एडवांस्ड सर्च

Advertisement

वाजपेयी के नाम ये 2 'अटल' कीर्तिमान, टूटना लगभग नामुमकिन

अमित दुबे
16 August 2018
वाजपेयी के नाम ये 2 'अटल' कीर्तिमान, टूटना लगभग नामुमकिन
1/5
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का निधन हो गया है. उन्होंने गुरुवार को दिल्ली के एम्स में शाम 5.05 बजे आखिरी सांसें लीं. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम दो ऐसे कीर्तिमान दर्ज हैं, जिनका टूटना आसान नहीं है. वाजपेयी देश के एकमात्र ऐसे राजनेता रहे जिन्होंने चार राज्यों के 6 लोकसभा क्षेत्रों की नुमाइंदगी की.
वाजपेयी के नाम ये 2 'अटल' कीर्तिमान, टूटना लगभग नामुमकिन
2/5
अटल बिहारी वाजपेयी इतने चर्चित और लोकप्रिय थे कि उन्होंने एक अलग कीर्तिमान स्थापित किया. वह पहले ऐसे सांसद बने जिन्हें चार राज्यों यूपी, एमपी, गुजरात और दिल्ली से चुना गया. अटलजी को श्रद्धांजलि देने के लिए यहां क्लिक करें
वाजपेयी के नाम ये 2 'अटल' कीर्तिमान, टूटना लगभग नामुमकिन
3/5
उत्तर प्रदेश के लखनऊ और बलरामपुर, गुजरात के गांधीनगर, मध्य प्रदेश के ग्वालियर और विदिशा तथा दिल्ली के नई दिल्ली संसदीय क्षेत्र से चुनाव जीतने का कीर्तिमान वाजपेयी के ही नाम है.
वाजपेयी के नाम ये 2 'अटल' कीर्तिमान, टूटना लगभग नामुमकिन
4/5
वाजपेयी के नाम दूसरा कीर्तिमान तो काफी दिलचस्प है. वाजपेयी साल 1957 में उत्तर प्रदेश के तीन संसदीय क्षेत्रों लखनऊ, बलरामपुर और मथुरा से चुनाव लड़े थे. बलरामपुर से अटल चुनाव जीतकर लोकसभा पहुंच गए थे, लेकिन लखनऊ और मथुरा में उन्हें हार का मुंह देखना पड़ा था. मथुरा में तो उनकी जमानत भी जब्त हो गई थी.
वाजपेयी के नाम ये 2 'अटल' कीर्तिमान, टूटना लगभग नामुमकिन
5/5
अटल बिहारी वाजपेयी ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के निर्देशन में राजनीति का पाठ पढ़ा. साल 1952 में उन्होंने पहली बार लोकसभा चुनाव लड़ा, लेकिन सफलता नहीं मिली थी.
Advertisement
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay