एडवांस्ड सर्च

स्टेट लेवल पर खेल चुके इस नामी डायरेक्टर को छोड़ना पड़ा था क्रिकेट

विशाल के पापा राम भारद्वाज ने भी फिल्मों में गाने लिखे हैं. विशाल ने 17 साल की उम्र में पहला गाना कंपोज किया था.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: पुनीत उपाध्याय]नई दिल्ली, 04 August 2018
स्टेट लेवल पर खेल चुके इस नामी डायरेक्टर को छोड़ना पड़ा था क्रिकेट विशाल भारद्वाज

विशाल भारद्वाज का जन्म 4 अगस्त, 1965 को उत्तरप्रदेश के बिजनौर के नजदीक चांदपुर गांव में हुआ था. विशाल के पापा राम भारद्वाज ने भी फिल्मों में गाने लिखे हैं. विशाल ने 17 साल की उम्र में पहला गाना कंपोज किया था.

विशाल म्यूजिक डायरेक्टर, फिल्म डायरेक्टर, लेखक के अलावा क्रिकेट के भी अच्छे खिलाड़ी थे. उन्होंने अंडर-19 टीम और स्टेट लेवल के लिए क्रिकेट खेली भी है. एक क्रिकेट टूर्नामेंट के शुरू होने के एक दिन पहले उनके अंगूठे में चोट लग गई और वो आगे क्रिकेट नहीं खेल पाए. क्रिकेट के अलावा वो एक उम्दा टेनिस प्लेयर भी थे.

बीमारी में भी काम कर रहे हैं इरफान, लंदन में देखी कारवां

विशाल ने अपनी पढ़ाई दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदू कॉलेज से की. कॉलेज के एनुअल फंक्शन में  उनकी मुलाकात रेखा भरद्वाज से हुई. वो उनसे 1 साल सीनियर थीं.  विशाल म्यूजिक में करियर बनाने के लिए मुंबई आ गए. फिल्म बनाने को लेकर उनका रुझान क्विंटिन टारनटीनो की फिल्म पल्प फिक्शन को देख कर आया.

विशाल ने साल 2002 में फिल्म मकड़ी से अपने फिल्म निर्देशन की शुरुआत की. साल 1998 में सत्या और साल 1999 में गुलजार की आखिरी निर्देशित फिल्म हू तू तू का म्यूजिक दिया. 1999 की फिल्म गॉडमदर के लिए उन्हें बेस्ट म्यूजिक डायरेक्टर के नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया. इसके अलावा फिल्म हैदर के लिए भी उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला.

इरफान का इंतजार करेंगे विशाल भारद्वाज, कहा- बंद नहीं होगी फिल्म

मकड़ी के बाद विशाल ने दि ब्ल्यू अम्बरेला, मकबूल, ओमकारा और हैदर जैसी सफल फिल्मों का निर्देशन किया. इसके अलावा उन्होंने यू मी और हम, नो स्मोकिंग, कमीने, सात खून माफ और स्ट्राइकर जैसी फिल्म में गाने भी गाए.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay