एडवांस्ड सर्च

खुद को अबला नारी न समझें: गिनी

उड़ान की जिनी विर्दी उर्फ रंजना को लगता है कि औरतों को हर जगह हल्के में लिया जाता है और कमजोर समझा जाता है. जिनी कहती हैं, “मेरा यह संदेश सभी औरतों के लिए है, कभी नाइंसाफी बर्दाश्त न करें."

Advertisement
aajtak.in
नरेंद्र सैनी [Edited by: रोहित उपाध्याय]नई दिल्ली, 01 August 2015
खुद को अबला नारी न समझें: गिनी जिनी विर्दी (फाइल फोटो)

मशहूर टीवी सीरियल 'उड़ान' की जिनी विर्दी उर्फ रंजना ने औरतों के बारे में एक बयान दिया है. रंजना के मुताबिक औरतों को हर मामले में कम आंका जाता है और कमजोर समझा जाता है.

जिनी कहती हैं, 'मेरा यह संदेश सभी औरतों के लिए है, कभी नाइंसाफी बर्दाश्त न करें. अगर आपके साथ कुछ गलत हो रहा है या आपके आसपास कुछ ऐसा हो रहा है जो गलत है तो अपनी आवाज बुलंद करें. खुद को अबलानारी न समझें. औरतें धरती की सबसे शक्तिशाली रचना है.'

वैसे तो लोग नारी उत्थान के बारे में काफी समय से अपनी आवाज मुखर करते आए हैं लेकिन फिलहाल तो बदलाव नजर नहीं आया है. फिर भी रंजना जी आपकी सोच बढ़िया है, इसे ऐसे ही कायम रखिएगा.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay