एडवांस्ड सर्च

16 साल की उम्र में शाहिद कपूर से पहली बार मिली थी मीरा राजपूत, बताया कैसा था अनुभव

शाहिद कपूर और मीरा राजपूत हैप्पी मैरिड लाइफ एंजॉय कर रहे हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि मीरा एक्टर से 16 साल की उम्र में पहली बार मिली थीं. इंस्टाग्राम पर फैन के सवाल का जवाब देते हुए मीरा ने इसका खुलासा किया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 06 February 2019
16 साल की उम्र में शाहिद कपूर से पहली बार मिली थी मीरा राजपूत, बताया कैसा था अनुभव मीरा राजपूत,शाहिद कपूर (इंस्टाग्राम)

शाहिद कपूर और मीरा राजपूत की जोड़ी बॉलीवुड की मोस्ट पॉपुलर जोड़ियों में से है. दोनों ने 7 जुलाई 2015 को अरेंज्ड मैरिज की. कपल की उम्र में 13 साल का फासला है. उनके दो बच्चे भी हैं. वे अपनी हैप्पी मैरिड लाइफ एंजॉय कर रहे हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि मीरा एक्टर से 16 साल की उम्र में पहली बार मिली थीं. इंस्टाग्राम पर 'Ask Me A Question' सेशन में मीरा राजपूत ने इस बात का खुलासा किया.

दरअसल, एक फैन ने उनसे सवाल किया कि शाहिद कपूर से पहली बार मुलाकात करते हुए कैसा लगा था, ये जानते हुए कि वो स्टार हैं? जवाब में मीरा ने कहा- ऐसा ही लगा जैसा किसी से पहली बार मिलते हुए लगता है. उन्होंने इस मुलाकात को मजेदार बताया. मीरा ने ये भी खुलासा किया कि ''ये तब हुआ था जब मैं 16 साल की थी. हम कॉमन फैमिली फ्रेंड के घर सूफी सिंगर के कंसर्ट के लिए साथ थे. हम दोनों के पिता इस तरह का संगीत पसंद करते हैं.''

View this post on Instagram

😘

A post shared by Mira Rajput Kapoor (@mira.kapoor) on

शाहिद कपूर और मीरा राजपूत शानदार केमिस्ट्री शेयर करते हैं. एक इंटरव्यू मे एक्टर ने कहा था कि मीरा और मेरी उम्र में 13 साल का अंतर है, लेकिन उनकी पत्नी संग अच्छी पटती है. वे घंटों तक एक-दूसरे से बात कर सकते हैं.

View this post on Instagram

Kite flying with Baba! It’s a happy Independence Day! 🌈💖

A post shared by Mira Rajput Kapoor (@mira.kapoor) on

View this post on Instagram

Find someone you can hug, kiss and kick. And then don’t ever let them go 💋

A post shared by Mira Rajput Kapoor (@mira.kapoor) on

इस सेशन के दौरान एक फैन ने मीरा से बड़ा ही मजेदार सवाल करते हुए पूछा कि उन्होंने मीशा को भाई जैन के आने के लिए कैसे तैयार किया?

मीरा ने जवाब दिया, "हमने मीशा से इस बारे में खूब बातें कीं. हमने उसे इस प्रक्रिया का हिस्सा बनने दिया, जो कि वह आज तक बनी हुई है. मां की मदद करना, उनके लिए एक ग्लास पानी लाना हो या जैन के रोने पर उसे चुप कराना हो. हमने मीशा को यह महसूस करने दिया कि यह उसका बच्चा है और उसे किसी वयस्क की तरह महसूस कराया.''

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay