीलों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया. इसके बाद उत्तर प्रदेश के कानपुर में वकील ने पुलिस जवान की पिटाई कर दी.
बेबसी...आंसू और आक्रोश... खत्म हुआ दिल्ली पुलिस का धरना
9/9
अब पुलिस और वकील आमने-सामने हैं और अपनी मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं. दिल्ली पुलिस के बाहर पुलिसकर्मीियों ने प्रदर्शन किया. उनका कहना था कि इस वक्त वह सुरक्षित महसूस नहीं कर रहे, क्योंकि जहां पर वकीलों का गुट किसी पुलिसकर्मी को देख रहा है तो वह उस पर हमला कर दे रहा है.

(फोटो-IANS)
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay