एडवांस्ड सर्च

थिएटर को अभिन्न हिस्सा मानती है कल्कि

किसी भी फिल्म का चयन करने से पहले कल्कि फिल्म की पटकथा पढ़ती हैं और उसके बाद ही निर्माता या निर्देशक का नाम उनकी वरीयता रहता है.

Advertisement
aajtak.in
नरेंद्र सैनीमुंबई, 10 October 2011
थिएटर को अभिन्न हिस्सा मानती है कल्कि कल्कि कोचलीन

किसी भी फिल्म का चयन करने से पहले वे फिल्म की पटकथा पढ़ती हैं और उसके बाद ही निर्माता या निर्देशक का नाम उनकी वरीयता रहता है.

उनकी कोशिश स्टीरियोटाइप किरदारों से बचने की है. फिल्मों में आने से पहले उन्होंने कई कार्यशालाओं में हिस्सा लिया जिनमें रजत कपूर और अनामिका हक्सर जैसे जाने-माने नाम थे.

थिएटर को वे अपना अभिन्न हिस्सा मानती हैं और कहती हैं, ''ऐसा नहीं है कि फिल्म करते हुए थिएटर नहीं कर सकते. दोनों में बैलेंस किया जा सकता है.''

पढ़ने और लिखने की शौकीन कल्कि स्केलेटन वूमन के लिए 2009 का द हिंदू मेट्रो प्लस प्लेराइट एवार्ड भी जीत चुकी हैं. अंग्रेजी साहित्य की छात्रा कल्कि के पसंदीदा लेखक ऑस्कर वाइल्ड हैं.

गंभीर किस्म के रोल करने वाली कल्कि अब हल्के-फुल्के रोल में भी नजर आएंगी.

लीक से हटकरः उन्होंने 2009 में देव डी में एक वेश्या के रोल के साथ बॉलीवुड में कदम रखा, कॅरियर की शुरूआत कर रही किसी भी अनिभेत्री के लिए इस रोल का चयन एक बड़ी चुनौती था. उन्हें सर्वश्रेष्ठ सह-अभिनेत्री के फिल्मफेयर पुरस्कार से नवाजा गया.
पसंद हैः उन्हें दक्षिण भारतीय खाना बेहद पसंद है और उसमें भी रसम और सांभर. वे इसे बेहतर ढंग से बनाना भी जानती हैं.
आने वाली फिल्में: शंघाई में वे राजनीति के दुष्चक्र में फंसी कॉलेज छात्रा और माय फ्रेंड पिंटो में एक मासूम बाला के रोल में हैं.

''मैं कंपीटीशन की किसी अंधी दौड़ का हिस्सा नहीं हूं. मेरा लक्ष्य सिर्फ अच्छी अदाकारी करना ही है.''- कल्कि केकलन
''कल्कि का सारा संघर्ष यही है कि उन्हें विदेशी के तौर पर कतई न देखा जाए.''- अनुराग कश्यप, निर्देशक

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay