एडवांस्ड सर्च

Advertisement

जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!

अमित दुबे
16 August 2019
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
1/7
पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने सत्ता की नहीं, हमेशा सिद्धांतों की राजनीति की. राजनीतिक फायदे से ज्यादा उन्हें देश की चिंता सताती रहती थी. आज वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि है. देश के लोग आज भी उन्हें याद कर भावुक हो जाते हैं.
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
2/7
दरअसल भारतीय राजनीति में अटल बिहारी वाजपेयी की जगह हमेशा अटल रहेगी. लोकप्रियता के उस मुकाम तक पहुंचना किसी भी राजनेता के लिए बस ख्वाब ही हो सकता है. अटल बिहारी वाजपेयी जम्मू-कश्मीर मसले को लेकर पाकिस्तान से बातचीत के जरिये हल निकालना चाहते थे.
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
3/7
अटल बिहारी वाजपेयी ने कभी किसी पर मिथ्या आरोप नहीं लगाए. अगर कुछ कहा तो सरहद पार से भी उसकी हामी आई. जब वो प्रधानमंत्री थे, तब पाकिस्तान से रिश्ते सुधारने के लिए उन्होंने बड़ी ईमानदार कोशिश की थी, लेकिन पाकिस्तान ने विश्वासघात कर दिया.
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
4/7
जिसके बाद दुखी होकर अटल ने कहा था कि पाकिस्तान ने उनकी पीठ में छुरा भोंका, जिसे नवाज शरीफ ने भी कबूल किया और कहा कि अटलजी सही कहते थे. क्योंकि अटल बिहारी वाजपेयी पाकिस्तान के मुसलमानों में भी उतने ही लोकप्रिय थे.
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
5/7
अटल सियासत के धुरंधर थे. ऐसे धुरंधर, जिनके भाषणों पर विपक्ष भी तालियां बजाता था. सत्ता के कमोबेश छह साल और सियासत के करीब पांच दशक. विपक्ष में रहे तो सत्ता पक्ष ने आदर किया, सत्ता में रहे तो विपक्ष ने पूरा सम्मान दिया. हमेशा दलगत राजनीति से ऊपर रही उनकी शख्सियत.
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
6/7
बीजेपी का वजूद तैयार करने में अटल बिहारी वाजपेयी की सबसे बड़ी भूमिका रही, उन्हीं की अगुवाई में पहली बार बीजेपी की सरकार बनी. यही नहीं, जब नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने, सीढ़ियों पर माथा टेककर पहली बार संसद पहुंचे तो उन्हें अटलजी बहुत याद आए.
जब वाजपेयी ने भरी थी हुंकार, पाकिस्तान ने भी मान ली थी गलती!
7/7
अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीति के अजीमोशान किरदार रहे. उनकी आवाज में अनोखा असर था. भाषण नहीं देते थे, जादू करते थे. भाषण के बीच में जब अटल चुटकी लेते थे तो हर कोई लाजवाब हो जाता था.

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay